लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   World ›   Pakistan to implement new taxes by enacting a law in the Parliament! over IMF bailout package

Pakistan: संसद में कानून बनाकर नए कर लागू कर सकती है शरीफ सरकार! IMF को सता रही विपक्ष की चिंता

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, पाकिस्तान Published by: प्रांजुल श्रीवास्तव Updated Wed, 01 Feb 2023 03:01 PM IST
सार

सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तान सरकार राष्ट्रपति के अध्यादेश को लागू करने की योजना बना रही थी, लेकिन अगर आईएमएफ की चिंता बनी रहती है, तो वह संसद का एक अधिनियम ला सकती है।

पाकिस्तान आर्थिक संकट
पाकिस्तान आर्थिक संकट - फोटो : Agency (File Photo)

विस्तार

नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान को लेकर अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने चिंता व्यक्त की है। आईएमएफ अधिकारियों ने कहा है कि पाकिस्तान की विपक्षी पार्टियां शहबाज शरीफ सरकार के कठिन आर्थिक फैसलों को लागू करने की राह में बाधा बन सकती हैं।  



यह बात तब सामने आई है, जब आईएमएफ के अधिकारियों ने मंगलवार को वित्त मंत्री इशाक डार से मुलाकात की है। बता दें, आईएमएफ की टीम आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान के लिए बेलआउट पैकेज कार्यक्रम को लेकर पाकिस्तान पहुंची है। 


वित्त मंत्री ने दिया आश्वासन 
हालांकि, पाकिस्तान के वित्तमंत्री इशाक डार ने कहा है कि उनकी सरकार राजनीतिक संवाद पर विश्वास करती है और आईएमएफ की शर्तों के तहत कड़े फैसलों को लागू किया जाएगा, इसलिए चिंता की कोई बात नहीं है।

अधिनियम लागू कर सकती है सरकार 
सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि डार ने कहा कि सरकार अतिरिक्त करों को इस तरह से लागू करने की कोशिश करेगी, जिससे किसी भी तरह की कानूनी और राजनीतिक चुनौतियों से बचा जा सके। सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तान सरकार राष्ट्रपति के अध्यादेश को लागू करने की योजना बना रही थी, लेकिन अगर आईएमएफ की चिंता बनी रहती है, तो वह संसद का एक अधिनियम ला सकती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि नए करों को लागू करने में संसद को कम से कम 14 दिन लगेंगे।

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

क्षमा करें यह सर्विस उपलब्ध नहीं है कृपया किसी और माध्यम से लॉगिन करने की कोशिश करें

;

Followed

;