लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   World ›   Pakistan PM Imran Khan continues to support China on Xinjiang Uyghur Muslims despite the global bid

इमरान का चीन प्रेम: उइगर मुस्लिमों पर फिर आंख मूंद गए मुसलमानों के 'कथित' मसीहा, बोले- स्थिति वैसी भी नहीं

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, इस्लामाबाद Published by: प्रांजुल श्रीवास्तव Updated Mon, 14 Feb 2022 08:26 AM IST
सार

उइगर मुसलमानों के मानवाधिकारों पर आंख मूंद लेने वाले इमरान खान की अपनी मजबूरी है। दरअसल, पाकिस्तान पिछले कुछ सालों में चीन पर आर्थिक, कूटनीतिक और सैन्य रूप से निर्भर हो चुका है। आर्थिक संकट का सामना कर रहे पाकिस्तान की यह निर्भरता बढ़ती ही जा रही है।

पाकिस्तान चीन
पाकिस्तान चीन - फोटो : Twitter
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

दुनियाभर के मुसलमानों के मसीहा बनने वाले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान चीन में उइगर मुस्लिमों के मसले पर अक्सर चुप दिखाई देते हैं। यहां पर उनका दोहरा चरित्र सबके सामने आ जाता है। एक बार फिर इमरान खान ने आंख मूंदते हुए झिंजियांग में उइगर मुसलमानों के मसले पर चीन का बचाव किया है। उन्होंने कहा कि पश्चिमी मीडिया ने जैसा दिखाया है, उइगर मुसलमानों की स्थिति वैसी नहीं है। 



एक साक्षात्कार के दौरान इमरान खान ने अपने सहयोगी चीन का बचाव करते हुए कहा कि चीन में पाकिस्तान के राजदूत मोइनुल हक ने झिंजियांग उइगर स्वायत्त क्षेत्र का दौरा किया था। उन्होंने बताया कि यहां की स्थिति वैसी नहीं है, जैसी पश्चिमी मीडिया द्वारा चित्रित की गई है। 


क्यों आंख मूंद कर चीन का समर्थन कर रहे इमरान 
दरअसल, चीन में ओलंपिक होने जा रहे हैं। हालांकि, इससे पहले पश्चिमी देशों ने उइगर मुसलमानों के शोषण को लेकर चीन को घेरना शुरू कर दिया है। ऐसे में बीजिंग ने अपने सहयोगी देश पाकिस्तान से इस मसले पर समर्थन मांगा था, जिसके बाद उइगर मुसलमानों के दमन और शोषण के बाद भी इमरान आंख मूंद कर चीन का समर्थन  कर रहे हैं। इसके पीछे पाकिस्तान का चीन पर आर्थिक, कूटनीतिक और सैन्य निर्भरता है। दरअसल, आर्थिक संकट से जूझ रहा पाकिस्तान चीन पर बहुत हद तक निर्भर हो चुका है। उसने चीन से बड़ा कर्ज भी ले रखा है। 

वैश्विक समुदाय कर चुका है कार्रवाई की मांग
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने उइगर मुसलमानों पर चीन का समर्थन ऐसे समय पर किया है, जब वैश्विक समुदाय इस मसले पर चीन पर कार्रवाई की मांग कर चुका है। दरअसल, 243 वैश्विक समूहों ने मानवाधिकारों के हनन को लेकर चीन के खिलाफ कार्रवाई का आह्वान किया था।

भारत पर टिप्पणी से बाज नहीं आए इमरान 
उइगर मुसलमानों के साथ चीन के व्यवहार के बारे में सवाल पर इमरान खान ने भारत की ओर इशारा किया। कहा कि, भारत द्वारा कश्मीर में निर्दोष लोगों का नरसंहार करने की पाकिस्तान की निंदा और झिंजियांग मुद्दे की तुलना उचित नहीं है। कश्मीर, पाकिस्तान और भारत के बीच एक विवादित क्षेत्र है और भारत पर आरएसएस की विचारधारा का शासन है। जब तक कश्मीर मुद्दा सुलझ नहीं जाता, तब तक दो परमाणु शक्तियों के बीच युद्ध की आशंका बनी रहेगी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00