विज्ञापन
विज्ञापन

NCRB रिपोर्ट: देश में अपहरण के मामले बढ़े, हत्या की घटनाओं में आई कमी, दिल्ली बनी 'क्राइम कैपिटल'

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Tue, 22 Oct 2019 12:03 AM IST
NCRB Data
NCRB Data - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो ने एक साल की देरी के बाद आखिरकार सोमवार को 2017 के आंकड़े जारी किए गए। इसके मुताबिक देशभर में संज्ञेय अपराध के 50 लाख केस दर्ज हुए, जो कि 2016 से 3.6 फीसदी ज्यादा है। इस दौरान हत्या के मामलों में 3.6 फीसदी की कमी आई है। जबकि अपहरण के मामले नौ फीसदी बढ़ गए।
विज्ञापन
ताजा आंकड़ों के मुताबिक 2016 में हत्या के 30,450 मामले दर्ज हुए थे, वहीं, 2017 यह आंकड़ा 28,653 रहा। जबकि 2016 में अपहरण और फिरौती के 88,008 केस थे जो 2017 में बढ़कर 95,893 हो गए। इन मामलों में 1,00,555 लोग पीड़ित हुए। केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन आने वाला एनसीआरबी 1954 से लगातार अपराध के आंकड़े जारी कर रहा है।
 

आईपीसी केस : देश का 10 फीसदी यूपी में

आईपीसी के तहत देश में कुल 30,62,579 केस दर्ज हुए, जबकि 2016 में यह आंकड़ा 29,75,711 था। इस हिसाब से 86,868 केस ज्यादा दर्ज हुए हैं। राज्यों की बात करें तो इस मामले में यूपी सबसे ऊपर है जहां 3,10,084 केस दर्ज हुए जो देश का 10.1 फीसदी है। यूपी के बाद महाराष्ट्र (9.4), मध्य प्रदेश (8.8), केरल (7.7) और दिल्ली (7.6) हैं।

अपहरण : यूपी में चार हजार केस बढ़े

देश में दर्ज अपहरण के कुल मामलों में से 20.8 फीसदी केवल यूपी के हैं। देश के सबसे बड़े सूबे में 2016 में अपहरण के 15,898 केस हुए। 2017 में यह आंकड़ा 4023 केस बढ़कर 19,921 हो गया। यूपी के बाद महाराष्ट्र (10,324), बिहार (8479), असम (7857), दिल्ली (6095) हैं। खास बात यह है कि दिल्ली में अपहरण के मामलों में कमी आई है। 2016 में यह आंकड़ा 6619 था जो 2017 में 6095 रहा।

बच्चों के खिलाफ अपराध 28 फीसदी बढ़ा

2016 में 1,06,958 केस दर्ज हुए जो 2017 में करीब 28 फीसदी बढ़कर 1,29,032 हो गए। इस मामले में यूपी पहले पायदान पर है, जहां ऐसे मामले 2016 की अपेक्षा 19 फीसदी ज्यादा दर्ज हुए। यूपी में 19145, मप्र में 19038, महाराष्ट्र में 16918, दिल्ली में 7852 और छत्तीसगढ़ में 6518 केस दर्ज हुए।

हत्या के मामले: यूपी में घटे, तो बिहार में बढ़े 

एनसीआरबी के आंकड़ों के मुताबिक, 2017 में हत्या के कुल 28653 मामले दर्ज किए गए। उत्तर प्रदेश में 2016 की तुलना में इनमें कमी आई है, वहीं बिहार में यह आंकड़ा बढ़ा है। हालांकि इसके बावजूद 2017 में उत्तर प्रदेश इस मामले में शीर्ष पर रहा। वहीं केंद्र शासित प्रदेशों में दिल्ली में सबसे ज्यादा हत्या के केस दर्ज हुए।  

 
शीर्ष पांच राज्य 

राज्य               केस (2017)      केस (2016)

उत्तर प्रदेश          4324               4889
बिहार               2803               2581 
महाराष्ट्र             2103               2299
मध्य प्रदेश           1908               2004
तमिलनाडु           1560               1603 
दिल्ली              487                  528 

 

एससी के खिलाफ देश में बढ़े अपराध

अनुसूचित जनजाति (एससी) के खिलाफ ज्यादातर राज्यों में 2017 में अपराध और उत्पीड़न के मामले बढ़े हैं। इस सूची में उत्तर प्रदेश सबसे ऊपर है, जबकि राजस्थान, आंध्र प्रदेश, पंजाब में इनमें कमी आई है। इस दौरान देश में कुल 43203 केस दर्ज किए गए। 


शीर्ष पांच राज्य 

राज्य                   केस (2017)       केस (2018)
उत्तर प्रदेश              11444              10426 
बिहार                   6746                5701
मध्य प्रदेश              5892                4922 
राजस्थान               4238                5134 
ओडिशा                 1969               1796 

 

भ्रष्टाचार के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र में, कर्नाटक में तेजी से चढ़ा ग्राफ   
आंकड़ों के मुताबिक, 2017 में भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम व संबंधित धाराओं में कुल 4062 मामले दर्ज हुए। इनमें सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र में दर्ज हुए। हालांकि सबसे ज्यादा बढ़ोतरी कर्नाटक में हुई। वहीं सिक्किम एकमात्र ऐसा राज्य रहा जहां एक भी केस दर्ज नहीं हुआ। 


शीर्ष पांच राज्य 

राज्य                केस (2017)            केस (2016)
महाराष्ट्र              925                        1016 
ओडिशा              494                         569 
राजस्थान             404                         387 
कर्नाटक              289                         25 
तमिलनाडु            257                        170
 

 

आर्थिक अपराधों में राजस्थान अव्वल 


वहीं, आर्थिक अपराधों की बात करें तो 2017 में कुल 148972 मामलों में सबसे ज्यादा केस राजस्थान में दर्ज किए गए, जबकि सबसे ज्यादा यहां बढ़ोत्तरी तेलंगाना में दर्ज हुई।


शीर्ष पांच राज्य 

राज्य              केस (2017)                 केस (2016)

राजस्थान           21645                         23589
उत्तर प्रदेश         20717                        15765
महाराष्ट्र            13941                         13008 
तेलंगाना            10840                        9286 
पश्चिम बंगाल      10052                         9663 


तेजी से बढ़े साइबर अपराध 

एनसीआरबी के मुताबिक, देशभर में साइबर अपराध के आंकड़े तेजी से बढ़े हैं। 2016 में जहां कुल 12137 मामले दर्ज हुए थे, वहीं 2017 में 21796 केस दर्ज किए गए। 

 

शीर्ष पांच राज्य: 
 
राज्य             केस (2017)                   केस (2016)

उत्तर प्रदेश         4971                             2639
महाराष्ट्र            3604                             2380
कर्नाटक            3174                             1101
राजस्थान           1304                              941
तेलंगाना            1209                              593


NCRB रिपोर्ट : साइबर क्राइम में यूपी नंबर 1, तीन सालों में दर्ज हुए 9,818 मामले

विज्ञापन

Recommended

सफलता क्लास ने सरकारी नौकरियों के लिए शुरू किया नया फाउंडेशन कोर्स
safalta

सफलता क्लास ने सरकारी नौकरियों के लिए शुरू किया नया फाउंडेशन कोर्स

इस काल भैरव जयंती पर कालभैरव मंदिर (दिल्ली) में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 19-नवंबर-2019
Astrology Services

इस काल भैरव जयंती पर कालभैरव मंदिर (दिल्ली) में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 19-नवंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

अयोध्या फैसला: पीठ का हिस्सा रहे जस्टिस नजीर को मिली धमकी, सरकार ने दी जेड श्रेणी की सुरक्षा

अयोध्या मामले पर सुनवाई करने वाले सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की संवैधानिक पीठ का हिस्सा रहे जस्टिस अब्दुल नजीर और उनके परिवार वालों को ड श्रेणी की सुरक्षा दी गई है।

17 नवंबर 2019

विज्ञापन

मेकअप को लेकर रानू मंडल सोशल मीडिया पर हुईं ट्रोल

रानू मंडल की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं जिसमें उन्होंने ज्यादा मेकअप किया है और अब लोग इस पर कमेंट कर रहे हैं।

17 नवंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election