विज्ञापन

आईसीजे आदेश पर म्यांमार बोला- रोहिंग्या नरसंहार के आरोप गलत, बांग्लादेश ने फैसले पर खुशी जताई

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, ढाका/नेपितो Updated Fri, 24 Jan 2020 07:54 PM IST
विज्ञापन
कुलभूषण जाधव
कुलभूषण जाधव - फोटो : SELF
ख़बर सुनें
म्यांमार ने गांबिया के आरोप का एक बार फिर खंडन किया है कि उसके यहां रोहिंग्या समुदाय के लोगों के नरसंहार की घटनाएं हुई हैं। म्यांमार को दिए गए अंतर्राष्ट्रीय अदालत (आईसीजे) के आदेश के बाद म्यांमार ने कहा है कि उसकी सरकार ने इन आरोपों की पहले ही जांच कराई है और मानवाधिकार संगठनों की ओर से लगाए जा रहे रोहिंग्या नरसंहार के आरोप को बेबुनियाद पाया है।
विज्ञापन
लेकिन म्यांमार ने यह जरूर माना कि युद्ध के दौरान होने वाले अपराध, मानवाधिकारों की गंभीर अनदेखी और गैरकानूनी गतिविधियों की शिकायतें जरूर सही पाई गई हैं।

गौरतलब है कि आईसीजे ने गुरुवार को म्यांमार को आदेश दिया था कि वह रोहिंग्या समुदाय और खासकर रोहिंग्या मुसलमानों की सुरक्षा की गारंटी दे, उनके मानवाधिकारों की रक्षा करे और कथित नरसंहार रोके। म्यांमार के विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि आईसीजे के सामने अपना पक्ष रखते हुए म्यांमार की तरफ से वह सारे तथ्य रखे गए थे कि गांबिया की ओर से रखाइन प्रांत में 2016-17 में रोहिंग्या मुसलमानों के नरसंहार के आरोप सही नहीं हैं।

बयान में कहा गया है कि म्यामांर की शुरू से ही ये कोशिश रही थी कि आईसीजे को उन तमाम आरोपों के बारे में सही तथ्य बताकर गुमराह होने से बचाया जा सके। 

बांग्लादेश ने आदेश को मानवता की जीत बताया

बांग्लादेश ने आईसीजे के फैसले पर खुशी जताते हुए इसे अल्पसंख्यक समुदाय की जीत बताया है। बांग्लादेश के विदेश सचिव मसूद बिन मोमेन और पूर्व विदेश सचिव मोहम्मद शहीदुल हक ने आईसीजे के आदेश के बाद एक कार्यक्रम में इस फैसले की तारीफ की और कहा कि बांग्लादेश लगातार म्यांमार और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सामने यह मामला उठाता रहा है और ढाका के कॉक्स बाजार में रह रहे रोहिंग्या मुसलमानों को वापस लेने के लिए म्यामार प दबाव डालता रहा है।

सेंटर फॉर जेनोसाइड स्टडी की ओर से आयोजित एक सेमिनार में हिस्सा लेते हुए बांग्लादेशी अधिकारियों ने जोर देकर कहा कि आईसीजे का फैसला तात्कालिक तौर पर रोहिंग्या समुदाय के कथित नरसंहार को रोकने में फायदेमंद होगा।

विदेश सचिव ने ये भी कहा कि इस फैसले से रोहिंग्या के अलावा अन्य किसी भी वर्ग पर हो रहे जुल्म और नरसंहार की कार्रवाइयों को रोकने में मदद करेगा। इससे उत्तरी रखाइन प्रांत में रह रहे रोहिंग्या समुदाय को राहत देगा और बेशक इससे उनकी सुरक्षा बढ़ेगी।

उन्होंने म्यांमार से आग्रह किया कि वह आईसीजे के आदेश का सम्मान करे और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के प्रति अपना सकारात्मक रवैया अपनाए ताकि बांग्लादेश में मुश्किल हालातों में रह रहे रोहिंग्या शरणार्थियों की घर वापसी हो सके। एक बार म्यांमार इस दिशा में सकारात्मक कदम उठाए तो रोहिंग्या मुसलमानों के लौटने की प्रक्रिया शुरू हो सकेगी।

हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इतने शरणार्थियों की वापसी प्रक्रिया आसान नहीं है, इसके बावजूद बांग्लादेश और म्यांमार अगर मिलकर कोई कारगर रास्ता अपनाएं, तो ऐसा हो सकता है। ऐसे में हमें बिना किसी पूर्वाग्रह के मिलकर काम करने की जरूरत है।

पूर्व विदेश सचिव शहीदुल हक ने भी कहा कि आईसीजे का फैसला ऐसे वक्त में आया है जब यूएन भी रोहिंग्या को एक जातीय नजरिये से देखने से बचता रहा है।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us