विज्ञापन

जापान अन्य राष्ट्र से नहीं कर सकता युद्ध, आबे नए सिरे से लिखना चाहते हैं संविधान

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 14 Sep 2018 03:12 PM IST
शिंजो आबे
शिंजो आबे
विज्ञापन
ख़बर सुनें

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे अगले सप्ताह सत्ताधारी पार्टी के नेता के रूप में तीसरी बार चुने जाने की पुरजोर कोशिश में लगे हैं ताकि वह सत्ता में आकर युद्ध नहीं करने की बात करने वाले देश के संविधान को बदल सकें। गौरतलब है कि जापान के मौजूदा संविधान के एक प्रावधान के तहत देश ना तो किसी अन्य राष्ट्र से युद्ध कर सकता है और नाहीं वह अपनी सेना रख सकता है।

विज्ञापन
खबरों की माने तो आबे को लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी के 70 प्रतिशत सांसदों का समर्थन हासिल हो गया है और अगर वह जीतते हैं तो संविधान बदलने की संभावना पर उन्हें तीन और साल काम करने का मौका मिलेगा। हालांकि उन्हें अर्थव्यवस्था और अन्य प्राथमिकताओं के मोर्चों पर भी काम करना होगा।

आबे 20 सितंबर के चुनाव से पहले अगले गुरुवार को होने वाली एकमात्र सार्वजनिक बहस में पूर्व रक्षा मंत्री शीगेरु इशिबा का सामना करेंगे। आबे 2012 से जापान के प्रधानमंत्री हैं और वह ऐतिहासिक तीसरे कार्यकाल के साथ जापान में सबसे लंबे समय तक सत्ता में रहने वाले नेता भी बन सकते हैं।
(इनपुट-भाषा)

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

World

कनाडा में मिल सकती है आसिया बीबी को पनाह, ट्रूडो कर रहे हैं पाकिस्तान से बातचीत

जस्टिन ट्रूडो ने कहा, आसिया बीबी को आश्रय देने के लिए पाकिस्तान से चल रही है बातचीत।

13 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

6 हजार साल पुरानी बिल्लियों की ममी ने डाला हैरत में

इजिप्ट की राजधानी कायरो में एक साथ 7 मकबरे मिले थे। जिसे खोलने के बाद उनमें से बिल्लियों के दर्जनों सुरक्षित ममी मिली हैं। इन बिल्लियों की बॉडी काफी हद तक सुरक्षित थी। मकबरों को खोलते ही साइंटिस्ट भी हैरत में पड़ गए।

13 नवंबर 2018

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree