लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   World ›   Imrans love for Taliban: Favored even in SCO meeting, sought cooperation from the world citing humanitarian crisis

इमरान का तालिबान प्रेम : एससीओ की बैठक में भी की तरफदारी, मानवीय संकट बताकर दुनिया से मांगा सहयोग

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, इस्लामाबाद Published by: सुरेंद्र जोशी Updated Fri, 17 Sep 2021 04:16 PM IST
सार

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान तालिबान के बड़े मददगार बन उभरे हैं। यही कारण है कि वे हर मौके पर तालिबान के पक्ष में खड़े नजर आते हैं। शुक्रवार को शंघाई सहयोग संगठन की बैठक में भी उन्होंने तालिबान के लिए दुनिया से मदद की गुहार लगाई। 
 

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान
पाकिस्तान के पीएम इमरान खान - फोटो : पीटीआई
विज्ञापन

विस्तार

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने शुक्रवार को शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक में भी तालिबान की तरफदारी की। उन्होंने कहा कि दुनिया को अफगानिस्तान की मदद करनी होगी। अफगानिस्तान को बाहर से नियंत्रित नहीं किया जा सकता है। हमारी ओर से अफगानिस्तान को मदद जारी रहेगी। इमरान ने यह भी कहा कि तालिबान को भी अपनी ओर से किए गए वादों को पूरा करना होगा। 



पहले भी कई बार तालिबान के प्रति अपने प्रेम को जाहिर कर चुके इमरान खान ने एससीओ की 20 वीं बैठक में कहा कि अफगानिस्तान में मानवीय संकट को टालने के लिए वैश्विक स्तर पर मदद करनी होगी। तालिबान का बचाव करते हुए पाक पीएम ने कहा कि फिलहाल अफगानिस्तान की सरकार विदेशी मदद पर निर्भर है। शांतिपूर्ण और स्थिर अफगानिस्तान से पाकिस्तान के भी हित जुड़े हैं और इसके लिए हम काम करते रहेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि अफगानिस्तान में कोई बाहरी दखल नहीं होना चाहिए।




दोबारा संघर्ष भड़कने से रोकना होगा
इमरान खान ने अपने भाषण में यह भी कहा कि काबुल में तालिबान द्वारा सत्ता पर काबिज होने के बाद नई सचाई सामने आई है। अब विश्व समुदाय की जिम्मेदारी है कि वहां दोबारा संघर्ष न छिड़े और सुरक्षा को खतरा उत्पन्न न हो। इसके साथ ही वह आतंकियों का पुन: सुरक्षित ठिकाना न बने, यह भी विश्व समुदाय को सुनिश्चित करना होगा। 

मुद्राकोष ने भी दिया तालिबान को झटका
तालिबान ने 15 अगस्त को अफगानिस्तान पर कब्जा जमा लिया है। उसके बाद से देश में अशांति बनी हुई है। ऐसे में अमेरिका ने अपने फेडरल बैंक में जमा अफगानिस्तान की नौ अरब डॉलर की पूंजी को फ्रीज कर दिया है। दूसरी ओर अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष यानी आईएमएफ ने अफगानिस्तान से संबंधों को खत्म कर लिया है। ऐसे में जब तक तालिबान सरकार को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता नहीं मिलेगी, तब तक उसके संसाधनों तक उसकी पहुंच नहीं होगी। 

पीएम मोदी ने दिखाया कट्टरपंथियों को आईना
एससीओ की बैठक को शुक्रवार सुबह पीएम मोदी ने संबोधित किया। अपने भाषण में उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में सबसे बड़ी चुनौतियां शांति, सुरक्षा और विश्वास की कमी है। क्षेत्र की समस्याओं का मूल कारण बढ़ती कट्टरता है। कट्टरपंथ ने चुनौती को और अधिक स्पष्ट कर दिया है। एससीओ को इस्लाम से जुड़े उदारवादी, सहिष्णु तथा एवं समावेशी संस्थानों और परंपराओं के बीच मजबूत सम्पर्क विकसित करने के लिए काम करना चाहिए।

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00