विज्ञापन

सऊदी अरब का परमाणु सपना और अमेरिका की परेशानी

बीबीसी, हिन्दी Updated Thu, 01 Mar 2018 08:01 AM IST
Nuclear dream of Saudi Arabia  and the tension of USA
विज्ञापन
ख़बर सुनें
सऊदी अरब अपने रेगिस्तान में दो बड़े परमाणु रिएक्टर बनाना चाहता है। इस वजह से कई बड़े देश अपनी कंपनियों को करोड़ों डॉलर का ये कॉन्ट्रैक्ट दिलाने की होड़ में उलझ गए हैं।
विज्ञापन
अमरीका उन देशों में से एक है जो परमाणु योजनाओं में सऊदी अरब का मुख्य सहयोगी बनना चाहता है। लेकिन उसके रास्ते में एक अड़चन ये है कि सऊदी अरब परमाणु हथियारों के बढ़ाने को लेकर लगाई जा रही बंदिशों को मानने से इनकार करता रहा है।

इस वजह से डोनल्ड ट्रंप प्रशासन के लिए एक असहज स्थिति पैदा हो गई है जो परमाणु गतिविधियों को लेकर ईरान जैसे देश के खिलाफ सख्त रवैया अपनाए हुए हैं। उम्मीद की जा रही है कि सऊदी अरब आने वाले हफ्तों में इस योजना के लिए उम्मीदवार देशों की कंपनियों के नामों की घोषणा करेगा।

सुरक्षा या कॉन्ट्रैक्ट? 

इनमें अमरीका के सहयोगी जैसे दक्षिण कोरिया और फ्रांस भी शामिल हैं। हालांकि जिन देशों की कंपनियों को कॉन्ट्रैक्ट मिलने की उम्मीद ज्यादा है, उनमें चीन और रूस आगे हैं और जिन्हें अमरीका अपना मुख्य प्रतिद्वंद्वी मानता है।

अमरीका की तकनीकी दक्षता की वजह से वो इस काम के लिए एक बेहतरीन उम्मीदवार है। तेल का सबसे बड़ा निर्यातक देश सऊदी अरब इसके जरिए ऊर्जा के लिए तेल पर अपनी निर्भरता कम करना चाहता है। इसके अलावा जानकारों का मानना है कि सऊदी अरब के सामने उसके सबसे बड़े प्रतिद्वंद्वी देश ईरान के परमाणु कार्यक्रम का मुद्दा है।

परमाणु सुरक्षा नियम

सऊदी अरब को लगता है कि परमाणु रिएक्टरों के जरिए वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी इज्जत बढ़ा सकता है। लेकिन एक तथ्य ये भी है कि चीन और रूस के साथ सऊदी के अच्छे व्यापारिक संबंध हैं और वे सऊदी को अमरीका से कम शर्तों पर परमाणु कार्यक्रमों में सहयोग दे सकते हैं।

खुद को मुकाबले में बनाए रखने के लिए अमरीका को अपने परमाणु सुरक्षा नियमों में थोड़ी ढील देने की जरूरत है। ये डील अमरीका की मर रही परमाणु रिएक्टर इंडस्ट्री को फिर से जिंदा करने के लिए एक अच्छा कदम साबित हो सकती है। खासकर उस सूरत में जब पिछले साल ही अमरीका की परमाणु कंपनी वेस्टिंगहाउस बर्बाद हो गई थी।


अमरीका की दिक्कत

लेकिन अगर अमरीका इस ठेके के लिए अपने नियमों में ढील देता है तो ये परमाणु गतिविधियों को बढ़ाए जाने के खिलाफ उसकी प्रतिबद्धता को भी खतरे में डाल देगा। कुछ जानकार अमरीका के इस प्रोजेक्ट में शामिल होने पर सवाल तो उठाते हैं।

लेकिन साथ ही वे ये मानते हैं कि अमरीका का इस प्रोजेक्ट से जुड़ना ज्यादा फायदेमंद है बजाय इसके कि कोई और देश ये हासिल कर ले जो अमरीका का सहयोगी नहीं है।

ट्रंप प्रशासन में परमाणु अप्रसार और हथियार नियंत्रण विभाग के पूर्व सलाहकार रॉबर्ट आइनहोर्न ने वॉशिंगटन पोस्ट अखबार से कहा, "मैं सऊदी अरब में रूस या चीन की बजाय अमरीका के परमाणु रिएक्टरों से जुड़ना ज्यादा पसंद करूंगा।"

क्या है एग्रीमेंट 123

वॉशिंगटन इंस्टीट्यूट फॉर नियर ईस्ट पॉलिसी में खाड़ी और ऊर्जा नीति कार्यक्रम के निदेशक साइमन हेंडरसन कहते हैं, "सऊदी अरब को बंदिशों को मानना ही होगा वरना संसद इस डील पर रोक लगा देगी।"

हेंडरसन ने याद दिलाया कि अमरीका के सांसदों की किसी भी देश के साथ होने वाले परमाणु समझौतों पर सहमति आवश्यक होती है। इस नियम के तहत ये भी बताया गया है कि क्या तकनीक बेची जा सकती है और उसका क्या इस्तेमाल हो सकता है।

अब तक अमरीका ने इस तरह के 20 से ज्यादा समझौते किए हैं जिन्हें 'एग्रीमेंट 123' के नाम से जाना जाता है। इसमें ये भी शामिल है कि किस देश पर किस स्तर की पाबंदियां होंगी।

यूएई से करार

इनमें वो समझौता भी शामिल है जो 2009 में संयुक्त अरब अमीरात के साथ किया गया था जिसमें यूएई पर यूरेनियम संवर्धन और उसकी रिप्रोसेसिंग पर पाबंदी लगी थी।

इसकी मदद से प्लूटोनियम बनाया जाता है जो परमाणु हथियार बनाने के लिए इस्तेमाल होता है। इस समझौते को 'गोल्डन स्टैंडर्ड' के नाम से जाना जाता है जो अमरीका के सबसे सख़्त समझौतों में से एक है। 

इसे दूसरे देशों के साथ किए जाने वाले समझौतों के लिए एक मॉडल माना जाता है। लेकिन सऊदी अरब ने इन मांगों के मानने से हमेशा इनकार किया है।

सऊदी अरब इस बात पर जोर देता है कि उसके परमाणु कार्यक्रम का उद्देश्य शांतिपूर्ण है और इसलिए वह यूरेनियम बढ़ाने के अपने अधिकार का बचाव करता है क्योंकि परमाणु तकनीक का इस्तेमाल सैन्य गतिविधियों के लिए नहीं हो रहा।

ईरान के साथ तुलना

खुद को जायज ठहराने के लिए सऊदी अरब उस समझौते का सहारा लेता है जो अमरीका ने उसके प्रतिद्वंद्वी देश ईरान के साथ 2015 में किया था। 

सऊदी के विदेश मंत्री अदेल अल जुबैर ने अमरीकी चैनल सीएनबीसी से कहा ,"हमारा मकसद है कि हमें भी दूसरे देशों जैसे ही अधिकार मिलें।" इस समझौते के बाद और आर्थिक पाबंदियों को हटाने के बदले में ईरान ने परमाणु क्षेत्र में अपनी कुछ गतिविधियों को कम कर लिया था। 

हालांकि फिर भी ईरान सख़्त सीमाओं में रहते हुए और अंतरराष्ट्रीय जांचों के बीच अपना यूरेनियम संवर्धन कार्यक्रम चलाने में कामयाब रहा है। ये समझौता जो बराक ओबामा प्रशासन के दौरान हुआ था, उसे अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप इतिहास में सबसे ख़राब समझौता मानते हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

'हथियारों के लिए लग जाएगी होड़'

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Gulf Countries

सरकार के खिलाफ आवाज उठाने वाली महिला कार्यकर्ता का सिर कलम करने की तैयारी, पहली बार होगा ऐसा

दिसंबर 2015 को सऊदी अरब के पूर्वी कातिफ प्रांत में सरकार विरोधी भूमिका निभाने वाली एक्टिविस्ट इसरा अल-गोमघम (29) की गिरफ्तारी के बाद अब उसे मृत्युदंड देने की तैयारी की जा रही है। 

23 अगस्त 2018

विज्ञापन

Related Videos

19 सितंबर NEWS UPDATES : एशिया कप में भारत-पाकिस्तान के बीच महामुकाबला समेत देखिए सारी खबरें

एशिया कप में टीम इंडिया के धुरंधर पाकिस्तान के खिलाफ विस्फोट करने को तैयार, तीन तलाक पर अध्यादेश को कैबिनेट की बैठक में मिली मंजूरी समेत देखिए देश-दुनिया की सारी खबरें अमर उजाला टीवी पर।  

19 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree