ट्रंप का रवैया किसी गंभीर बात का इशारा: एंजेला मर्केल, जी-7 के साझा बयान से खुद को किया था अलग

एजेंसी, क्यूबेक सिटी Updated Mon, 11 Jun 2018 11:09 AM IST
जी-7 समिट में सदस्य देशों के राष्ट्राध्यक्ष
जी-7 समिट में सदस्य देशों के राष्ट्राध्यक्ष - फोटो : REUTERS
ख़बर सुनें
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के जी-7 समिट को बीच में छोड़कर सिंगापुर चले जाने से विवाद खड़ा हो गया। जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने सोमवार को कहा कि ट्रंप का संयुक्त बयान में शामिल न होना निराशाजनक है। उन्होंने कहा कि ट्रंप का ये रवैया किसी गंभीर बात की ओर इशारा करता है। लेकिन अभी सबकुछ खत्म नहीं हुआ है। ट्रंप ने सिंगापुर के रास्ते पर विमान से ट्वीट कर साझा बयान में शामिल नहीं होने का ऐलान किया और अपनी नाराजगी जताई। यही नहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और मेजबान कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन त्रुदो टैरिफ के मुद्दों पर एक दूसरे के सामने आ गए। ट्रंप ने तो त्रुदो को कमजोर और बेईमान तक करार दिया। 
दुनिया के सात शक्तिशाली देशों का जी-7 सम्मेलन बड़े विवाद और वैश्विक व्यापार जंग के फिर से शुरू होने के खतरे के बीच खत्म हो गया। जी-7 में दरार के संकेत साझा बयान को राष्ट्राध्यक्षों द्वारा मंजूर किए जाने के कुछ देर बाद ही ट्रंप ने ट्वीट कर इससे खुद को अलग कर लिया और इस पर हस्ताक्षर करने से इनकार कर दिया। उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन से मुलाकात के लिए सिंगापुर रवाना हुए ट्रंप ने ट्वीट किया कि अमेरिका ने बयान पर हस्ताक्षर नहीं करने का निर्णय लिया है क्योंकि कनाडा और अन्य पश्चिमी-यूरोपीय देश अमेरिकी किसानों, वर्कर्स और कंपनियों पर भारी शुल्क लगा रहे हैं, जबकि प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसके लिए हमें दोषी बताया गया है। उन्होंने यह भी चेतावनी दी कि उनका प्रशासन अमेरिकी बाजारों में भरे पड़े ऑटो मोबाइल्स पर भी टैरिफ लगाने की सोच रहा है। 

जी-7 में ये देश हैं शामिल

अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान और कनाडा। पहले यह जी-8 के नाम से जाना जाता था लेकिन रूस को निलंबित करने के बाद अब 7 देश ही इसके सदस्य हैं।

क्या कहा था त्रुदो ने

दरअसल त्रुदो ने शनिवार को कहा था कि ट्रंप प्रशासन द्वारा कनाडा, यूरोपियन संघ और मैक्सिको से आयात होने वाले स्टील और एल्यूमिनियम पर लगाए गए शुल्क के बदले में अमेरिकी उत्पादों पर 1 जुलाई से शुल्क लगाया जाएगा। उन्होंने ट्रंप प्रशासन के फैसले को अमेरिकी सहयोगियों के साथ युद्ध में हिस्सा ले चुके कनाडा के सैन्य कर्मियों का अपमान बताया था और उत्तरी अमेरिकी मुक्त व्यापार समझौते और द्विपक्षीय व्यापार संधि के अमेरिका के प्रस्ताव को खारिज कर दिया था। इससे बिफरे ट्रंप ने त्रुदो के खिलाफ कई ट्वीट किए। 

अमेरिकी राष्ट्रपति ने ट्वीट में लिखा कि कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन त्रुदो ने जी-7 सम्मेलन के दौरान बहुत ही हल्का व्यवहार किया और कहा कि अमेरिका ने जो टैरिफ लगाए हैं वे अपमानजनक हैं। त्रुदो को बेईमान और कमजोर लिखते हुए उन्होंने कहा कि हमारे टैरिफ डेयरी पर उनके 270 फीसदी के बदले हैं। उन्होंने त्रुदो पर गलत बयान देने का भी आरोप लगाया। उन्होंने बताया हकीकत यह है कि कनाडा अमेरिका किसानों, मजदूरों और कंपनियों पर भारी टैरिफ लगा रहा है। वहीं दूसरी ओर ट्रंप के ट्वीट के जवाब में त्रुदो के कार्यालय ने कहा कि प्रधानमंत्री सार्वजनिक और निजी, दोनों स्तरों की बातचीत के दौरान ट्रंप के साथ एक जैसी ही बात पर कायम रहे हैं। 
आगे पढ़ें

गुस्से से नहीं चलता अंतरराष्ट्रीय सहयोग: फ्रांस

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news, Crime all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

Spotlight

Most Read

Europe

पुतिन से मुलाकात के बाद बोले पीएम मोदी- अटूट है भारत-रूस की साझेदारी 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि भारत और रूस की सामरिक साझेदारी अब ‘विशेषाधिकार प्राप्त सामरिक साझेदारी’ में बदल चुकी है।

22 मई 2018

Related Videos

बॉलीवुड कॉकटेल 15: शाहरुख को भंसाली का झटका और बादशाह का मास्टर स्ट्रोक!

बॉलीवुड कॉकटेल के इस एपिसोड में हम आपके लिए लेकर आये हैं एक ऐसी खबर जो आपने न सुनी होगी और न ही देखी होगी सलमान खान के साथ अपनी अगली फिल्म की प्लानिंग मे बिजी हुए संजय लीला भंसाली, सलमान और संजय के साथ होने से शाहरुख को हो सकती है टेंशन।

24 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen