Hindi News ›   World ›   Chinese warships go ballistic with new mystery missile, PLA shocks the world by releasing video

ड्रैगन की तैयारी : चीन के युद्धपोत बैलेस्टिक मिसाइल से लैस? पीएलए ने वीडियो जारी कर दुनिया को चौंकाया

एएनआई, हांगकांग Published by: सुरेंद्र जोशी Updated Tue, 03 May 2022 08:47 AM IST
सार

जानकारों का कहना है कि चीनी सेना पीएलए द्वारा दागी गई यह बैलेस्टिक मिसाइल थी। रक्षा विशेषज्ञों का अनुमान है कि यह युद्धपोत रोधी बैलेस्टिक मिसाइल वाईजे-21 (YJ-21) हो सकती है। 

चीन के टाइप 055 गाइडेड मिसाइल क्रूजर से रहस्यमयी मिसाइल दागी गई
चीन के टाइप 055 गाइडेड मिसाइल क्रूजर से रहस्यमयी मिसाइल दागी गई - फोटो : ANI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

चीन पश्चिमी देशों को चुनौती देते हुए लगातार गोपनीय ढंग से अपनी सैन्य क्षमताओं का विस्तार करता जा रहा है। इसी कड़ी में वह नई नई मिसाइलों व हथियार बना रहा है। 19 अप्रैल को पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नौसेना (PLAN) ने  एक वीडियो जारी किया है। इसमें टाइप 055 गाइडेड मिसाइल क्रूजर से एक अज्ञात मिसाइल दागी गई है। 

जानकारों का कहना है कि चीनी सेना पीएलए द्वारा दागी गई यह बैलेस्टिक मिसाइल थी। रक्षा विशेषज्ञों का अनुमान है कि यह युद्धपोत रोधी बैलेस्टिक मिसाइल वाईजे-21 (YJ-21) हो सकती है। यदि यह विश्लेषण सही है तो चीन दुनिया का पहला ऐसा देश हो जाएगा, जो कि ऐसी मिसाइल को नौसेना के पोत से दागने में समर्थ है। 





बैलेस्टिक मिसाइल वाईजे-21 को युद्धपोत वूशी से दागा गया है। वूशी टाइप 055 गाइडेड क्रूजर है। इसे मार्च में ही चीनी सेना में शामिल किया गया था। चीनी नौसेना के युद्धपोत से इस मिसाइल को दागे जाने से यह भी संकेत मिलता है कि वाईजे-21 मिसाइल अब सेना शामिल कर ली गई है। पीएलए द्वारा जारी वीडियो में नई चीनी मिसाइल के छोटे पंख और एक द्वि-शंकु नाक है। दावा किया जा रहा है कि यह सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल नहीं है।
वाईजे-21 की खासियतों के बारे में अभी कोई अधिकृत जानकारी नहीं मिली है, लेकिन इसकी मारक क्षमता 1,000 किलोमीटर से लेकर 1,500 किलोमीटर तक हो सकती है। साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट का दावा है कि यह बैलेस्टिक मिसाइल ध्वनि की गति से 10 गुना तेज है। वाईजे-21 को चीनी सीएम-401 मिसाइल की अगली कड़ी के रूप में तैयार किया गया है।
यह रूस की इस्कंडर, यानी कम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल के समतुल्य है। इस्कंडर मिसाइल का उपयोग हाल के हफ्तों में रूस ने यूक्रेन में किया है। 2018 में सीएम-401 की शुरुआत हुई, तब कहा गया था कि इसे भविष्य में युद्धपोतों पर तैनात किया जाएगा। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00