माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई को लेकर इन देशों की राय है अलग-अलग 

एजेंसी, बीजिंग Updated Mon, 12 Feb 2018 09:01 PM IST
Mount Everest
Mount Everest - फोटो : लेफ्टिनेंट कर्नल रणवीर जाम्वाल के फेसबुक पेज से
ख़बर सुनें
चीन ने माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई की माप को लेकर नेपाल से अलग राय दी है। चीन का कहना है कि दुनिया की सर्वोच्च चोटी की माप को लेकर उसकी अपनी गणना है, जो काठमांडू की माप से चार मीटर कम है। चीन का यह बयान काठमांडू से रिपोर्ट आने के बाद आया है। रिपोर्ट में कहा गया कि बीजिंग माउंट एवरेस्ट की नेपाल की माप को स्वीकार करने को राजी है, जो तकरीबन उसकी माप ऊंचाई में चार मीटर ज्यादा है।
 
चीन के आधिकारिक मीडिया ने द न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी रिपोर्ट का खंडन किया है। द न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी रिपोर्ट में कहा गया था कि चीन नेपाल पर्वतारोहण एसोसिएशन के पूर्व प्रमुख आंग शेरिंग शेरपा द्वारा मापी गई माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई 8848 मीटर को मान्यता देता है। चीन माउंट क्योमोलांगमा की ऊंचाई को बदला नहीं है। माउंट क्योमोलांगमा माउंट एवरेस्ट का चीनी नाम है और चीन इसकी ऊंचाई 8844.43 आंकता है। बहरहाल चीन माउंट क्योमोलांगमा को दुनिया की सबसे ऊंची चोटी के रूप में मान्यता देता है, जिसकी ऊंचाई समुद्र तल से 8844.43 मीटर ऊपर है।   

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news, Crime all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

Spotlight

Most Read

China

मुस्लिमों को जबरन वर्जित मांस और शराब पिला रहा चीन, किया जा रहा ब्रेनवाश

सजा के तौर पर जबरन वर्जित मांस और शराब पिलाई जाती है।

18 मई 2018

Related Videos

डीके शिवकुमार को मिलेगा कौनसा इनाम? देखिए ‘न्यूज ऑवर’

डीके शिवकुमार को इनाम और कर्नाटक में 20:13 है मंत्रियों की संख्या का फॉर्मूला! समेत देश और दुनिया की सभी बड़ी खबरें, देखिए।

21 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen