विज्ञापन
विज्ञापन

अनुच्छेद 370 पर बढ़ी पाक की बौखलाहट, अब्दुल बासित ने दी युद्ध की गीदड़भभकी

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला Updated Mon, 12 Aug 2019 08:07 PM IST
अब्दुल बासित (फाइल)
अब्दुल बासित (फाइल)
ख़बर सुनें
जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के विवादित प्रावधानों को खत्म किए जाने से नाराज पाकिस्तान अब युद्ध जैसी तैयारियां कर रहा है। अंतरराष्ट्रीय समुदाय से समर्थन न मिलने के बाद पाकिस्तानी प्रधानमंत्री और सेना जम्मू-कश्मीर में शांति भंग करने की कोशिशों में लग गए हैं। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर गिलगित बाल्टिस्तान में स्थित स्कर्दू हवाई अड्डे पर अपने जेएफ-17 युद्ध विमानों को तैनात कर दिया है। यह हवाई अड्डा लद्दाख के नजदीक है। भारतीय खुफिया एजेंसियां पाकिस्तानी सेना की इन गतिविधियों पर कड़ी नजर बनाए हुए हैं। 
विज्ञापन
पाकिस्तान की वायुसेना ने शनिवार को अपने तीन सी-130 हरक्यूलस परिवहन विमानों से सैन्य साजो-सामान को स्कर्दू हवाई अड्डे पर पहुंचाया। जानकारों के मुताबिक पाकिस्तान ने अग्रिम मोर्चे पर जो साजो-सामानों पहुंचाया है उसका उपयोग युद्ध के दौरान लड़ाकू विमानों की सहायता के लिए किया जाता है।

भारत द्वारा कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने वाले अनुच्छेद 370 को खत्म करने के मुद्दे पर पाकिस्तान को किसी का साथ नहीं मिल रहा है। दुनियाभर ने इसे भारत का आंतरिक मामला बताया है। मुंह की खाने के बाद पाकिस्तान की बौखलाहट बढ़ती जा रही है। पाकिस्तान के शीर्ष नेतृत्व सहित वहां के कई नेता लगातार गैर-जिम्मेदाराना बयान देकर इस मुद्दे को गरमाने के प्रयास में लगे हैं। अब भारत में पाकिस्तान के राजनयिक रहे अब्दुल बासित ने युद्ध की धमकी दी है। बासित ने कहा कि यदि भारत हद पार करे तो युद्ध करना चाहिए। 
 


अब्दुल बासित ने कहा, "कश्मीर में संघर्ष के चार मोर्चे हैं। पहला, नेशनल कॉन्फ्रेंस द्वारा सुप्रीम कोर्ट में कानूनी लड़ाई। दूसरा, पाकिस्तान के आत्मनिर्णय के साथ कूटनीतिक प्रयास जारी रहें। तीसरा, पाकिस्तानी और कश्मीरी प्रवासी इस संबंध में अपनी कोशिशें जारी रहें। चौथा, सबसे महत्वपूर्ण यह है कि कश्मीर में राजनीतिक लड़ाई जारी रहे। यदि भारत अपनी हदें पार करे तो युद्ध की तरफ बढ़ा जाए।" 
 


अब्दुल बासित के नापाक इरादे यहीं खत्म नहीं होते। उन्होंने पाकिस्तान सरकार से जम्मू-कश्मीर के मामलों के लिए विदेश मंत्रालय में अलग सेल बनाने की मांग भी की, जिसका नेतृत्व विशेष राजनयिक करें। बासित ने कहा, "सही और प्रभावी कूटनीति के लिए सही संगठनात्मक संरचना बहुत जरूरी है। कश्मीर पर पाकिस्तान को अपनी पुरानी नीति में बदलाव लाना होगा।" 

पाकिस्तान द्वारा किसी भी संभावित खतरे को देखते हुए भारतीय सेना और वायुसेना भी पूरी तरह से तैयार है। भारत की खुफिया एजेंसियां पाकिस्तान की हर हरकत पर नजर बनाए हुए हैं। सीमा पर सुरक्षा को भी बढ़ा दिया गया है। सेना, वायुसेना और नौसेना अपनी ताकत में लगातार इजाफा कर रही हैं। इस बाबत रक्षा खरीदारियों में भी तेजी देखी जा रही है।

हाल में ही सेना ने पाक के बैट (बॉर्डर एक्शन टीम) के पांच से सात घुसपैठियों को ढेर कर दिया था। ये सभी भारत में किसी बड़े आतंकी हमले की फिराक में सीमा को पार करने की कोशिश कर रहे थे।
विज्ञापन

Recommended

बायोमेडिकल एवं लाइफ साइंस में लेना है एडमिशन, ये है सबसे नामी संस्था
Dolphin PG

बायोमेडिकल एवं लाइफ साइंस में लेना है एडमिशन, ये है सबसे नामी संस्था

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

World

क्या होता है इंटरनेशनल वारंट, किन अपराधियों के लिए इंटरपोल इसे करता है जारी?

इंटरनेशनल क्रिमिनल पुलिस आर्गनाइजेशन यानी कि इंटरपोल एक संस्था है जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पुलिस के बीच समन्वय का काम करती है। इंटरपोल उन देशों के बीच समन्वय का काम करता है जो इस संस्था के सदस्य हैं। फिलहाल इस संस्था के 192 देश सदस्य हैं।

21 अगस्त 2019

विज्ञापन

1 सितंबर से ट्रैफिक नियमों को तोड़ा तो भरना होगा भारी जुर्माना, भूल कर भी ना करें ये गलती

अगर आप लापरवाही से गाड़ी चलाते हैं और ट्रैफिक नियमों को ताक पर रखते हैं, तो होशियार हो जाएं। वजह है नया मोटर वाहन संशोधन विधेयक 2019 लोकसभा और राज्यसभा में पास हो चुका है, वहीं सरकार आगामी एक सितंबर से इसे प्रभावी कर सकती है।

21 अगस्त 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree