लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   World ›   American scientist says Corona medicine can be made on the basis of genetic areas

अमेरिकी वैज्ञानिक: जेनेटिक क्षेत्रों के आधार पर बन सकती है कोरोना की दवा 

एजेंसी, वाशिंगटन Published by: Kuldeep Singh Updated Sat, 10 Jul 2021 08:55 AM IST
सार

  • वैज्ञानिकों को 50,000 लोगों के जीनोम पर किए गए अध्ययन में तरह-तरह के जेनेटिक क्षेत्र का पता चला है कि जिसको आधार बनाकर कोरोना के इलाज के लिए असरदार और सुरक्षित दवा तैयार की जा सकती है।

मेडिसिन - प्रतीकात्मक तस्वीर
मेडिसिन - प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : iStock
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

कोरोना का इलाज ढूंढने में जुटे वैज्ञानिकों को जेनेटिक आधार पर एक बड़ी कामयाबी मिली है। हेलसिंकी के इंस्टीट्यूट फॉर मॉलिक्यूलर मेडिसिन के वैज्ञानिकों ने दुनिया के 19 देशों के 50,000 लोगों के जीनोम पर अध्ययन किया है।



इसमें उन्हें तरह-तरह के जेनेटिक क्षेत्र का पता चला है कि जिस को आधार बनाकर कोरोना के इलाज के लिए असरदार और सुरक्षित दवा तैयार की जा सकती है।

जेनेटिक वेरिएशन से गंभीर का आकलन नहीं 
वैज्ञानिकों ने यह भी स्पष्ट किया है की जेनेटिक बदलाव से यह आकलन नहीं किया जा सकता है कि किसे कोरोना होगा। यहीं नहीं अगर किसी को कोरोना वायरस हो जाता है तो कौन गंभीर रूप से बीमार होगा। इसका पहले से पता लगाना संभव नहीं है। ऐसे में कुछ खास जीन वाले लोगों को कोरोना वायरस का खतरा अधिक है ये कहना गलत होगा।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00