अमेरिका मगरूर है या उदार?

Ashok Kumar Updated Fri, 02 Nov 2012 03:48 PM IST
america is boastful or liberal
दुनिया भर में अमेरिका की छवि और पहचान अमेरिकी फिल्मों और टीवी कार्यक्रमों से है। लेकिन ये कोई बहुत अच्छी छवि नहीं है। ये छवि एक बेहद मगरूर और अहंकारी देश और लोगों की है।

बीबीसी संवाददाता जॉनी डायमंड का कहना है कि अमेरिका की जिस पहचान के साथ मैं बड़ा हुआ उसमें डालास, मियामी वाइस जैसे टीवी शो और स्टरास्की एंड हच जैसी हॉलीवुड फिल्में शामिल थीं जो एक हिंसक, स्वार्थी, व्यक्तिपरक और भड़कीले अमेरिका को दर्शाते हैं।

और अब मेरे बच्चे जिन अमरीकी फिल्मों के साथ बड़े हो रहे हैं, वो एक ऐसी जगह है जहां लगभग हमेशा अंगभंग, धमाके और हिंसक मौते होती हैं। लेकिन इस सबके बीच जिस अमेरिका की मैं रिपोर्टिंग कर रहा हूं वो एक उदार, परोपकारी, मर्यादित और ज़्यादातर शांतिप्रिय जगह है।

अनुभव
वॉशिंगटन से मैंने टोलीडो और फिर डेट्रॉयट जाने के लिए आई-90 हाई-वे पकड़ी है। अमूमन यहां एक ट्रैफिक लाइट यातायात नियंत्रित करती है। लेकिन सैंडी तूफान की वजह से बारिश और तेज हवाओं के चलते आज कई ऐसी ट्रैफ‌िक बत्तियां बंद हैं और यहां एक नाके से यातायात नियंत्रित हो रहा है।

इसलिए हर आने वाली गाड़ी रुकती है, दूसरी गाड़ी को जाने का रास्ता देती है और फिर निकलती है और ये सिलसिला चलता रहा। सड़क पर आगे हालात इतने नियंत्रित नहीं थे लेकिन फिर भी सब कुछ सभ्य और व्यवस्थित था। कोई भी हॉर्न नहीं बजा रहा था, आगे बढ़ने के लिए सब अपनी बारी का इंतज़ार कर रहे थे।

बाद में डेट्रॉयट हवाईअड्डे पर भी मैंने एक छोटी सी घटना देखी। एयरपोर्ट के कैफे में एक व्यक्ति का सूट बैग मेज पर से नीचे गिर गया था, जिससे बाकी लोगों को चलने में असुविधा हो रही थी। जिस व्यक्ति का बैग गिरा था उसकी नजर इस पर नहीं पड़ी थी। एक व्यक्ति ने बिना एक भी शब्द कहे वो सूट बैग उठाकर वापिस मेज पर रख दिया और जिस व्यक्ति का बैग था उसे इस बारे में कुछ पता भी नहीं चला। इस सब में सिर्फ कुछ सेकंड का समय लगा।

छवि
ये हैं अमरीकियों की सभ्यता और उदारता के कुछ उदाहरण। वो अमेरिकी जिनकी सार्वजनिक छवि इससे बहुत अलग है। अगले सप्ताह होने वाले अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव से बहुत से ऐसे लोग प्रभावित होंगे जो अमेरिका में नहीं रहते।

ऐसे कई लोग मानते हैं कि बहुत से ऐसे मुद्दे हैं जिन पर इस चुनाव में बहस होनी चाहिए। जैसे सैंडी तूफान के मद्देनजर जलवायु परिवर्तन बहस का मुद्दा क्यों नहीं है। लेकिन बाहर के लोग इस चुनाव के मुद्दे तय नहीं कर सकते। पहले ही अम‌ेरिकियों और दुनिया के बीच गलतफहमियों की एक खाई है।

इसलिए मैं वही मुद्दे रिपोर्ट करूंगा जो मेरे सामने है, चाहे उसमें कितनी भी कमियां क्यों न हो। उसी अमेरिका के बारे में बताऊंगा जिसे मैं देख रहा हूं।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news, Crime all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

Spotlight

Most Read

America

अमेरिका पर फिर भड़का उत्तर कोरिया, बोला- असभ्य व्यवहार के लिए माफी मांगे यूएस

उत्तर कोरिया ने मांग की है कि अपने अपमानजनक और असभ्य बयानों के लिए यूएस माफी मांगे।

18 जनवरी 2018

Related Videos

साल 2018 के पहले स्टेज शो में ही सपना चौधरी ने लगाई 'आग', देखिए

साल 2018 में भी सपना चौधरी का जलवा बरकरार है। आज हम आपको उनकी साल 2018 की पहली स्टेज परफॉर्मेंस दिखाने जा रहे हैं। सपना ने 2018 का पहले स्टेज शो मध्य प्रदेश के मुरैना में किया। यहां उन्होंने अपने कई गानों पर डांस कर लोगों का दिल जीता।

18 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper