800 साल पुराने बर्तनों पर लिखा मिला ‘मेड इन चाइना’, सालों तक ऐसे रहे सुरक्षित

एजेंसी, वाशिंगटन Updated Fri, 18 May 2018 08:32 AM IST
800 years old 'made in china' label utensils found in java sea
ख़बर सुनें
शोधकर्ताओं को 800 साल पुराने ‘मेड इन चाइना’ का लेबल लगे मिट्टी के बर्तन मिले हैं। यह बर्तन एक डूबे समुद्री जहाज के मलबे से मिले हैं और दावा है कि इन बर्तनों का इस्तेमाल व्यापार के लिए किया जाता था।
 
सदियों पहले इंडोनेशिया के समुद्री तट पर जावा सागर में एक जहाज डूब गया था। हादसे में जहाज खंड-खंड में टूट गया था। 1980 के बाद के वर्षों से पुरातत्वविद इस जहाज से प्राप्त कलाकृतियों का अध्ययन कर रहे हैं। हाल में जहाज में मिले बर्तनों के एक टुकड़े पर ‘मेड इन चाइना’ का लेबल लगा मिला है। 

माना जा रहा है कि हादसे के दौरान यह बर्तन जहाज के नीचे वाले भाग में चला गया होगा, जिससे काफी समय तक समुद्र में रहने के बावजूद यह सुरक्षित रहा। शोधकर्ता अब इस बात का पता लगाने में जुटे हैं कि आखिर यह बर्तन चीन के इतिहास के साथ कैसे मेल खाता है।
 
एक पुरातत्वविद लिसा निजियोलेक ने बताया, ‘1990 के दशक में शुरुआती जांच में अनुमान लगाया गया था कि यह बर्तन 13वीं शताब्दी के उत्तरार्ध का हो सकता है। पर अब ‘जर्नल ऑफ आर्कियोलॉजिकल साइंस’ पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में बताया गया है कि यह तकरीबन आठ सौ साल पहले का है। 

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news, Crime all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

Spotlight

Most Read

America

जंग के मैदान में जवानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े होंगे रोबोट

अब जल्द ही रोबोट जंग के मैदान में जवानों के साथ उनके सहयोगी की भूमिका निभाएंगे।

17 जुलाई 2018

Related Videos

फेसबुक LIVE के दौरान मौत, 199 किमी/घंटे की रफ्तार से चला रहे थे बाइक

फेसबुक लाइव का नशा युवकों पर इस कदर चढ़ गया है कि वो चंद कमेंट्स और लाइक्स के लिए कुछ भी करने को तैयार हैं। ताजा मामला छत्तीसगढ़ का है जहां इसी चक्कर में दो युवकों की मौत हो गई। देखिए क्या है पूरा मामला।

17 जुलाई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen