कैपिटल हिल हिंसा में ट्रंप पर महाभियोग, नैंसी पेलोसी बोलीं- राष्ट्रपति ने भड़काया विद्रोह

Gaurav Pandey वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, वाशिंगटन Published by: गौरव पाण्डेय
Updated Thu, 14 Jan 2021 03:04 AM IST
विज्ञापन
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप - फोटो : पीटीआई (फाइल)

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ आज महाभियोग पर अमेरिकी संसद में चर्चा हुई। इस दौरान प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी ने कहा- हम जानते हैं कि अमेरिका के राष्ट्रपति ने देश के खिलाफ हिंसक विद्रोह भड़काया था। उन्हें जाना ही होगा, वो उस देश के लिए साफ खतरा बन गए हैं जिससे हम सभी प्यार करते हैं। 
विज्ञापन


राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा, और अधिक प्रदर्शनों के मद्देनजर मैं अपील करता हूं कि हिंसा न हो, कानून न तोड़ा जाए और किसी तरह की तोड़फोड़ न की जाए। मैं ऐसा बिल्कुल नहीं चाहता और न ही ये देश चाहता है। मैं सभी अमेरिकियों से अपील करता हूं कि वो तनाव घटाने में मदद करें और शांत रहें। 


पांच रिपब्लिकन सांसदों ने भी किया समर्थन 
ट्रंप के खिलाफ महाभियोग का सदन के 215 से अधिक डेमोक्रेट और पांच रिपब्लिकन सांसदों ने समर्थन किया है। महाभियोग चलाने के लिए 218 मतों की जरूरत थी। सदन के नेता होयर ने कहा कि वह महाभियोग के लेख अमेरिकी सीनेट को तत्काल भेजेंगे।   

उल्लेखनीय है कि कैपिटल बिल्डिंग (अमेरिकी संसद भवन) पर पिछले सप्ताह हुए हिंसक हमले के मद्देनजर अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पर डेमोक्रेटिक नेताओं के नियंत्रण वाली अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने बुधवार को मतदान किया।
 
महाभियोग प्रस्ताव पर मतदान के साथ ही ट्रंप अमेरिकी इतिहास में पहले ऐसे राष्ट्रपति बन गए जिनके खिलाफ दो बार महाभियोग चलेगा। सांसदों जैमी रस्किन, डेविड सिसिलिने और टेड लियू ने महाभियोग का प्रस्ताव तैयार किया जिसे प्रतिनिधि सभा के 211 सदस्यों ने प्रायोजित किया।

इस महाभियोग प्रस्ताव में ट्रंप पर अपने कदमों के जरिए छह जनवरी को ‘राजद्रोह के लिए उकसाने’ का आरोप लगाया गया है। ट्रंप ने अपने समर्थकों को कैपिटल बिल्डिंग (संसद परिसर) की घेराबंदी के लिए तब उकसाया, जब वहां इलेक्टोरल कॉलेज के मतों की गिनती चल रही थी।

प्रस्ताव में कहा गया है कि मतों की गिनती के दौरान लोगों के धावा बोलने की वजह से यह प्रक्रिया बाधित हुई। इस घटना में एक पुलिस अधिकारी समेत पांच लोगों की मौत हो गई थी।

दिसंबर 2019 को भी पारित हुआ था महाभियोग का आरोप
इससे पहले 18 दिसंबर, 2019 को ट्रंप के खिलाफ महाभियोग का आरोप पारित किया गया था, लेकिन रिपब्लिकन पार्टी के नियंत्रण वाले सीनेट ने फरवरी 2020 में उन्हें आरोपों से बरी कर दिया था। उस दौरान आरोप लगाए गए थे कि ट्रंप ने यूक्रेन के राष्ट्रपति पर दबाव डाला कि वे बाइडन और उनके बेटे के खिलाफ भ्रष्टाचार के दावों की जांच करवाए।

वाशिंगटन में रिजर्वेशन रद्द करेगी एयरबीएनबी
इसके साथ ही एयरबीएनबी ने एक बयान में कहा है कि वह अमेरिका के चयनित राष्ट्रपति जो बाइडन के सत्ता संभालने के उद्घाटन सप्ताह में वाशिंगटन डीसी में रिजर्वेशन रद्द कर देगी। बता दें कि एयरबीएनबी एक वैकेशन रेंटल ऑनलाइन मार्केटप्लेस कंपनी है।

 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X