लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   World ›   Afghanistan withdrawal of US troops 90 percent completed

अफगानिस्तान: अमेरिकी सैनिकों की 90 फीसदी वापसी पूरी, सात सैन्य ठिकानों को सौंपा

एजेंसी, काबुल Published by: देव कश्यप Updated Thu, 08 Jul 2021 12:49 AM IST
सार

  • अफगान रक्षा मंत्रालय को सात सैन्य ठिकाने औपचारिक रूप से सौंपे गए
  • नाटो देश भी अमेरिकी समन्वय से अफगानिस्तान से अपने सैनिकों को तेजी से वापस निकाल रहे हैं

यूएस आर्मी (प्रतीकात्मक तस्वीर)
यूएस आर्मी (प्रतीकात्मक तस्वीर) - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

अमेरिकी सेंट्रल कमांड ने कहा है कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी जारी है, अब तक 90 फीसदी से ज्यादा वापसी पूरी हो चुकी है। यहां सात सैन्य ठिकानों को औपचारिक रूप से अफगान रक्षा मंत्रालय को सौंप दिया गया है। अमेरिकी रक्षा मंत्रालय (पेंटागन) ने कहा है कि करीब 1,000 सी-17 मालवाहक विमान अफगानिस्तान से सैन्य उपकरण लेकर उड़े हैं। 



पेंटागन के मुताबिक, अफगानिस्तान से सैन्य उपकरण लेकर रवाना होने से पहले कई सैन्य उपकरणों को निपटान के लिए रक्षा रसद एजेंसी को सौंप दिया गया है। नाटो देश भी अमेरिकी समन्वय से अफगानिस्तान से अपने सैनिकों को तेजी से वापस निकाल रहे हैं। जर्मनी ने अपने सभी सैनिकों को वापस भी बुला लिया है और उसने उत्तरी अफगानिस्तान के मजार-ए-शरीफ में स्थित अपना वाणिज्य दूतावास बंद कर दिया है।


पिछले सप्ताह अमेरिकी और नाटो बलों ने अफगानिस्तान का सबसे बड़ा सैन्य हवाई अड्डा बगराम एयरबेस भी खाली कर दिया है। विदेशी सैनिकों की वापसी के साथ, तालिबान ने सरकारी बलों से लड़ने के बाद उत्तरी अफगानिस्तान और देश के अन्य हिस्सों में कई जिलों पर कब्जा कर लिया है। हालांकि अफगान सुरक्षाबलों ने तालिबान को आगे बढ़ने से रोकने का संकल्प लिया है।

बिना बताए अमेरिका ने ठिकाना छोड़ा
अफगान अधिकारियों का दावा किया है कि अमेरिकी सेना ने उन्हें बिना बताए और बेस के लिए एक नया अफगान कमांडर नियुक्त किए बिना ही यह ठिकाना छोड़ दिया है। अमेरिकी सैनिकों के जाने के दो घंटे से अधिक समय बाद इस बारे में पता चला। बेस में एक जेल भी है जहां हजारों तालिबान और अन्य कैदी सालों से बंद हैं। अफगान कमांडर जनरल मीर असद कोहिस्तानी ने इसकी पुष्टि की है। 

सौ वर्षों में भी हमसे आत्मसमर्पण नहीं करा सकता तालिबान : गनी
अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने कहा कि तालिबान अगले सौ वर्षों में भी अफगान सरकार को आत्मसमर्पण करने पर मजबूर नहीं कर सकता। अफगानिस्तान के राष्ट्रपति भवन में हुई एक कैबिनेट बैठक में गनी ने यह भी कहा कि तालिबान और उसके समर्थक देश में हो रहे खून-खराबे और तबाही के लिए पूरी तरह जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा, हम अपने क्षेत्रों की रक्षा के लिए तैयार हैं।

24 घंटों में 200 से ज्यादा आतंकी मारे
अफगानिस्तान के रक्षा मंत्रालय ने जानकारी दी है कि पिछले 24 घंटों में 200 से अधिक तालिबानी आतंकवादी मारे गए हैं। अफगान कमांडो बलों के कम से कम 10,000 सदस्य देश भर में तालिबान को खत्म करने में लगे हुए हैं। दूसरी ओर, तालिबान ने दावा किया कि उसने इसी अवधि में छह और जिलों पर कब्जा कर लिया है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00