Hindi News ›   World ›   65th day of Ukraine war: Volodymyr Zelenskyy claims mass grave found in Kyiv, 900 people buried here, Russian army fired missiles

युद्ध का 65वां दिन : जेलेंस्की का दावा- कीव में और सामूहिक कब्रें मिलीं, रूसी सेना ने दागी मिसाइलें

एजेंसी, कीव।  Published by: योगेश साहू Updated Sat, 30 Apr 2022 02:22 AM IST
सार

अमेरिकी सीनेट ने यूक्रेन व अन्य पूर्वी यूरोप के देशों को रूसी हमले से लड़ने के लिए अमेरिकी उपकरण प्रदान करने के लिए द्वितीय विश्व युद्ध के सैन्य ऋण-पट्टा कार्यक्रम को व्यवस्थित करते हुए एक बिल को अंतिम रूप दिया। यह बिल 417-10 मतों के भारी बहुमत से पारित हुआ। अब कानून बनाने के लिए राष्ट्रपति के अंतिम हस्ताक्षर होना है।

रूस-यूक्रेन युद्ध।
रूस-यूक्रेन युद्ध। - फोटो : PTI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

यूक्रेन के प्रमुख शहर कीव ओब्लास्ट में एक सामूहिक कब्र मिलने की जानकारी सामने आई है। खुद देश के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने बताया है कि शहर में कई सामूहिक कब्र मिली हैं, इनमें करीब 900 लोग दफन हैं। यूक्रेन के द कीव इंडिपेंडेंट रिपोर्ट के अनुसार राष्ट्रपति व्लादिमीर जेलेंस्की का कहना है कि कीव ओब्लास्ट में अब तक जो अलग-अलग सामूहिक कब्रें मिली हैं; उनमें करीब 900 लोगों को दफन किया गया है। जेलेंस्की ने पोलिश मीडिया को यह भी बताया कि लगभग 500,000 यूक्रेनवासियों को अवैध रूप से रूस भेज दिया गया है।



कीव इंडिपेंडेंट ने जेलेंस्की के बयान को लेकर जारी अपनी रिपोर्ट को दुरुस्त किया है। रिपोर्ट में कीव इंडिपेंडेंट ने पहले जेलेंस्की का हवाला देते हुए एक ही सामूहिक कब्र में 900 लोगों के दफन होने की जानकारी दी थी। हालांकि बाद में स्पष्ट किया कि राष्ट्रपति जेलेंस्की अलग-अलग जगहों पर मिली सामूहिक कब्रों के बारे में बात कर रहे थे। इन सभी कब्रों में कुल मिलाकर 900 लोगों के दफन होने की जानकारी है। इधर, यूक्रेन युद्ध के 65वें दिन राजधानी कीव के आसपास वाले क्षेत्रों से लौट चुकी रूसी सेना ने एक बार फिर यहां मिसाइलें छोड़ीं।


यह कार्रवाई एक दिन पहले ही मॉस्को से यूक्रेन आए संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरस की यात्रा के दौरान की गई। गुटेरस जब यूक्रेन में फंसे नागरिकों की मदद के लिए राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की से मिलने पहुंचे थे तभी कुछ दूरी पर एक मिसाइल गिरी। गुटेरस ने इन हमलों की निंदा की है। कई हफ्तों पूर्व कीव से रूसी सैनिकों के पीछे हटने के बाद यहां यह सबसे बड़ा हमला था।

यूएन प्रवक्ता सविआनो अब्रू ने कहा, यह एक युद्धक्षेत्र है लेकिन हमला हमारे करीब होना चौंकाने वाली बात है। उन्होंने नहीं बताया कि यूएन की टीम हमले से कितनी दूर थी, लेकिन सभी सुरक्षित रहे। जेलेंस्की ने हमले की निंदा की है। इससे पहले गुटेरस ने कहा था कि यूक्रेन ‘असहनीय पीड़ा का केंद्र’ बन गया है। यूक्रेनी आपात सेवाओं के अनुसार, रूस ने देश में कई जगहों को निशाना बनाया, जिसमें कीव पर हुआ हमला भी शामिल है। यहां एक आवासीय इमारत और एक अन्य इमारत पर हमले में 10 लोग घायल हो गए।

यूक्रेन के कई शहरों में हुए हमले
यूक्रेन के पश्चिमी हिस्से पोलोन में, बेलारूस से लगी सीमा के पास चेर्निहीव और राजधानी के दक्षिण-पश्चिम में एक बड़े रेलवे हब फास्तिव में विस्फोटों की सूचना मिली। दक्षिणी यूक्रेन में ओडेसा के मेयर ने कहा कि कई रॉकेटों को हवाई सुरक्षा द्वारा बीच में ही गिरा दिया गया। कीव पर हुए हमले ने शहर को हिलाकर रख दिया। इसमें आवासीय गगनचुंबी इमारतों और एक अन्य इमारत की खिड़कियों से आग की लपटें निकलती देखी गईं।

आम नागरिक चुकाते हैं युद्ध की कीमत 
संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरस ने बूचा शहर का भी दौरा किया जहां उन्होंने रूसी सेना द्वारा बरती गई क्रूरता की निंदा की। यहां रूसी सैनिकों की वापसी के बाद नागरिकों के सामूहिक नरसंहार के सुबूत मिले थे। गुटेरस ने कहा, युद्ध की सबसे अधिक कीमत आम नागरिकों को चुकानी पड़ती है। 

यूक्रेन के मुद्दे पर भारत से वार्ता जारी रखेगा अमेरिका : व्हाइट हाउस
व्हाइट हाउस प्रवक्ता जेन साकी ने कहा है कि यूक्रेन के मुद्दे पर अमेरिका की भारत के साथ वार्ता जारी है और अगले महीने जापान में होने वाले क्वाड शिखर सम्मेलन में भी इस पर बातचीत की जाएगी। उन्होंने कहा, युद्ध में यूक्रेनी लोगों की मदद के लिए भारतीय नेताओं से हमारी चर्चा जारी है चाहे वह हमारे द्वारा लगाए गए प्रतिबंध हों या हमारी सहायता हो। हम बैठक में ये बातें रखेंगे। क्वाड में ऑस्ट्रेलिया, भारत, जापान व अमेरिका शामिल हैं।

यूक्रेन की मदद के लिए अमेरिका में बिल पास, बाइडन ने मांगे 33 अरब डॉलर
अमेरिकी सीनेट ने यूक्रेन व अन्य पूर्वी यूरोप के देशों को रूसी हमले से लड़ने के लिए अमेरिकी उपकरण प्रदान करने के लिए द्वितीय विश्व युद्ध के सैन्य ऋण-पट्टा कार्यक्रम को व्यवस्थित करते हुए एक बिल को अंतिम रूप दिया। यह बिल 417-10 मतों के भारी बहुमत से पारित हुआ। अब कानून बनाने के लिए राष्ट्रपति के अंतिम हस्ताक्षर होना है। इस बीच, बाइडन ने अमेरिकी कांग्रेस से यूक्रेन के लिए 33 अरब डॉलर मांगे हैं। इनमें से 20 अरब डॉलर सैन्य मदद के लिए, 8.5 अरब डॉलर यूक्रेनी सहायता के लिए और शेष राशि लोगों की मदद के लिए दी जाएगी।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00