विज्ञापन
अमिताभ बच्चन

अमिताभ बच्चन

  • Full name
    अमिताभ
  • Born
    1942-10-11
  • Gender
    Male
  • Occupation
    Actor
  • Nationality
    Indian
  • Spouse
    Jaya Bachchan
  • Spouse(Dob)
    1948-04-09
  • Spouse(Sex)
    Female
  • Child
    Abhishek Bachchan
  • Child(Dob)
    1976-02-05
  • Child(Sex)
    Male
  • Child
    Shweta Bachchan Nanda
  • Child(Dob)
    1974-03-17
  • Child(Sex)
    Female
अमिताभ बच्चन हिंदी सिनेमा का एक ऐसा नाम है जिनके बिना हिन्दी सिनेमा अधुरा है। अद्भुत् व्यक्तित्व , जानदार आवाज , चेहरे पर तेज इन सब गुणों के कारण अमिताभ बच्चन आज भी लोगों के दिलों पर राज कर रहे हैं। 

अमिताभ बच्चन का जन्म 11 अक्टूबर 1942 को उत्तरप्रदेश के इलाहाबाद जिले में हुआ था। उनके पूर्वज भी उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले से इलाहाबाद आये थे। उनके पिता श्री हरिवंशराय बच्चन जाने माने हिंदी कवियों में से एक थे। उनके पिता सांस्कृतिक रूप से समृद्ध उत्तर पदेश के अवध जिले के रहने वाले थे। अमिताभ बच्चन आज भी अपनी सबसे बड़ी उपलब्धि हरिवंश राय बच्चन का पुत्र होना मानते हैं । उनके पिता अनुशासन प्रिय ,स्वतंत्र विचारों वाले व्यक्ति थे। उन्होंने अपने पुत्र के हर फैसले में उनका साथ दिया था। 

अमिताभ बच्चन की मां तेजी बच्चन थी, जो कराची के सिख परिवार से थी। वह भी पाश्चात्य विचारों वाली महिला थी लेकिन उन्हें अपनी मान्यताओं पर दृढ़ विश्वास रहा था। उनके माता-पिता दोनों अलग-अलग सांस्कृतिक पृष्ठभूमि से संबधित थे। यह अलग-अलग संस्कृतियों का मिश्रण अमिताभ में साफ देखने को मिलता है।

अमिताभ बच्चन के माता-पिता ने शुरुआत में उनका नाम इन्कलाब रखा था क्योंकि स्वतंत्रता संग्राम के उस दौर में ''इन्कलाब जिंदाबाद'' का नारा खूब जोरों पर था और उनके पिता उससे प्रेरित थे। लेकिन हरिवंशराय बच्चन के मित्र सुमित्रानंदन पन्त के सुझाव पर उन्होंने अपने पुत्र का नाम अमिताभ कर दिया जिसका मतलब होता है “एक ऐसा प्रकाश जिसका कभी अंत ना हो''। 
हालांकि उनका उपनाम श्रीवास्तव था लेकिन अमिताभ के पिता अपनी सभी कविताओं में अपना छोटा नाम बच्चन लिखा करते थे, जिसके कारण अमिताभ के आगे भी उन्होंने बच्चन नाम दे दिया। 

अमिताभ बच्चन की प्रारम्भिक शिक्षा इलाहाबाद में ही हुई। उसके बाद अमिताभ ने नैनीताल के एक बोर्डिंग स्कूल में आगे की शिक्षा प्राप्त की। अमिताभ विज्ञान से इतने प्रभावित हुए कि उनमें वैज्ञानिक बनने की इच्छा जागृत हुई। साथ ही साथ वो स्कूल में होने वाले नाटकों में भाग लेते रहे। इस तरह उनमें एक कलाकार की प्रतिभा आरम्भ से ही थी।

पढ़ाई के बाद अमिताभ ने दिल्ली में कई जगह पर नौकरी की तलाश की लेकिन आशानुरूप नतीजे नहीं मिले। यहां तक कि आकाशवाणी में भी उन्हें आवाज भारी होने के कारण नौकरी नहीं मिली। कुछ हाथ ना लगने पर उन्होंने बम्बई में अपनी किस्मत आजमाने का फैसला किया जो उनके जीवन का निर्णायक मोड़ साबित हुआ |

उस दौर के मशहूर निर्देशक के अब्बास ने ''सात हिन्दुस्तानी'' फिल्म में अभिनय करने का मौका दिया। जो बतौर अभिनेता उनकी पहली फिल्म थी लेकिन दुर्भाग्यवश ये फिल्म सफल नहीं हुई। अमिताभ ने हिम्मत नहीं हारी और प्रयास जारी रखा।

पहली फिल्म के बाद भी लगातार कई फिल्में फ्लॉप हुईं। तब 1971 में उनकी तकदीर में मोड़ लिया, जब उन्हें सुपरस्टार राजेश खन्ना के साथ ''आनन्द'' फिल्म में मौका मिला। जिसमें उन्होंने के डॉक्टर के किरदार को बखूबी निभाया और अपनी प्रतिभा को साबित किया। 

1973 में आई ''जंजीर'' ने अमिताभ की तकदीर बदल दी। यह उनकी तेरहवीं फिल्म थी। अमिताभ इस फिल्म से ''एंग्री यंग मैन'' के नाम से जाने जाने लगे और एक नये नायक का जन्म हुआ |

26 जुलाई 1982 में ''कुली'' फिल्म के दृश्य फिल्माते वक्त शूटिंग के दौरान पुनीत इस्सर के साथ एक फाइट सीन करते वक्त उन्हें पेट में बहुत गजब चोट आई। अमिताभ के सभी चाहने वाले लोग अमिताभ की लम्बी उम्र की प्रार्थना करने लगे, व्रत करने लगे और कई लोगों ने तो हवन भी करवाए। इस मुश्किल घड़ी में लोगो की दुआओं से वो बच गये 

1984 में उन्होंने फिल्मों से ब्रेक लिया और राजनीति में अपनी किस्मत आजमाई। राजीव गांधी ने उन्हें आठवीं लोकसभा चुनाव में इलाहाबाद की सीट दी और बड़े अंतर से उन्होंने उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बहुगुणा को हरा दिया। हालांकि उन्हें राजनीति रास नहीं आई और तीन साल बाद ही उन्होंने सांसद पद से त्यागपत्र दे दिया | 

1988 में अमिताभ ने फिर फ़िल्मी करियर में आगाज किया और "शंहशाह" फिल्म से उन्होंने दमदार शुरुवात की। यह फिल्म तो बॉक्स ऑफिस पर काफी हिट रही लेकिन इसके बाद ही फिल्मों में उनका जादू फीका पड़ गया। 

इसके बाद साल 2000 में ''मोहब्बतें" से एक बार फिर अमिताभ लौटे। इस फिल्म में उनके किरदार को खूब सराहा गया। इसी साल ''कौन बनेगा करोड़पति'' का पहला सीजन आया जो एक ब्रिटिश गेम शो पर आधारित था। केवल एक सीजन को छोडकर सारे सीजन में अमिताभ बच्चन ने इस शो की मेजबानी की है। 

इसमें कोई दो राय नहीं है कि अमिताभ अब भी फिल्म जगत के शहंशाह , बिग बी और वन मैन शो हैं। अमिताभ तीन दशकों से लोगों के दिलों पर राज करते आ रह हैं और अभी करते रहेंगे। 

प्रसिद्ध फिल्में-
सात हिंदुस्तानी, आनंद, जंजीर, अभिमान, सौदागर, चुपके चुपके, दीवार, शोले, कभी कभी, अमर अकबर एंथनी, त्रिशूल, डॉन, मुकद्दर का सिकंदर, मि. नटवरलाल, लावारिस, सिलसिला, कालिया, सत्ते पे सत्ता, नमक हलाल, शक्ति, कुली, शराबी, मर्द, शहंशाह, अग्निपथ, खुदा गवाह, मोहब्बतें, बागबान, ब्लैक, वक्त, सरकार, चीनी कम, भूतनाथ, पा, सत्याग्रह, शमिताभ जैसी शानदार फिल्मों ने ही उन्हें सदी का महानायक बना दिया।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree