जानिए कौन थे शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती

अमर उजाला

Mon, 12 September 2022

Image Credit : सोशल मीडिया

जगतगुरू शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती 99 साल की उम्र में ब्रम्हलीन हो गए हैं
 
Image Credit : सोशल मीडिया
धर्म गुरू शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती ने रविवार को नरसिंहपुर के परमहंसी गंगा आश्रम झोतेश्वर में अंतिम सांस ली, वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे
 
Image Credit : सोशल मीडिया

स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का जन्म वर्तमान के सिवनी जिले के दिघोरी गांव में 2 सितंबर 1924 को हुआ था
 
Image Credit : सोशल मीडिया

उनके बचपन का नाम पोथीराम उपाध्याय था। उनके पिता दिघोरी के मालगुजार थे, वे अपने पांच भाइयों में सबसे छोटे थे

Image Credit : सोशल मीडिया

आध्यात्म के मार्ग पर चलने के लिए उन्होंने 9 साल की उम्र में घर त्याग कर धर्मिक यात्राएं शुरू कर दीं थी
 

Image Credit : सोशल मीडिया

उन्होंने करपात्री जी महाराज के सानिध्य में अपने जीवन की पहली धाम यात्रा की थी और काशी पहुंचे थे

Image Credit : सोशल मीडिया
कुछ वक्त बाद उन्होंने स्वामी करपात्री महाराज से ही वेद-वेदांग, शास्त्रों की शिक्षा-दीक्षा ली
 
Image Credit : सोशल मीडिया

अंग्रेजों से भारत को आजाद कराने के लिए उन्होंने 1942 के आंदोलन में भाग लिया और जेल गए
 

Image Credit : सोशल मीडिया

19 साल की उम्र में स्वामी जी क्रांतिकारी साधु के रूप में प्रसिद्ध हुए, वे करपात्री महाराज के राजनीतिक दल राम राज्य परिषद के अध्यक्ष भी रहे

Image Credit : सोशल मीडिया

1950 में शारदा पीठ शंकराचार्य स्वामी ब्रह्मानन्द सरस्वती से दण्ड-सन्यास की दीक्षा ली और स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती के नाम से जाने जाने लगे
Image Credit : सोशल मीडिया

स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती महाराज को 1981 में शंकराचार्य की उपाधि मिली थी

Image Credit : सोशल मीडिया

इस किले में इंदिरा गांधी ने भेजी थी सेना

Social Media
Read Now