Seaplane Mission: सागर में 6,000 मीटर नीचे जाकर रहस्य को तलाशेंगे वैज्ञानिक

अमर उजाला

Sun, 7 August 2022

Image Credit : iStock

गहरे सागर में छिपे असंख्य रहस्यों को तलाशने के लिए 2026 में हमारे वैज्ञानिक 6,000 मीटर गहरे सागर में उतरेंगे। 

Image Credit : istock

2021 में शुरू हुआ देश का पहला समुद्रयान मिशन 4,077 करोड़ रुपये की लागत से 2026 की पहली तिमाही तक बनकर तैयार हो जाएगा। 

Image Credit : istock

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के अंतर्गत विकसित होने वाले इस मिशन के लिए सरकार ने 2021 से 2024 तक पहले चरण के लिए 2,823 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है।

Image Credit : Youtube/OceanX

समुद्रयान मिशन का उद्देश्य तीन इंसानों को समुद्र में 6,000 मीटर की गहराई तक ले जाने के लिए एक स्व-चालित मानवयुक्त पनडुब्बी विकसित करना है। 

Image Credit : Twitter @LivingExtraord1

इसके लिए पनडुब्बी ‘मत्स्य 6000’ का डिजाइन बनकर तैयार हो गया है। इसमें गहरे समुद्र की खोज के लिए वैज्ञानिक सेंसर और उपकरणों का एक विशेष सूट भी होगा। 

Image Credit : Twitter @AlittlePervy

यह पनडुब्बी 12 घंटे तक काम करेगी और आपात स्थिति में इसका संचालन 96 घंटे तक हो सकता है। इस मिशन की अनुमानित समय सीमा 2020-2021 से 2025-2026 तक पांच वर्ष है। 

Image Credit : पेक्सेल्स

अक्तूबर 2021 में इस मिशन की शुरुआत के साथ ही भारत अमेरिका, फ्रांस, रूस, जापान और चीन जैसे उन्नत प्रौद्योगिकी वाले देशों की फेहरिस्त में शामिल हो गया था।

Image Credit :

भारत में इन जगहों पर होती है आत्माओं की शादी

iStock
Read Now