आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

कहां है भगत सिंह जैसे लाल?

                
                                                                                 
                            वह कौन सी थी चिंगारी
                                                                                                

जिसने रक्षा की थी हमारी
भारत में ऐसे वीर सपूत हुए
जिन्होंने देश के लिए प्राण तक न्यौछावर किए
गैजेट्स और ऑनलाइन गेम खेलने वाले
क्या ही देंगे देश के लिए नारे
ना देश प्रेम के लिए वह जज्बा है
ना ही देश के लिए लुटने की चाहत
कभी सोचा है उन वीर सपूतों ने
कैसे की अंग्रेजों से बगावत

कहां है वह देश प्रेम का जज्बा
कहां है भगत सिंह जैसे लाल

जिसकी दुल्हन तो थी आजादी
और अंग्रेजों के इरादों की करी बर्बादी
हंसकर देश के लिए दी कुर्बानी
न जाने कितने फांसी के फंदे पर झूले
और कितनों ने खाई गोली थी

आज बन रहे देशभक्ति गीतों में वह बात ही नहीं
जिन्हें सुनकर रोंगटे तक खड़े हो जाएं
जो शहीद हुए हैं उनकी ज़रा याद करो कुर्बानी
इस बात को कहते हुए आंखें नम हैं
मेरा रंग दे बसंती चोला पहनकर
जीवन बलिदान करने वाले सपूत अब कम हैं
ऐ भारत जननी इतना दे ज्ञान
देश पर संकट आने पर मैं भी दे दूं अपना बलिदान

रूद्र भारद्वाज
 
- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
4 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X