विज्ञापन

मेरा दीन मेरा धर्म

29 Views
Updated Mon, 18 Sep 2017 12:56 PM IST

फिरकापरस्ती उन रहनुमाओं की
कि तारीखें हिंदुस्तान और पाकिस्तान हुईं
फिर हम क्या कम थे
कुछ हिन्दू हुए, कुछ मुसलमान हुए

फिर कतल हुए दहशत फैली
अस्मत लूटी घरबार छूटी
कुछ को तो दंगों ने निगला
कुछ जंग की आग में भेंट हुए

पर खेल तो ये शुरुआती था
माहौल बड़ा जज्बाती था
गैरों को तो भगा दिया हमने
पर अपनों से युद्ध जरूरी था

फिर रंग बंटी लिबास बटे
वोट बंटी विश्वास टूटे
भाषाएं तो भाषाएं जानवर तक हमने बांटे

जय मेरा दीन जय मेरा धरम
बस बात यहीं आ सिमटी है
गरीबी से बीमारी से अंधेरों से या बेरोजगारी से
अब कौन सी लड़ाई लड़नी है

अर्धरात्रि के उस सवेरे को अरसा अब तो बीत चुका
बच्चे तड़पे हो दर्द हमें
वो इंसान कब का मर चुका
नग्न बहनें बिलखती माताएं सब तो है हमने देख लिया

इस हिंदुस्तान के बाशिन्दे को बस एक ही फैसला करना है
बाजी को हक में करने को जीना है या मर जाना है

अब आ जाएं समझौता करने
खुदा यहां या भगवान स्वयं
अव्वल कौन बताये इनको
मेरा दीन या मेरा धरम

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
 

अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree