चाँद हो तुम

162 Views
Updated Sun, 08 Oct 2017 12:31 PM IST

हर रोज़ बस तुम्हे माँगती हूँ दुआओं में।
नही चाहिये मुझे कोई और प्रिये
तुम ही हो मेरे मन का गीत तुमसे ही ।
हर श्रृंगार मेरा,तुम ही हो जीवन का आधार मेरा
तुम भी बना लो मुझे अपना मीत
सुनो मैं हर बात तुमसे ही करती हूँ।
मन मे नही कोई और ख्याल नही।
तेरे सिवा कुछ और सोचूँ ऐसा मैं ।
कोई ख्याल दिल को आता नही
कोई लम्हा ऐसा होता नही कि तुम्हे याद नही करती मैं।
तुम तो चाँद जैसे हो कभी नज़र आते हो कभी छुप जाते हो।
इतनी शरारत ठीक नही,मुझे यूं हर रोज सताना अच्छा लगता ।
है तुमको,तभी तो रूठ ने का बहाना करती हूं।
तुम मुझे जब प्यार से मनाते हो तो मुझे बहुत।
अच्छा लगता है जब गले से लगाते हो।
मुझे तुम्हारी कमी सी खलती है जब से दूर गये हो।
तुम्हारी याद मुझे हर पल सताती है।

- उपासना पाण्डेय 'आकांक्षा'
हरदोई (उत्तर प्रदेश)

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper