विज्ञापन
Home ›   Video ›   Uttar Pradesh ›   Kanpur ›   Meat sellers seeks alternative business after action on illegal slaughter house in Kanpur

अब कबाब और बिरयानी की जगह ठेले पर बिक रहे अमरख और इमली

ओ पी वाधवानी, अमर उजाला टीवी / कानपुर Updated Thu, 30 Mar 2017 01:10 PM IST

कानपुर में अवैध बूचड़खानों पर हुई कार्रवाई का सीधा-सीधा असर मीट कारोबारियों पर पड़ रहा है। मीट व्रिकेता बेरोजगारी की राह पर हैं। ऐसे में बिरयानी और सीक कबाब बेचने की जगह मीट विक्रेता दूसरे कारोबार से जुड़ने पर मजबूर हो गए हैं। मीट कारोबारियों ने सीएम योगी आदित्यनाथ से इस समस्या का हल निकालने की गुहार लगाई है।

विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00