सीता की विदाई पर भावुक हुए ग्रामीण

Uttar Kashi Updated Sun, 25 Nov 2012 12:00 PM IST
उत्तरकाशी। संग्राली गांव में चल रही रामलीला में राम विवाह के अवसर पर राम बारात में शामिल पूरे गांव का राजा जनक के घर सामूहिक भोज आयोजित किया गया। इस दौरान सीता की विदाई के अवसर पर कलाकारों के भावपूर्ण अभिनय एवं संवाद ने दर्शकों को भाव विभोर किया।
शुक्रवार रात संग्राली गांव की रामलीला में राम-सीता विवाह का प्रसंग मंचित किया गया। भगवान राम की बारात में पूरे संग्राली गांव के साथ ही निकटवर्ती गांवों के ग्रामीण भी शामिल हुए। वर्षों से चली आ रही परंपरा के अनुसार सभी ग्रामीणों को राजा जनक बने पात्र के घर में सामूहिक भोजन कराया गया। इस मौके पर सामान्य विवाह के प्रचलन के अनुसार सभी रस्में अदा करने के साथ ही बारातियों को बाकायदा तिलक भी लगाया गया।
इसके बाद मंच पर सीता की विदाई का मंचन किया गया। इसमें राजा जनक बने संतोष सेमवाल, सीता की माता सुनैना बनी अमृता, राजा दशरथ बने परमानंद भट्ट, भगवान राम बने कामेश्वर प्रसाद, सीता बने शिव प्रसाद नैथानी आदि के भावपूर्ण अभिनय व संवाद ने दर्शकों को भाव विभोर किया। आयोजन में समिति के अध्यक्ष दामोदर प्रसाद, रविंद्र भट्ट, परमानंद शास्त्री, प्रेम बल्लभ नैथानी आदि ने विशेष सहयोग किया।

संतान प्राप्ति को संतोष बने जनक
उत्तरकाशी। संग्राली गांव की रामलीला में राजा जनक बनने वाले पात्र को संतान प्राप्ति का मिथक वर्षों से कायम है। इसी के चलते इस बार भी संतोष सेमवाल रामलीला में राजा जनक बने हैं। भारतीय सेना में नौकरी करने वाले संतोष की तीन वर्ष पूर्व शादी हुई थी, लेकिन अभी तक उनकी कोई संतान नहीं है। रामलीला से जुड़ी मान्यता के चलते उन्होंने इस बार राजा जनक बनने का निर्णय लिया।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

योगी कैबिनेट ने लिए 10 बड़े फैसले, गांवों में मांस बेचने पर लगी रोक

यूपी की योगी सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए गांवों में मांस की बिक्री पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है।

24 जनवरी 2018