पुल बहे तो बढ़ गई कई किमी दूरियां

Uttar Kashi Updated Wed, 08 Aug 2012 12:00 PM IST
केस- एक
पुष्पेंद्र नेगी विकास भवन लदाड़ी में कार्यरत हैं। यह कार्यालय जोशियाड़ा कस्बे की ओर है। नेगी का निवास उत्तरकाशी शहर में है। वे रोज मुख्य बाजार स्थित अपने घर से पैदल झूला पुल के रास्ते विकास भवन जाते रहे हैं। अब भी उनके कदम आदतन झूला पुल की ओर उठ जाते हैं। लेकिन वहां पहुंचने पर आभास होता है कि अब पुल कहां है। तब तांबाखानी के रास्ते जोशियाड़ा पुल होते हुए दफ्तर की ओर रवाना होते हैं। पहले दफ्तर पहुंचने में उन्हें महज पंद्रह मिनट लगते थे। अब करीब एक घंटा लग जाता है।

केस - दो
तिलोथ गांव निवासी सरदार सिंह पंवार तिलोथ पुल से होकर महज आधा घंटे में अपने गुफियारा स्थित कार्यालय पहुंच जाते थे। लेकिन अब उन्हें भी करीब पांच किमी का रास्ता नापते हुए जोशियाड़ा- तांबाखानी होते हुए आवाजाही करनी पड़ रही है। ऐसा उन तमाम कर्मचारियों के साथ हो रहा है, जिनके घर और कार्यालय गंगा-भागीरथी के आरपार हैं।

केस- तीन
लदाड़ी, डांग, तिलोथ, जसपुर, सिल्याण आदि क्षेत्र के कई लोग दूध का व्यवसाय करते हैं। वे पैदल ही उत्तरकाशी तिलोथ पुल और झूला पुल के रास्ते आवागमन करते रहे हैं। लेकिन तिलोथ पुल का संपर्क मार्ग नहीं है। जबकि जोशियाड़ा झूला पुल तो टूट गया। लेकिन अब उन्हें कई किमी की दूरियां नापनी पड़ रही है। महिलाएं, बच्चे और बीमार तो और भी परेशान हैं।

उत्तरकाशी। साठ से करीब सौ मीटर के स्पान वाले पुलों से जुड़े तिलोथ और जोशियाड़ा की दूरियां अब तीन से-पांच किमी तक बढ़ गई है। कारण तिलोथ मोटर पुल और जोशियाड़ा झूला पुल का ढह जाना है। यही नहीं शुक्रवार रात आई बाढ़ ने गंगा घाटी में कई स्थानों पर भूगोल बदल दिया है। आपदा से बहे पुलों और सड़कों से दूरियां भी बढ़ गई हैं। तिलोथ मोटर पुल और जोशियाड़ा झूला पुल बाढ़ की भेंट चढ़ने से वहां जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। दोनों कस्बे पुलों से उत्तरकाशी शहर से जुड़े थे। लेकिन अब वे उत्तरकाशी से केवल जोशियाड़ा का मोटर पुल से जुड़े हैं। जिससे उनकी शहर के साथ दूरियां बढ़ गई है। इसके साथ ही गंगोरी पार भटवाड़ी की ओर से भी भौगालिक स्थितियां बदल गई हैं। दूरियां बढ़ने से सर्वाधिक कर्मचारी परेशान हैं। चंद मीटर और कुछ मिनटों का फासला उनके लिए अब लंबी दूरी और घंटों की हो गई है। उनमें भी स्वास्थ्य विभाग, पेजयल , विद्युत विभाग, राजस्व विभाग जैसे कार्यालयों के कर्मचारियों की दिक्कतें तो और ज्यादा हैं।

निशुल्क परिवहन व्यवस्था की मांग
उत्तरकाशी। युवा कांग्रेस अध्यक्ष कनकपाल सिंह परमार ने जिले के प्रभारी मंत्री से नगर एवं आसपास के क्षेत्रों में लोगों की आवाजाही के लिए निशुल्क सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था करने की मांग की है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, पांच साल की सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

योगी कैबिनेट ने लिए 10 बड़े फैसले, गांवों में मांस बेचने पर लगी रोक

यूपी की योगी सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए गांवों में मांस की बिक्री पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है।

24 जनवरी 2018