विज्ञापन
विज्ञापन

अंतरराज्यीय वन तस्कर गिरोह का भंडाफोड़

अमर उजाला ब्यूरो Updated Thu, 20 Jun 2019 12:09 AM IST
बाजपुर कोतवाली खैर से भरे ट्रक, गिरफ्तार दो तस्कर और पुलिस टीम।
बाजपुर कोतवाली खैर से भरे ट्रक, गिरफ्तार दो तस्कर और पुलिस टीम। - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो
ख़बर सुनें
खैर की लकड़ी से लदा दस टायरा ट्रक समेत अंतरराज्यीय गिरोह के दो तस्करों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया, जबकि गिरोह का सरगना समेत पांच तस्कर फरार हो गए। ट्रक में 93.80 क्विंटल खैर की लकड़ी बरामद हुई, जिसकी कीमत साढ़े आठ लाख बताई गई है।
विज्ञापन
विज्ञापन
बुधवार को कोतवाली में अपर पुलिस अधीक्षक डॉ. जगदीश चंद ने बताया कि सूचना पर सीओ एमसी बिन्जौला, यूटी सीओ नरेंद्र पंत, कोतवाल चंचल शर्मा के निर्देशन में पुलिस टीम ने बन्नाखेड़ा मार्ग पर ट्रक आरजे4जीबी0647 को रोककर जांच पड़ताल की। तलाशी में तिरपाल से ढक कर लाई जा रही खैर की लकड़ी बरामद हुई। इसी दौरान मौका पाकर पांच तस्कर फरार हो गए, जबकि हरियाणा के गांव सामगड़ी सोनीपत निवासी चालक सुनील कुमार, बाजपुर के गांव रैंहटा निवासी ममले को गिरफ्तार कर लिया। ममले अवैध खैर की लकड़ी का सप्लायर है, जबकि जस्सा सिंह, रामअवतार निवासी गांव रैंहटा (बाजपुर), अतर सिंह निवासी गांव भीकमपुरी बाजपुर, यासीन, मोहब्बे निवासी गांव बरहैनी बाजपुर फरार हो गए।

गिरफ्तार आरोपियों के खिलाफ 379/411 और 26 वन अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर दोनों को जेल भेज दिया है। पांच तस्करों की तलाश में उनके ठिकानों पर दबिश दी जा रही है। आरोपियों का आपराधिक रिकार्ड खंगाला जा रहा है। टीम एसआई अशोक कांडपाल, लोकेश तिवारी, नरेंद्र पाठक, संदीप पुंडीर, बसंत पांडे शामिल हैं।

कत्था की फैक्ट्रियों में सप्लाई होती है खैर की लकड़ी
बाजपुर। एएसपी डॉ. जगदीश चंद ने बताया कि अंतरराज्यीय खैर तस्कर गिरोह में उत्तराखंड की वन संपदा की चोरी कर हरियाणा की कत्था फैक्ट्रियों में दलालों के माध्यम से बेचता था। लकड़ी ले जाते समय तस्कर गिरोह पहले ही रास्ते पर नजर रखता था। गिरोह में ड्राइवर सुनील लकड़ी का सप्लायर का भी काम करता था। ममले बरहैनी और बन्नाखेड़ा क्षेत्र के जंगलों से खैर के पेड़ों की तलाश कर उन्हें काटता था।

जस्सा सिंह हरियाणा में अवैध खैर की लकड़ी की दलाली का काम करता है। इसके अलावा रामअवतार माल सप्लायर, अमर सिंह जंगल से खैर की लकड़ी काटने, यासीन जंगल से खैर काटने और सप्लाई करने, मोहब्बे हरियाणा में दलालों से संपर्क कर बेचने का काम करता है। गिरोह में शामिल सभी सदस्यों के अलग काम बंटे हैं, जिससे लकड़ी ले जाने से बेचने तक कोई दिक्कत ना हो। गिरोह के कई सदस्य पहले पकड़े जाने की बात सामने आई है, लेकिन थानों से संपर्क कर रिकार्ड खंगाला जा रहा है।

गौलापार, बरहैनी, बन्नाखेड़ा से करते थे खैर की तस्करी
बाजपुर। बन्नाखेड़ा पुलिस चौकी इंचार्ज अशोक कांडपाल ने बताया कि वन तस्कर हल्द्वानी के गौलापार जू क्षेत्र, बरहैनी और बन्नाखेड़ा जंगलात क्षेत्र से अवैध कटान कर खैर की लकड़ी को बाइक, साइकिल समेत अन्य छोटे वाहनों से बाजपुर के गांव रैहटा में एक स्थान पर एकत्र करते थे। उसके बाद ट्रक में भरकर हरियाणा जाकर बेचते थे। 

Recommended

IIM के स्टूडेंट्स को पीछे छोड़ आगे बढ़ रहे हैं इस कैंपस के छात्र, मिले 23 लाख के पैकेज
Doon Business School dehradun

IIM के स्टूडेंट्स को पीछे छोड़ आगे बढ़ रहे हैं इस कैंपस के छात्र, मिले 23 लाख के पैकेज

समस्या कैसे भी हो, हमारे ज्योतिषी से पूछें सवाल और पाएं जवाब मात्र 99 रूपये में
Astrology

समस्या कैसे भी हो, हमारे ज्योतिषी से पूछें सवाल और पाएं जवाब मात्र 99 रूपये में

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Udham Singh Nagar

क्षेत्र की दो सड़कें निरस्त होने पर कांग्रेसियों ने आर्य का पुतला फूंका

क्षेत्र की दो सड़कें निरस्त होने पर कांग्रेसियों ने आर्य का पुतला फूंका

18 जुलाई 2019

विज्ञापन

सावन में कनखल के दक्षेश्वर महादेव मंदिर में उमड़े भक्त, ये नगरी है भगवान शिव की ससुराल

बुधवार से सावन का महीना शुरू हो गया है और इसी के साथ देश के तमाम शिवालयों में भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी है। आपको दिखाते हैं हरिद्वार के कनखल में बने दक्षेश्वर महादेव मंदिर की तस्वीर। जानिए आखिर क्यों इस जगह को भगवान शिव की ससुराल कहा जाता है।

18 जुलाई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree