ढेकुली से धान कूटने की परंपरा का प्रदर्शन

Udham singh nagar Updated Sat, 22 Dec 2012 05:31 AM IST
खटीमा। महिला समाख्या की ओर से आयोजित शिक्षा साक्षरा उत्सव में उम्रदराज महिलाओं और बालिका शिक्षा केंद्र की बालिकाओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। इस दौरान महिलाओं ने दसकों पूर्व ढेकुली से धान कूटने की परंपरा का प्रदर्शन कर दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। अंत में बालिकाओं एवं महिलाओं के परीक्षाफल बांटे गए।
थारु विकास भवन में आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ डीआरजी सदस्य डा. सुनीता रतूड़ी, जिला संदर्भ व्यक्ति सुनीता भट्ट और पूनम राणा ने किया। जिला संदर्भ व्यक्ति भट्ट ने कहा कार्यक्रम का उद्देश्य महिला समाख्या एवं सबेरा संघ से जुड़ी तीसरी, पांचवीं और आठवीं की परीक्षा देने वाली महिलाओं और बालिकाओं को परीक्षाफल देना है ताकि अन्य महिलाएं भी शिक्षा के प्रति प्रेरित हो सकें। अजीमजी प्रेमजी फाउंडेशन के जयशंकर चौबे ने शिक्षा के अधिकार कानून की जानकारी दी। डा. रतूड़ी ने कहा कि महिला समाख्या ने महिलाओं को जागरूक करने में अहम भूमिका अदा की है। महिलाएं शिक्षा के साथ ही जड़ी-बूटी और अपनी पुरानी परंपराओं को महत्व दे रही हैं। बीडीसी राणा ने कहा कि महिलाओं का शिक्षित करने का ही परिणाम है कि आज कई महिलाएं आंगनबाड़ी सहायिकाएं और भोजनमाताएं बन गई हैं। इस अवसर पर जानकी खोलिया, लक्ष्मी रैकवाल आदि मौजूद थे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

अमित शाह के इस बयान पर उत्तराखंड कांग्रेस हुई हमलावर

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा राहुल गांधी पर की गई टिप्पणी के बाद उत्तराखंड कांग्रेस आग-बबूला हो गई है।

21 सितंबर 2017