सिडकुल में लगेगा महिंद्रा एंड महिंद्रा का कारखाना

Udham singh nagar Updated Sun, 03 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
सितारगंज। महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी का सिडकुल में कारखाना लगने की संभावना है, कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों ने सिडकुल में भूमि का चयन कर देहरादून में मुख्यमंत्री और सिडकुल के उच्चाधिकारियों से मिलकर उद्योग लगाने के लिए वार्ता की। वहीं, कारखाना स्थापना की संभावनाओं से सितारगंज के नोएडा की तर्ज पर औद्योगिक नगरी बनने की उम्मीद जाग उठी है। कंपनी ने शासन में अपनी महत्वाकांक्षी योजना के लिए सात सौ एकड़ भूमि की मांग रखी है, यदि महिंद्रा एंड महिंद्रा उद्योग की स्थापना होती है तो इससे राज्य के हजारों उत्तराखंडियों को रोजगार मिलेगा। सिडकुल में महिन्द्रा कंपनी के छोटे-बड़े वाहन बनेंगे।
विज्ञापन

वर्ष 2005 में संपूर्णानंद शिविर (खुली जेल) की 1093 एकड़ भूमि एल्डिको सिडकुल को उद्योगों की स्थापना के लिए हस्तांतरित की गई थी, जिसमें वर्तमान में 145 उद्योग स्थापित हैं, जिनमें 110 उद्योगों में उत्पादन हो रहा है और 35 उद्योग निर्माणाधीन हैं, इसके अतिरिक्त सिडकुल को दी गई 12 सौ एकड़ भूमि खाली पड़ी है।
बीते दिनों महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी के यहां उद्योग लगाने की मंशा धीरे-धीरे सिरे चढ़ती नजर आ रही है। महिंद्रा एंड महिंद्रा के मैनेजिंग डायरेक्टर एवं रुद्रपुर और हरिद्वार कारखाने के प्लांट हेड देहरादून में मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा, प्रमुख सचिव उद्योग डा. राकेश शर्मा, सिडकुल के जीएम शर्मा से और खाली पड़ी सिडकुल की सात सौ एकड़ भूमि पर उद्योग लगाने की इच्छा जाहिर की। सिडकुल के क्षेत्रीय प्रबंधक पीसी जोशी ने बताया यहां स्थापित होने वाले उद्योग में महिंद्रा की कार, बुलेरो, ट्रक, बस समेत कई छोटे-बडे़ वाहन बनेंगे। महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी के यहां स्थापित होने की संभावना से सितारगंज के नोएडा की तर्ज पर औद्योगिक नगरी बनने एवं राज्य के हजारों उत्तराखंडियों को रोजगार मिलने की उम्मीद जगी है। सिडकुल के अधिकारियों का मानना है महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी क्षेत्र के विकास में मील का पत्थर साबित होगी। सिडकुल के जीएम एसके शर्मा ने बताया सात सौ एकड़ भूमि महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी को देने के बाद शेष पांच सौ एकड़ में सैकड़ों बेंडर स्थापित होंगे।
सिडकुल की डेढ़ सौ एकड़ भूमि पर अतिक्रमण
सितारगंज। सिडकुल की करीब सैकड़ों एकड़ भूमि पर अतिक्रमणकारियों का कब्जा है। भूमि को अतिक्रमणकारियों के चंगुल से मुक्त कराने के लिए सिडकुल के अधिकारी तो गंभीर हैं, पर प्रशासन उदासीन बना हुआ है। इस मामले में सिडकुल के क्षेत्रीय प्रबंधक ने अतिक्रमणकारियों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराया। इसके अलावा तहसील स्तर से जिला एवं प्रदेश स्तर के अधिकारियों से मिलकर जमीन मुक्त कराने की गुहार भी लगा चुके हैं, लेकिन कार्रवाई नगण्य रही, इससे अतिक्रमणकारियों के हौसले बुलंद हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us