राज्य की पहली सौर ऊर्जा पंपिंग का सफल परीक्षण

Tehri Updated Sun, 26 Jan 2014 05:48 AM IST
चंबा (टिहरी)। चंबा के चुरेड़धार में राज्य की पहली सोलर पंपिंग योजना बनकर तैयार हो गई है। शनिवार को सौर ऊर्जा से पंपिंग पानी का सफल परीक्षण किया गया। स्वामी राम हिमालयन इंस्टीट्यूट हॉस्पिटल ट्रस्ट और रतन टाटा ट्रस्ट वित्तपोषित की ओर से 20 लाख की लागत की से बनी इस योजना से गांव के टैंक में पानी पहुंच गया है। अप्रैल 2013 में योजना का निर्माण शुरू हुआ था जो नौ माह में बनकर तैयार हो गया।
एचआईएचटी ने रतन टाटा ट्रस्ट के सहयोग से सोलर पंपिंग योजना का निर्माण कार्य पूरा कर इस दिशा में महत्वपूर्ण पहल की है। प्रखंड के चुरेड़धार गांव के ग्रामीणों को पानी के लिए जल संस्थान और प्राकृतिक स्रोत की जरूरत नहीं है। स्वामी राम हिमालयन यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट रजिस्ट्रार डा. रोमिल भट्टकोटी ने चुरेणधार पहुंचकर योजना का स्थलीय निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि पहाड़ में मूलभूत सुविधाओं के अभाव में पलायन हो रहा है। ऐसे में यह योजना पलायन रोकने में मील का पत्थर साबित होगी। भविष्य में यदि सरकार इस पर गौर करे तो पहाड़ के अन्य गांवों में पेयजल किल्लत दूर हो सकती है। इस मौके पर हिम उत्थान के सहायक गिरवीर नेगी, कम्यूनिटी टेक्नीशियन जगदंबा बेलवाल, संस्थान के मीडिया समन्वयक अनूप रावत आदि उपस्थित थे।

सौर ऊर्जा से 225 मीटर खड़ी चढ़ाई तक पहुंचा पानी
चंबा (टिहरी)। . . . साहब सब कुछ मांग लो, मगर पीने का पानी मत मांगो। ससुराल आकर 50 सालों से रोज सुबह पेयजल किल्लत एक टीस देती है। बाल सफेद हो गए हैं, कदमों में भी जान नहीं रही, न जाने कब घर पर पानी नसीब होगा। चुरेड़धार की 65 वर्षीय गुड्डी देवी की इन बातों ने विष्णु शरण के दिल पर चोट कर दी। फिर क्या था उन्होंने सौर ऊर्जा से गांव तक पानी पहुंचाने की ठानी। अब गांव की गुड्डी देवी ही नहीं 38 परिवारों के 225 लोगों की रोजाना पानी के लिए भटकने की समस्या खत्म हो गई है।
चंबा से 5 किमी दूर चुरेड़धार गांव स्थित है। गांव में पेयजल किल्लत वर्षों पुरानी है। सुबह होते ही ग्रामीणों को पानी के लिए 5 किलोमीटर दूर प्राकृतिक स्रोतों पर घंटों खड़े होकर अपने नंबर का इंतजार करना पड़ता था। बारह महीने पानी के लिए त्राहि-त्राहि मची रहती थी। एचआईएचटी के मुख्य कार्यकारी इंजीनियर विष्णु शरण मार्च 2013 में घूमते हुए चुरेणधार गांव पहुंचे थे। जब उन्होंने गांव में पेयजल की बुरी स्थिति देखी तो उन्होंने पेयजल स्रोत से गांव तक पानी पहुंचाने की ठानी। उन्होंने पेयजल स्रोत के पास बड़ी मात्रा में पानी इकट्ठा करने के लिए 12,500 लीटर का एक वाटर टैंक बनाया। इसके बाद पानी को गांव तक खड़ी चढ़ाई में पहुंचाने की समस्या सामने आई। इसके लिए उन्होंने गांव में सोलर पैनल लगाने की योजना बनाई। ग्रामीणों को इसका पता चला तो वह भी मदद को आगे आए। फिर क्या था ग्रामीणों के सहयोग से सोलर पंपिंग योजना बनकर तैयार हो गई है। अब गांव में ही सौर ऊर्जा से 225 मीटर पाइपों के जरिए पानी पहुंच गया है।

दो पैनल में लगी हैं 25 प्लेटें
सूर्य की ऊर्जा को एकत्रित करने के लिए गांव में सौर ऊर्जा के दो पैनल लगाए गए हैं। एक पैनल में 30 और दूसरे में 20 प्लेटें लगाई गई हैं। इससे जुड़ी तार को पाइप के माध्यम से पेयजल स्रोत में पहुंचाया गया है। ऊर्जा के माध्यम से पानी 182 मीटर खड़ी ऊंचाई में पंप कर गांव स्थित टैंक में पहुंचाया जाता है।

दो बड़े टैंकों का किया निर्माण
पानी एकत्रित करने के लिए दो टैंकों का निर्माण किया गया है। प्राकृतिक पेयजल स्रोत में पानी एकत्रित करने के लिए 12,500 लीटर का टैंक बनाया गया है। पंप होने के बाद पानी गांव के टैंक में पहुंचता है, जिसकी क्षमता 6000 लीटर है। इस योजना में 20 लीटर प्रति मिनट पानी पंप किया जाता है। तीन दिनों तक सूर्य न निकलने के बाद भी इससे पानी पंप किया जा सकता है।

ग्रामीणों की समिति करेगी रख-रखाव
सोलर पंपिंग योजना के सुचारु क्रियान्वयन के लिए गांव में ग्राम सशक्तिकरण समिति बनाई गई है। इसमें संरक्षक पद पर धर्म दत्त डबराल, अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद और राम प्रसाद डबराल सचिव बनाए गए हैं। इस समिति में ग्रामीणों ने चंदा कर 90 हजार रुपये जमा कर दिए हैं, जिसके माध्यम से भविष्य में योजना का रख-रखाव किया जाएगा।

Spotlight

Most Read

Ballia

अभाविप ने फूंका केरल सरकार का पुतला

कार्यकर्ता की हत्‍या के विरोध में फूटा गुस्सा

21 जनवरी 2018

Related Videos

बीजेपी सरकार खतलिंग मेले को लेगी गोद: सतपाल महाराज

उत्तराखंड के पर्यटनमंत्री सतपाल महाराज ने मंगलवार को सात दिवसीय घुत्तु खतलिंग पर्यटन मेले का उद्घघाटन किया। घुत्तु खतलिंग पर्यटन मेले का आयोजन पिछले 34 वर्षों से किया जा रहा है।

5 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper