बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

टिहरी झील से पर्यटन को सिर्फ चहलकदमी

Tehri Updated Mon, 11 Feb 2013 05:31 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
नई टिहरी। टिहरी झील से पर्यटन विस्तार की अपार संभावनाओं को देख रही सरकार की चहलकदमी रविवार को नजर आई। पहले सीएम विजय बहुगुणा के कोटी कालोनी पहुंचने की सूचना आई। सरकारी मशीनरी ने पूरी तैयारी की, लेकिन बाद में यह कार्यक्रम रद्द हो गया। इसके बाद, प्रमुख सचिव औद्योगिक विकास राकेश शर्मा दो आर्किटेक्ट को साथ लेकर पहुंचे। झील का निरीक्षण किया और फिर वापस देहरादून लौट गए।
विज्ञापन

सरकार टिहरी झील में पर्यटन से संबंधित तमाम गतिविधियों को बढ़ावा देने की कोशिश में जुटी है, मगर अब भी धरातल पर कुछ खास नजर नहीं आ रहा है। रविवार को सुबह सवेरे बड़ी गंभीरता और तेजी से सूचना आई कि सीएम कोटी कालोनी पहुंच रहे हैं। यहां पर टीएचडीसी और पर्यटन विभाग के अफसरों के साथ उनकी बैठक का कार्यक्रम बताया गया। सूचना ये थी कि सीएम के साथ दिल्ली के कुछ उद्योगपति भी मौजूद रहेंगे। डीएम डा.रजीत कुमार सिन्हा, एसपी जन्मेजय खंडूरी, टीएचडीसी महाप्रबंधक डीके गोविल अधिकारियों के साथ 12 बजे तक हैलीपैड पर मुस्तैद रहे। बाद में सूचना आई की सीएम का दौरा रद्द हो गया और अब उनके पुत्र साकेत बहुगुणा पहुंच रहे है। अधिकारी वहां से बैरंग लौट गए। अपराह्न डेढ़ बजे प्रमुख सचिव उद्योग के कोटी कालोनी पहुंचने की सूचना पर डीएम फिर से कोटी कालोनी पहुंचे। प्रमुख सचिव ने थोड़ी देर यहां रुककर झील का निरीक्षण किया और लौट गए। 30 दिसंबर 2012 को भी सीएम बहुगुणा के भागीरथीपुरम में पर्यटन गतिविधियों की प्रगति को लेकर केंद सरकार की टीम के साथ पहुंचने का कार्यक्रम बना था, लेकिन बाद में सीएम हेलीकाप्टर से झील का हवाई दौरा कर वापस देहरादून लौट गए थे।





सात साल पुराना सपना, कब होगा पूरा
झील से पर्यटन विस्तार के नाम पर नेताओं, अफसरों के खूब हुए हवाई दौरे
10
व्यावसायिक बोटों का संचालन झील में किया जाना है
42
वर्ग कि.मी.क्षेत्र में फैली हुई है टिहरी की खूबसूरत झील
500
करोड़ की लागत से बननी है साहसिक खेल अकादमी
अमर उजाला ब्यूरो
नई टिहरी। टिहरी झील से पर्यटन विस्तार के सपने सात साल से दिखाए जा रहे हैं। यह पूरे कब होंगे, पता नहीं। प्रगति के नाम पर नेताओं और अफसरों के हेलीकाप्टर दौरों को छोड़ दें, तो बाकी कुछ नजर नहीं आ रहा। प्रथम चरण में झील में 10 व्यावसायिक बोटों का संचालन, मत्स्य पालन और राजीव गांधी साहसिक खेल अकादमी के निर्माण की योजनाएं सिर्फ कागजों में सिमटी हुई है।
पिलखी से चिन्यालीसौड़ तक 42 वर्ग कि.मी.में फैली टिहरी बांध की झील को लंबे समय से पर्यटन गतिविधियों का इंतजार है, लेकिन झील बनने के सात साल बाद भी इस दिशा में ठोस प्रयास नहीं हो पाए है। वर्ष 2010 में तत्कालीन सीएम डा.रमेश पोखरियाल निशंक ने झील में जल क्रीड़ा का शुभारंभ किया था। तब प्रभावितों को उम्मीद जगी थी कि जिस बांध के लिए उन्होेंनें घरों और खेत खलियानों को डुबो दिया है, उसमें अब रोजगार के साधन निकलकर बाहर आएंगे। सात नवंबर 2012 को सीएम विजय बहुगुणा ने पांच सौ करोड़ की लागत से कोटी कालोनी में राजीव गांधी साहसिक खेल अकादमी की नीव रखते हुए घोषणा की थी कि दो साल के अंतर्गत अकादमी निर्माण पूरा हो जाएगा। कोटी कालोनी में एक कामर्शियल हैलीपैड का निर्माण किया जाएगा, जिसकी कनेक्टिविटी सहस्त्रधारा देहरादून से होगी। चार माह बीतने के बाद भी अकादमी का कार्य शुरू नहीं हो पाया है। अकादमी के लिए चयनित इस मैदान पर इन दिनों बच्चे क्रिकेट खेल रहे हैं।



रिपोर्ट पर जिला पंचायत की कुंडली
नई टिहरी। टिहरी बांध की झील में पर्यटन गतिविधियां शुरू करने के लिए सरकार ने बीते 21 अप्रैल 2012 को गजट नोटिफिकेशन किया था, जिसमें नौकायन, जलक्रीड़ा, राफ्टिंग, मत्स्य पालन, झील किनारे होटल, हट, रेस्टोरेंट, ग्रीन बेल्ट को मंजूरी दी गई है। झील का सौंदर्यीकरण करने, व्यवसायिक बोटों, मत्स्य पालन के लिए लाइसेंस जारी करने की जिम्मेदारी जिला पंचायत को सौपी गई थी। जिला पंचायत ने 10 व्यवसायिक बोटों के लाइसेंस जारी करने और अन्य मानक तय करने के लिए जून माह में सीडीओ की अध्यक्षता में सात सदस्यीय उप समिति का गठन किया था। उप समिति अगस्त माह में अपनी रिपोर्ट जिला पंचायत को सौप चुकी है। बावजूद इस मामले में एक भी कदम आगे नहीं बढ़ पाई है।


उप समिति की रिपोर्ट आ चुकी है। 18 व 19 फरवरी को जिला पंचायत की जनरल बाडी की बैठक होनी है। बैठक में बोट संचालन के लाइसेंस का प्रस्ताव पारित होना आवश्यक है। उसी के बाद लाइसेंस जारी किए जाएंगे।-राजीव त्रिपाठी अपर मुख्य कार्याधिकारी टिहरी

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us