सिद्घबाबा की जयंती पर उत्सव में डूबा कोटद्वार

Tehri Updated Sat, 08 Dec 2012 05:30 AM IST
कोटद्वार। पहाड़ में चल रहे मेेले-कौथिगों के क्रम में अब बारी है कोटद्वार के सिद्घबली महोत्सव की। शुक्रवार को इसकी भव्य शुरुआत हो गई। सुबह परंपरागत रूप से पूजा-अर्चना हुई, तो शाम को भव्य शोभायात्रा को देखने सड़कों पर लोग उमड़ पडे़। पूरे शहर में उत्सवी माहौल साफ दिखाई पड़ रहा है। महोत्सव के प्रति लोगों का जुड़ाव आज पूरे शहर में झलका। यह महोत्सव तीन दिन तक चलेगा। इस दौरान विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।


पिंडी महाभिषेक से शुरू हुई बाबा जयंती
-सिद्धबली महोत्सव का शुभारंभ सुबह पिंडी महाभिषेक से हुआ। इसके साथ ही 12 ब्राह्मणों से रुद्री पाठ भी चलता रहा। उसके बाद गणेश पूजन और गंगा पूजन किया गया। ग्यारह कन्याओं के साथ कौमुदी गंगा की पूजा कर जल मुख्य मंदिर में भगवान के पास लाया गया। उसके बाद ध्वज पूजा आयोजित की गई। उसके बाद एकादशी कुंडी यज्ञ आयोजित किया गया। इसमें मुख्य यजमान प्रसिद्घ उद्योगपति अनिल कंसल थे। उसके अलावा महंत दिलीप रावत सिद्धबली मंदिर समिति के अध्यक्ष कुंजविहारी देवरानी सहित अन्य लोगों ने हवन में आहुति दी। कुल ग्यारह हवन कुंडों में दर्जनों लोगों ने हवन में आहुति दी। मुख्य आचार्य के रूप में अनसुया प्रसाद सेमवाल उपस्थित थे।


मंत्री ने किया उदघाटन
- स्वास्थ्य मंत्री सुरेंद्र सिंह नेगी ने टाटा मोटर्स पर नारियल फोड़कर और रथ की रस्सी को खींचकर यात्रा का शुभारंभ किया। हालांकि यात्रा की शुरुआत मंदिर से हो गई थी, मगर औपचारिक उद्घाटन बाद में हुआ। नेगी के साथ जीएमओयू के अध्यक्ष जीत सिंह पटवाल सहित कई गणमान्य लोग यात्रा में कुछ दूरी तरह शामिल हुए।

यह रहे आकर्षण का केंद्र
-यूं तो पूरे शोभा यात्रा भव्य और सुंदर तरीके से सजाई गई थी, लेकिन इसमें कई ऐसी झांकियां रहीं, जिन्होंने खास तौर पर ध्यान खींचा। नृत्य पार्टिंयों की प्रस्तुति, गांव और मोहल्लों की कीर्तन मंडलियां, अभिमन्यु युद्ध, जोकर पार्टी और बाबा की डोली सहित कई ऐसी झांकियां थी, जिनको सबसे ज्यादा तारीफ मिली। पूरी शोभा यात्रा में 40 झांकियां शामिल रहीं।


आर्मी बैंड और एस्कान रहे नए आकर्षक
-इस बार आर्मी के बैंड ने भी जलवा बिखेरा। झंडाचौक पर लैंसडौन से आई नायक सूबेदार गोपाल सिंह के नेतृत्व में 13 लोगों की बैंड पार्टी ने एक से एक धुन सेे लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। मशकबीन और ड्रम के साथ मधुर धुनों के साथ उन्होंने गढ़वाली गीत बेडू पाको बारमासा, धनसिंग की गाड़ी चली ऋषिकेश बटी की जैसे गीतों की धुन भी सुनाई। इसके साथ ही एस्कान की झांकी भी इस बार अलग रही। दर्जनों लोग हाथों से रथ को खींच रहे थे। रथ भी पहली बार झांकी में शामिल किया गया था। उसमें चैतन्य महाप्रभु और ध्यान धरे भक्त लोगों को आकर्षित कर रहे थे।

सजा रहा बाजार
-शोभा यात्रा का स्वागत करने के लिए पूरा बाजार लाइट से सजा हुआ था। तहसील से झंडाचौक तक शानदार लाइटिंग की गई है। तमाम दुकानदारों ने अपने प्रतिष्ठानों को भी सजाया हुआ था। जमकर आतिशबाजी भी की गई।



पुलिस रही चौकस
-मेले को लेकर सीओ अरुणा भारती ने कोतवाली क्षेत्र से लेकर बाहर से आए पुलिस कर्मियों की बैठक ली। उनको आवश्यक निर्देश दिए गए। इसमें सभी की ड्यूटी भी निर्धारित की गई। कौड़िया बैरियर से लेकर लालपुल पर पुलिस की लगातार चेकिंग चलती रही। शोभायात्रा में सीओ और कोतवाल अंशु चौधरी खुद कमान को संभाले हुए थी। चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात रही।

Spotlight

Most Read

National

पुरुष के वेश में करती थी लूटपाट, गिरफ्तारी के बाद सुलझे नौ मामले

महिला लड़कों के ड्रेस में लूटपाट को अंजाम देती थी। अपने चेहरे को ढंकने के लिए वह मुंह पर कपड़ा बांधती थी और फिर गॉगल्स लगा लेती थी।

20 जनवरी 2018

Related Videos

बीजेपी सरकार खतलिंग मेले को लेगी गोद: सतपाल महाराज

उत्तराखंड के पर्यटनमंत्री सतपाल महाराज ने मंगलवार को सात दिवसीय घुत्तु खतलिंग पर्यटन मेले का उद्घघाटन किया। घुत्तु खतलिंग पर्यटन मेले का आयोजन पिछले 34 वर्षों से किया जा रहा है।

5 अक्टूबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper