विज्ञापन
विज्ञापन

किसी जिंदा को दो बार मारा तो वर्षों पहले मर चुके व्यक्ति को दर्शाया था मृत

Haldwani Bureauहल्द्वानी ब्यूरो Updated Wed, 24 Jul 2019 12:27 AM IST
ख़बर सुनें
रुद्रपुर। काशीपुर के फिरोजपुर में उजागर हुए जनश्री बीमा योजना में घपले में दलालों ने अफसरों के साथ मिलकर लाखों रुपये का सरकारी पैसा डकारा था।
विज्ञापन
एक महिला के जिंदा पति को दो बार मृत दर्शाकर तो कहीं योजना शुरू होने से पहले ही मर चुके लोगों को दोबारा मरा दर्शाकर एआईसी के दावों का भुगतान प्राप्त कर सरकारी पैसे की लूट की गई थी। 11 साल पहले तत्कालीन एसडीएम की 75 पन्नों की जांच रिपोर्ट पर तत्कालीन अफसर कड़ा एक्शन लेते तो अब तक घपले में लिप्त अफसर और दलालों को सजा तक हो सकती थी।
ये मामला एक गांव का खुला है और अगर विस्तृत जांच की जाए तो जिले में दूसरे गांवों में से ऐसे मामले प्रकाश में आ सकते हैं। सवाल यही उठ रहा है कि आखिर इतने वर्षों तक जांच रिपोर्ट को दबाने वालों पर जांच अब तक क्यों नहीं बैठी है।
दरअसल वर्ष 2007 में सरकार ने बीपीएल परिवारों के लिए जनश्री बीमा योजना शुरू की थी। इसमें वार्षिक प्रीमियम का भुगतान 50 फीसदी राज्य सरकार और 50 फीसदी केंद्र सरकार को किया जाना था। परिवार के मुखिया की स्वाभाविक मृत्यु पर 30 हजार और 75 हजार रुपये का भुगतान उनके आश्रित/दावेदार को किया जाना था।
इसी योजना में दलालों ने अफसरों के साथ मिलकर खेल खेला और 19 फर्जी दावे तैयार कर जिंदा लोगों को मरा दर्शाकर दावे का भुगतान हड़प लिया था। तत्कालीन एसडीएम ने मामले की विस्तृत जांच कर 18 सितंबर 2008 को सीडीओ को भेजी थी। मामले में व्यक्तिगत तौर पर दो मुकदमे भी दर्ज किए गए थे और वह वापस भी हो गए थे। लेकिन वर्षों तक फाइल दबने की वजह से सरकारी स्तर पर कोई कार्रवाई नहीं हो सकी थी।
अब हाईकोर्ट में मामला पहुंचने पर समाज कल्याण निदेशक के स्तर से हुई जांच के बाद अधिकारी, कर्मचारियों और एक ग्रामीण पर मुकदमा दर्ज हुआ है। 11 साल पहले एसडीएम की जांच रिपोर्ट अमर उजाला को मिली तो तमाम चौंकाने वाले मामले प्रकाश में आए हैं। लोगों ने बयानों में खुद कागजों में मृत दिखाकर भुगतान हड़पने की बात एसडीएम के सामने स्वीकारी थी।
इनसेट
केस नंबर एक
फिरोजपुर के सुरेश ने बयान में कहा था कि उसे ग्रामीणों से पता चला था कि उसे मृत दिखाकर बीमे का पैसा लिया गया था। उसकी पत्नी का नाम मुनेश है। उसे दो बार मृत दर्शाकर पैसा लिया गया।
--
केस दो
नरेश कुमार ने कहा था कि उसके पिता का नाम मटरू था। उनकी मृत्यु 10 साल पहले ट्रेन से कटकर हो गई थी लेकिन उसके पिता को मृत दर्शाकर पैसा मंजूर किया गया। जब वह डाकघर गया तो उसे फ्रॉड बताकर भगा दिया गया।
--
केस नंबर तीन
मुन्नी देवी ने बयान में 11 फरवरी 2008 को कहा था कि उसके पति प्रकाश की मृत्यु दो साल पहले यानी 2006 में हुई थी। उसे बीमा योजना का पत्र मिला था और उसे दलाल की ओर से 10 हजार रुपये दिए थे, जो उसने वापस कर दिए थे। उसे पता चला था कि 75 हजार मंजूर हुए हैं।
--
केस नंबर चार
सोमवती नाम की महिला के पति की एक बार हादसे और एक बार स्वाभाविक मौत दर्शाकर क्रमश: 75 हजार और 30 हजार का भुगतान लिया गया था। लेकिन सोमवती ने बयान में कहा था कि उसके पति बाबूराम जीवित हैं। उसे गांव के एक व्यक्ति ने 10 हजार दिए थे और शांत रहने पर 10 हजार और देने की बात कही थी। बीमा का पत्र उसके नाम से आया था लेकिन पैसा कितना मंजूर हुआ था उसे पता नहीं था।
--
केस नंबर पांच
विनोद चंद्र ने कहा था कि वह गांव का स्थायी निवासी है। उसे बीमा योजना में मृत दर्शाकर 75 हजार की धनराशि स्वीकृत की गई थी। इस स्वीकृत राशि को फर्जी तरीके से निकाल दिया गया था।
-----
कई साल पहले मर चुके व्यक्ति के नाम दो बार निकाला पैसा
रुद्रपुर। जनश्री बीमा योजना में बुद्धिराम को दो बार सड़क हादसे में मृत दर्शाकर भुगतान हासिल किया गया था। मामला पकड़ में न आए इसलिए एक भुगतान बीओबी की मुख्य शाखा और एक भुगतान बीबोबी काशीपुर से अलग-अलग खाते खुलवाकर हासिल किए गए। बुद्धिराम की कई साल पहले मृत्यु हो चुुकी थी।
-----
पोस्टमार्टम रिपोर्ट लगी थी फर्जी
रुद्रपुर। एसडीएम ने अपनी जांच में पाया था कि योजना का फर्जी तरीके से लाभ हासिल करने के लिए मृत दर्शाए गए जीवित व्यक्तियों के फर्जी दस्तखत और अंगुठे लगाए गए थे। बीडीओ, ग्राम पंचायत विकास अधिकारी और ग्राम प्रधान की मुहर फर्जी बनाई गई थी। एसडीएम की जांच में जिंदा व्यक्तियों को मृत दर्शाने की पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी फर्जी थी। इसके अलावा जीवित विनोद को हादसे में मृत दर्शाने के बाद फर्जी प्रथम सूचना रिपोर्ट भी तैयार कर दस्तावेजों में लगाई गई थी।
----
11 साल पहले जो थी वादी, वहीं बन गई नामजद आरोपी
रुद्रपुर। सहायक समाज कल्याण अधिकारी की ओर से जनश्री बीमा योजना में घपले में 12 अधिकारी, कर्मचारियों के साथ जिस रामवती को नामजद किया गया है। उसने 11 साल पहले इस मामले में नौ फरवरी 2008 को एक दंपति को नामजद कर धोखाधड़ी और अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था लेकिन मामले में समझौता हो गया था।
अब 11 साल बाद सरकारी स्तर से हुए मुकदमे में उसे नामजद कर दिया गया है।
वहीं, फिरोजपुर गांव में तत्कालीन एसडीएम ने जांच रिपोर्ट में गांव के एक दंपति पर फर्जी भुगतान, फर्जी खाते खुलवाने, लाभार्थियों के नाम से मंजूर धनराशि निकालने और ग्रामीणों से जालसाजी करने को ग्रामीणों के बयान के आधार पर प्रथम दृष्टया दोषी सिद्ध बताया था। इस दंपति के खिलाफ रामवती ने मुकदमा भी दर्ज कराया था। अब 11 साल बाद हुई जांच में रामवती को तो नामजद आरोपियों में शामिल किया गया है, लेकिन इस दंपति का कहीं जिक्र नहीं है। इसको लेकर फिरोजपुर में बड़ी चर्चा है। कई लोग दंपति के रसूख को इसकी वजह मान रहे हैं।
--
जो पात्र थी, उसको भी नहीं मिला पैसा
रुद्रपुर। एसडीएम की जांच में ग्रामीण हरप्यारी ने कहा था कि उसके पति की मृत्यु 13 जून 2007 को हुई थी। ये मौत स्वाभाविक थी। लेकिन उसे पता नहीं कि योजना में उसके नाम का पैसा मंजूर है या नहीं है। हालांकि प्रकरण में हरप्यारी के नाम से 30 हजार रुपये का भुगतान प्राप्त कर डकार लिया गया था।
डाक विभाग भी कराएगा विभागीय जांच
रुद्रपुर। डाक विभाग के एसएसपी आरएस तोमर ने बताया कि विभाग के जिन अधिकारियों के खिलाफ जनश्री बीमा योजना में धांधली को लेकर मुकदमा दर्ज हुआ है, उसकी विभागीय स्तर पर भी जांच कराई जाएगी। जांच में दोषी मिलने पर नियमानुसार विभागीय कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। बताया कि मामले की जांच विभाग के इंस्पेक्टर से कराई जाएगी।
विज्ञापन

Recommended

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी
Invertis university

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी

समस्या कैसी भी हो, पाएं इसका अचूक समाधान प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से केवल 99 रुपये में
Astrology Services

समस्या कैसी भी हो, पाएं इसका अचूक समाधान प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से केवल 99 रुपये में

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Rudraprayag

गलत शपथपत्र देने पर आंगनबाड़ी सहायिका की सेवा समाप्त

गलत शपथपत्र देने पर आंगनबाड़ी सहायिका की सेवा समाप्त

25 अगस्त 2019

विज्ञापन

देशभर में जन्माष्टमी की धूम, वृंदावन के इस्कॉन मंदिर में लगी भक्तों की भीड़

पूरे भारत में भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव यानी जन्माष्टमी बहुत ही हर्षोल्लास और धूमधाम से मनाया जा रहा है। वृंदावन के इस्कॉन मंदिर में भी भक्तों का तांता लगा हुआ नजर आया।

25 अगस्त 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree