छात्रावास में चल रहा महाविद्यालय

Rudraprayag Updated Sat, 01 Dec 2012 12:00 PM IST
रुद्रप्रयाग। राजकीय महाविद्यालय में पर्याप्त कमरे नहीं होने की वजह से चार वर्ष पूर्व स्वीकृत पाठ्यक्रम संचालित नहीं हो पा रहे हैं, जिसका खामियाजा छात्राें को उठाना पड़ रहा है। ऐसे में छात्राें को इंटरमीडिएट के बाद उच्च शिक्षा के लिए अगस्त्यमुनि और श्रीनगर जाना पड़ रहा है।
वर्ष 2006 में रैंतोली में आईटीआई के छात्रावास पर राजकीय महाविद्यालय का संचालन किया गया। वर्तमान में यहां सिर्फ बीबीए और बीसीए की कक्षाएं संचालित हो रही हैं। क्षेत्रीय जनता द्वारा व्यवसायिक पाठ्यक्रम के साथ-साथ जनरल पाठ्यक्रम संचालित करने की मांग को देखते हुए 08 मई 2008 को तत्कालीन मुख्यमंत्री बीसी खंडूरी ने महाविद्यालय में शिक्षण सत्र 2008-09 से बीए और बीएससी की कक्षाओं की स्वीकृति दी थी, लेेकिन चार वर्ष गुजरने के बावजूद अभी तक कक्षाएं शुरू नहीं पाई हैैं। हालांकि नौ अगस्त 2010 को शासनादेश निर्गत कर सरकार द्वारा महाविद्यालय में बीए और बीएससी हेतु 11 शिक्षक और आठ शिक्षणेतर कर्मचारियों के पद सृजित भी किए जा चुके हैं।
महाविद्यालय की प्रभारी प्राचार्य डा. माधुरी ने बताया कि बीए और बीएससी पाठ्यक्रम की कक्षाआें के संचालन में स्थान की कमी आड़े आ रही है। जगह की तलाश की जा रही है। पर्याप्त स्थान मिलते ही विश्वविद्यालय से एफिलेशन लेकर कक्षाएं शुरू करवाई जाएंगी।

Spotlight

Most Read

National

VHP के पदाधिकारी अब भी तोगड़िया के साथ, फरवरी के अंत तक RSS लेगा ठोस फैसला

संघ की कोशिश अब फरवरी के अंत में होने वाली विहिप की कार्यकारी की बैठक से पहले तोगड़िया की संगठन में पकड़ खत्म करने की है।

22 जनवरी 2018

Related Videos

केदारनाथ में दो वर्ष बाद फिर दिखा ये विलुप्त जानवर

केदारनाथ धाम में सरस्वती घाट क्षेत्र में हिमालयन फाक्स दिखाई दी। यहां लगे क्लोज सर्किट कैमरे में 43 सेकंड तक कैद हुआ यह दुर्लभ वन्य जीव बर्फ में अठखेलियां करता हुआ दिख रहा है। आपदा के बाद यह जीव यहां दूसरी बार नजर आया है।

4 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper