हफ्तेभर बाद होगी आवाजाही सुलभ

Rudraprayag Updated Tue, 16 Oct 2012 12:00 PM IST
गुप्तकाशी। एक माह से आपदा की वजह से क्षतिग्रस्त हुए कुंड-ऊखीमठ और विद्यापीठ-चुन्नी संपर्क मोटर मार्ग ठीक नहीं हो पाया है, जिससे लोगों को आवाजाही में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि लोनिवि ने सड़क का मलबा साफ करने के लिए मशीन लगा दी है। लोनिवि के अनुसार, दोनों मार्गों को खुलने में एक हफ्ते का समय लग जाएगा।
ज्ञात रहे कि 13/14 सितंबर को बादल फटने से हुए भूस्खलन और बाढ़ से प्रभावित क्षेत्र को जोड़ने वाला कुुंड-ऊखीमठ (8 किमी) मोटर मार्ग ध्वस्त हो गया था। लोनिवि ने 10 अक्तूबर तक सड़क खोलने का दावा किया था, लेकिन 15 अक्तूबर बीतने के बाद भी सड़क नहीं खुल पाई है। लोनिवि चुन्नी गांव और जेबरी के बीच के पैच में हिल कटिंग कर रास्ता चौड़ा नहीं कर पा रहा है। स्थानीय निवासियों के अनुसार वर्ष 1965 में सड़क निर्माण के बाद यह पहला अवसर है, जब सड़क एक माह से अधिक समय तक बंद रही है।
इधर, लोनिवि ने ऊखीमठ के ठीक सामने से निर्माणाधीन सड़क का मलबा हटाने का कार्य शुरू कर दिया है। उक्त सड़क ऊखीमठ मुख्यालय को केदारघाटी से सीधे जोड़ने के लिए बनाई जा रही है। इस पर पुल सहित एप्रोच रोड का निर्माण हो चुका है, लेकिन बरसात के दौरान मलबा आने से यह जगह-जगह क्षतिग्रस्त हो गई है।

दोनों सड़काें को खोलने की कार्यवाही गतिमान है। कुंड रोड पर चट्टानों के विस्फोट से नहीं टूटने के कारण खोलने में दिक्कत आ रही है। -आरसीएस पाल, ईई लोनिवि

Spotlight

Most Read

Pratapgarh

अभी तक एक भी अपात्र से नहीं हुई रिकवरी

अभी तक एक भी अपात्र से नहीं हुई रिकवरी

20 जनवरी 2018

Related Videos

केदारनाथ में दो वर्ष बाद फिर दिखा ये विलुप्त जानवर

केदारनाथ धाम में सरस्वती घाट क्षेत्र में हिमालयन फाक्स दिखाई दी। यहां लगे क्लोज सर्किट कैमरे में 43 सेकंड तक कैद हुआ यह दुर्लभ वन्य जीव बर्फ में अठखेलियां करता हुआ दिख रहा है। आपदा के बाद यह जीव यहां दूसरी बार नजर आया है।

4 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper