विज्ञापन

सरकार के समक्ष प्रमुखता से रखूंगी स्वास्थ्य समस्याएं: पंत

Haldwani Bureauहल्द्वानी ब्यूरो Updated Thu, 16 Jan 2020 10:36 PM IST
पिथौरागढ़ अमर उजाला कार्यालय में जनपद की स्वास्थ्य व्यवस्था में सुधार विषय पर संवाद कार्यक्रम म
पिथौरागढ़ अमर उजाला कार्यालय में जनपद की स्वास्थ्य व्यवस्था में सुधार विषय पर संवाद कार्यक्रम म - फोटो : PITHORAGARH
ख़बर सुनें
पिथौरागढ़। जिला मुख्यालय समेत ग्रामीण क्षेत्रों बदहाल चिकित्सा व्यवस्था को लेकर अमर उजाला ने लगातार सात दिन अभियान चलाया। अभियान के अंतिम दिन बृहस्पतिवार को विभिन्न संगठनों के साथ आयोजित संवाद कार्यक्रम में विधायक चंद्रा पंत ने लोगों को जिले की स्वास्थ्य समस्याओं को सरकार के समक्ष प्रमुखता से रखने का भरोसा दिलाया। कहा कि समस्याओं के समाधान को हर संभव कोशिश की जाएगी।
विज्ञापन
अमर उजाला कार्यालय में आयोजित संवाद में जन मंच के संयोजक भगवान सिंह रावत ने कहा कि वर्तमान में जिला और महिला अस्पताल दोनों रेफरल सेंटर बन कर रह गए हैं। कई चिकित्सकों द्वारा दुर्व्यवहार की आए दिन शिकायतें मिलती हैं। उन्होंने व्यवस्थाओं में सुधार के लिए ठोस प्रयास किए जाने का सुझाव दिया। अधिवक्ता अजय बोहरा ने कहा कि अस्पतालों में संसाधनों की कमी है। महिलाओं को सुविधा मिलनी चाहिए। डॉक्टरों के स्वीकृत पदों के सापेक्ष 90 फीसदी पद भरे होने चाहिए। अस्पताल में एक विशेषज्ञ डॉक्टर हमेशा तैनात रहना चाहिए। उन्होंने मरीजों की सुविधा के लिए आईसीयू में पदों की तैनाती किए जाने का सुझाव दिया।
पूर्व सैनिक संगठन के नरेंद्र चंद ने अस्पतालों में सुधार किए जाने का सुझाव दिया। उन्होेंने सवाल उठाया कि अस्पताल वर्तमान में रेफरल सेंटर क्यों बने हैं। सीमांत की स्वास्थ्य व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त होनी चाहिए। पूर्व जिपं सदस्य एवं तीलू रौतेली पुरस्कार प्राप्त लक्ष्मी भट्ट ने कहा कि अस्पताल में आईसीयू बना है लेकिन मरीजों को इसका लाभ नहीं मिल रहा है। महिला अस्पताल में कभी-कभी एक बेड में दो महिलाएं और नवजात सोए रहते हैं। कई बार आपरेशन के बाद महिलाओं को जमीन पर सोना पड़ता है।
अर्पण संस्था की रेनू ठाकुर ने कहा कि दूरदराज के क्षेत्रों से महिलाएं यहां रेफर होकर आती हैं। उन्हें यहां से भी अन्यत्र रेफर किया जाता है। बताया कि अस्कोट क्षेत्र में पिछले वर्ष प्रसव के बाद तीन महिलाओं की मौत हुई। अस्पतालों में चिकित्सक नहीं हैं, दवाएं नहीं हैं। उन्होंने जिला मुख्यालय के साथ ही पीएचसी, सीएचसी में भी सुधार किए जाने का सुझाव रखा। कहा कि नवजात बच्चों के लिए विशेष व्यवस्था की जानी चाहिए।
बांडधारी चिकित्सक यदि पहाड़ नहीं आना चाहते हैं तो उनके लिए दंड की व्यवस्था की जानी चाहिए। कांग्रेस नेत्री अंजू लुंठी ने कहा कि महिला अस्पताल में रेडियोलॉजिस्ट की स्थायी तैनाती नहीं होने से महिलाओं का काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। गर्भवती महिलाओं को ठंड में जमीन में बैठना पड़ता है। महिलाओं के जांच के लिए कोई लैब नहीं है। खुशियों की सवारियां नियमित नहीं चल रही है। व्यापार संघ अध्यक्ष शमशेर महर ने कहा कि राजनीतिक इच्छा शक्ति की कमी से स्वास्थ्य सुविधा बदहाल है। बेस अस्पताल होता तो मरीजों को काफी सुविधाएं मिलती। कहा कि नगरपालिका की भी एक डिस्पेंसरी होनी चाहिए। उन्होंने क्विक एक्शन टीम गठित करने का भी सुझाव दिया। पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष राकेश जोशी ने कहा कि अस्पतालों में गरीबों को हर संभव सुविधा मिलनी चाहिए। डॉ. तारा सिंह ने कहा कि सभी लोगों को मिलजुल कर समस्याओं के समाधान के लिए प्रयास करने चाहिए। जिला पंचायत उपाध्यक्ष कोमल मेहता ने कहा कि सामाजिक सरोकारों की जिम्मेदारी सभी लोगों की है। स्वास्थ्य सेवाओं के लिए राजनीति नहीं की जानी चाहिए। डॉ. गुरुकुलानंद सरस्वती ने कहा कि चिकित्सकों को मरीजों का दुख दूर करना चाहिए। ग्रामीण क्षेत्रों में सुविधाएं विकसित हों तो चिकित्सक जरूर जाएंगे।
विधायक चंद्रा पंत ने कहा कि अस्पतालों में चिकित्सकों और अन्य सुविधाओं के लिए शपथ ग्रहण करने के बाद वह तुरंत मुख्यमंत्री से मिलीं। कहा कि स्वास्थ्य सेवा को लेकर उनके पति स्व. प्रकाश पंत ने काफी सपने देखे। जिला अस्पताल में आईसीयू बनाया गया। इसमें विशेषज्ञ चिकित्सक और प्रशिक्षित स्टॉफ की तैनाती किए जाने की मांग मुख्यमंत्री के समक्ष रखी गई है। बेस अस्पताल का कार्य अगले वर्ष तक पूरा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि जनता जागरूक होगी तो सभी समस्याओं का समाधान होगा। अस्पतालों की व्यवस्थाओं में सुधार के लिए जो भी सुझाव मिले हैं। उन पर अमल किया जाएगा। इस मौके पर भाजपा नेता भूपेश पंत, रघुवीर चंद, कृपाल वल्दिया, सुरेश कसनियाल, भगवान सिंह, आरडी उप्रेती आदि मौजूद रहे।
सीमित संसाधनों में कर रहे हैं बेहतर इलाज: डॉ. नबियाल
पिथौरागढ़। महिला अस्पताल के सीएमएस डॉ. जेएस नबियाल ने कहा कि सीमित संसाधनों के बीच मरीजों को हर संभव सुविधाएं मुहैया कराने का प्रयास किया जाता है। प्रसव के दौरान कोई केस बिगड़ने पर ही रेफर किया जाता है। कहा कि प्रसव के बाद 20 फीसदी बच्चे ऐसे होते हैं जिन्हें सांस संबंधी दिक्कत होती है। अस्पताल में नवजात सघन चिकित्सा यूनिट होनी चाहिए। बच्चों के लिए अस्पताल में चार ही बेड हैं। कभी-कभी इनमें 15 बच्चे तक भर्ती करने पड़ते हैं। वेंटिलेटर के लिए स्वास्थ्य निदेशालय को लिखा गया है।
व्यवस्थाओं में सुधार के लिए हो रहे हैं प्रयास: डॉ. खड़ायत
पिथौरागढ़। जिला अस्पताल के पीएमएस डॉ. एचएस खड़ायत ने बताया कि वर्ष 1967 में 45 बेड का अस्पताल था। वर्तमान में 120 बेड का है। अस्पताल में मरीजों का दवाब काफी अधिक है। गर्मियों में मरीजों की बरामदे में व्यवस्था करनी पड़ती है। अस्पताल में हृदय रोग विशेषज्ञ और स्किन के चिकित्सक नहीं हैं। कभी-कभी मरीजों के तीमारदार चिकित्सकों से अभद्रता कर देते हैं। इससे परेशानियां उठानी पड़ती हैं। उन्होंने कहा कि मरीजों को हर संभव सुविधाएं देने के प्रयास किए जाते हैं। व्यवस्थाओं में भी सुधार किया जा रहा है।
विज्ञापन

Recommended

त्योहारों के मौसम में ऐसे बढ़ाएं रिश्तों में मिठास
Dholpur Fresh (Advertorial)

त्योहारों के मौसम में ऐसे बढ़ाएं रिश्तों में मिठास

मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020
Astrology Services

मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020

विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Pithoragarh

तवाघाट में 18 वाहन फंसे, धौलीगंगा से करनी पड़ रही आवाजाही

तवाघाट में 18 वाहन फंसे, धौलीगंगा से करनी पड़ रही आवाजाही

20 जनवरी 2020

विज्ञापन

कांग्रेस ने जारी की सात और उम्मीदवारों की लिस्ट, अरविंद केजरीवाल के खिलाफ रोमेश सभरवाल मैदान में

दिल्ली विधानसभा चुनाव की तारीखें नजदीक आ रही है। कांग्रेस ने अपने और सात उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है। इस लिस्ट में नई दिल्ली जैसी महत्वपूर्ण सीट है।

21 जनवरी 2020

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us