हवा में लटका बहुगुणा जी का जनजाति आयोग!

Pithoragarh Updated Wed, 22 Jan 2014 05:52 AM IST
धारचूला (पिथौरागढ़)। 21 अक्तूबर को धारचूला आगमन पर मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने राज्य में अलग से जनजाति आयोग बनाने की घोषणा की थी। साथ में, मौजूद राजस्व मंत्री यशपाल आर्य ने आयोग में सीमांत क्षेत्र के ही व्यक्ति कोे महत्वपूर्ण जिम्मेदारी देने की बात कही थी, लेकिन यह घोषणा महज घोषणा ही रह गई। अलग से जनजाति आयोग गठित होता तो सूबे के अन्य जनजाति बहुल इलाकों को तो लाभ मिलता ही पिथौरागढ़ जिले के धारचूला और मुनस्यारी के जनजाति समुदाय को भी इसका लाभ मिलता। जनजाति आयोग की घोषणा पूरी न होने से लोग खुद को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। हमने जनजाति समुदाय से जुड़े संगठनों के लोगों के साथ ही सामाजिक क्षेत्र में काम कर रहे लोगों से इस मुद्दे पर बात की, जानिए क्या कहते हैं लोग।
रं कल्याण संस्था के अध्यक्ष अशोक नबियाल कहते हैं कि जब से एससीएसटी आयोग का गठन हुआ है, तब से जनजाति का कोई व्यक्ति अध्यक्ष नहीं बना है। केंद्र में भी एसटी आयोग नहीं है। सूबे के मुख्यमंत्री की घोषणा पूरी न होना जनजाति समुदाय का अपमान है।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

हरियाणाः यमुनानगर में 12वीं के छात्र ने लेडी प्रिंसिपल को मारी तीन गोलियां, मौत

हरियाणा के यमुनानगर में आज स्कूल में घुसकर प्रिंसिपल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मामले में 12वीं के एक छात्र को गिरफ्तार किया गया है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

अमित शाह के इस बयान पर उत्तराखंड कांग्रेस हुई हमलावर

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा राहुल गांधी पर की गई टिप्पणी के बाद उत्तराखंड कांग्रेस आग-बबूला हो गई है।

21 सितंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper