आंधी से बिजली लाइनें टूटीं, बत्ती गुल

Pauri Updated Mon, 20 Jan 2014 05:48 AM IST
कोटद्वार/लैंसडौन/धुमाकोट। शुक्रवार की देर शाम एकाएक मौसम खराब होने से बिजली लाइनों पर कहर टूट गया। बारिश के साथ चली तेज आंधी से कई इलाकों में लाइनें टूटने से बिजली व्यवस्था ठप हो गई। देर शाम तक बिजली व्यवस्था बहाल नहीं हो सकी थी। शुक्रवार को शुरू हुई झमाझम बारिश का दौर शनिवार देर रात तक चलता रहा।
लैंसडौन में सुबह के समय तहसील परिसर के पास बिजली गिरने से चीड़ का एक पेड़ टूटकर बिजली लाइन पर गिर गया जिससे बिजली लाइनें क्षतिग्रस्त हो गई। शार्ट सर्किट के कारण कई घरों और व्यापारिक प्रतिष्ठानों में बिजली के मीटर और उपकरण जल गए। क्षेत्र में संचार सेवाएं भी ठप हो गई। विद्युत विभाग ने अस्थायी व्यवस्था कर शहर में बिजली व्यवस्था बहाल करवाई। इसके अलावा आंधी से कई अन्य इलाकों में भी आंधी के कारण बिजली सप्लाई ठप रही। देर रात तक बिजली सप्लाई बहाल नहीं की जा सकी थी।
कोटद्वार भाबर के मैदानी इलाकों समेत गढ़वाल हिमालय की शिवालिक पहाड़ियों पर शुक्रवार मध्य रात्रि से बादल जमकर बरसे। बारिश के साथ शीतलहर चलने से जनजीवन ठहर गया है। लोगों का घरों से बाहर निकलना मुश्किल हो गया। बारिश और कड़ाके की सर्दी का असर सरकारी दफ्तरों पर भी पड़ा। बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा। एसडीएम पीएस राणा ने बताया कि गरीब लोगों के 60 कंबले बांटे और शहर में अनेक स्थानों पर अलाव जलाने की व्यवस्था की गई। जयहरीखाल और गुमखाल क्षेत्र में बारिश के साथ सुबह के समय ओले भी पडे़। बैजरों में भी देर रात से लगातार बारिश हो रही है।

मसूरी एक्सप्रेस एक घंटे लेट
मैदानी भागों में घने कोहरे का असर रेलगाड़ियों के संचालन पर पड़ा। रेलवे अधीक्षक आरके मीणा ने बताया कि कोहरे के कारण सुबह आने वाली मसूरी एक्सप्रेस एक घंटे लेट पहुंची।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls