हाथ में तिरंगे, मन में देश भक्ति के जज्बे के साथ मना गणतंत्र का त्योहार

विज्ञापन
Pauri Published by: Updated Mon, 28 Jan 2013 05:30 AM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
पौड़ी/कोटद्वार/श्रीनगर। जिला मुख्यालय में गणतंत्र दिवस पर सभी सरकारी और गैर सरकारी कार्यालयों, शिक्षण संस्थाओं में निर्धारित समय पर ध्वाजारोहण किया गया। कई स्कूलों के बच्चों ने प्रभातफेरी निकाली। कंडोलिया मैदान में आयोजित कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री सुरेंद्र सिंह नेगी ने पुलिस परेड की सलामी ली। कलक्ट्रेट में डीएम चंद्रेश यादव ने ध्वज फहराया। जिला पंचायत, नगर पालिका समेत विभिन्न शिक्षण संस्थाओं में ध्वजारोहण हुआ। सरस्वती विद्या मंदिर कठूली के बच्चों ने बैंड की रामधुन के साथ प्रभात फेरी निकाली।
विज्ञापन

कोटद्वार में रंग बिरंगी पोशाकों में स्कूली बच्चों की रैली और जगह-जगह पर रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित हुए। तहसील परिसर में एसडीएम अनिल गर्ब्याल ने और मालवीय उद्यान में पालिका अध्यक्ष शशि नैनवाल ने ध्वजारोहण किया। डिग्री कालेज में प्राचार्य डा. एमएस रौतेला ने ध्वजारोहण किया। एनसीसी कैडेटस ने मार्चपास्ट निकाला, बालभारती पब्लिक स्कूल, ज्ञानभारती पब्लिक स्कूल, एमकेवीएन विद्यालय, प्राथमिक विद्यालय नं-6,महर्षि विद्यामंदिर सीनियर सैकेंडरी पब्लिक स्कूल, जीआईसी सिद्धपुर, एकेश्वर ब्लाक के जीआईसी संगलाकोटी, रिखणीखाल के बालिका उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कोटड़ीसैंण के साथ ही अमर शहीद स्मृति विकलांग एवं नेत्रहीन संस्थान कार्यालय में गणतंत्र धूमधाम से कनाया गया। कला सांस्कृतिक एवं सामाजिक संस्था की ओर से संयुक्त चिकित्सालय में फल वितरण किया गया। दूसरी ओर लैंसडौन तहसील परिसर में एसडीएम पीएल शाह ने ध्वजारोण किया। वहां पर नए चिह्नित राज्य आंदोलनकारियों दीवान सिंह रावत, संदीप अग्रवाल, पंकज रावत, जनार्द्धन प्रसाद शर्मा, सिंकदर रावत, भुवनेश चंद को परिचय पत्र देकर सम्मानित किया गया। कालागढ़ में भी हर्षोल्लास से गणतंत्र दिवस मनाया गया।

दुगड्डा गांधी चौक में ध्वजा रोहण पालिका अध्यक्ष विमला ने किया। सरस्वती शिशु मंदिर दुगड्डा,बार एसोसिएशन कोटद्वार की ओर से भी गणतंत्र दिवस मनाया गया। रिखणीखाल के विभिन्न विद्यालयों में भी सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए।
श्रीनगर में जीआईसी, जीजीआईसी , सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज श्रीकोट, सरस्वती शिशु मंदिर व विद्या मंदिर, जीआईसी डांगचौरा सहित कई विद्यालयों में सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए। जीआईसी देवलगढ़ में ब्लाक प्रमुख आरती भंडारी ने भवन के जीर्णोद्धार के लिए दो लाख रुपये की घोषणा की। गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय में कुलपति प्रो. एसके सिंह, जीआईसी देहलचौरी में पौड़ी के विधायक सुंदरलाल मंद्रवाल तथा गोला बाजार में राजकीय मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. वीएल जहागिरदार ने ध्वजारोहण किया।

हर्षोल्लास के साथ मना गणतंत्र दिवस
नई टिहरी/चंबा/लबगंाव। जिला मुख्यालय सहित चंबा, नरेंद्रनगर, थौलधार, नैनबाग, लंबगांव, प्रतापनगर, घनसाली में 64 वां गणतंत्र दिवस हर्षोल्लास और धूमधाम से मनाया गया।स्कूली बच्चों ने प्रभात फेरी निकाली। विद्यालयों में सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए। बौराड़ी स्टेडियम में कृषि मंत्री डा.हरक सिंह रावत ने ध्वजारोहण कर परेड़ की सलामी ली। स्वतंत्रता संग्राम सेनानी अवतार सिंह तोपवाल, जगत सिंह को सम्मानित किया गया। इस मौके विधायक दिनेश धनै, एडीएम प्रवेश चंद्र डंडरियाल, जिला पंचायत अध्यक्ष रतन सिंह गुुनसोला, एसपी जंमेजय खंडूरी, पालिकाध्यक्ष उमेशचरण गुसांई आदि उपस्थित थे। एसआरटी परिसर बादशाहीथौल में परिसर निदेशक प्रो.डीएस कैंतुरा, श्रीदेव सुमन विवि चंबा में विवि के कुलपति डा.यूएस रावत ने ध्वजारोहण किया। भेलुंता के जीआईसी देवताधार में गणतंत्र दिवस पर सामुहिक कार्यक्रम आयोजित किया गया। विधायक विक्रम सिंह नेगी और ब्लॉक प्रमुख पूरण चंद रमोला ने सलामी लेकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। छात्र-छात्राओं की ओर से रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी गई।

प्रभात फेरी निकाली, शहीदों को किया नमन
उत्तरकाशी। स्कूली बच्चों द्वारा प्रभातफेरी निकालकर अमर शहीदों को नमन तथा सरकारी व गैर सरकारी प्रतिष्ठानों में ध्वजारोहण के साथ गणतंत्र दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। पुलिस लाइन ज्ञानसू में पुलिस, आईटीबीपी, होमगार्ड, फायर सर्विस के जवानों की परेड देखने लायक रही। विकास मंत्री प्रीतम सिंह पंवार ने परेड की सलामी ली। उन्होंने अगस्त माह की आपदा में अपने प्राण न्यौछावर करने वाले फायर सर्विस के जवानों को मरणोपरांत सम्मानित किया। इस मौके पर विभिन्न विद्यालयों के छात्र-छात्राओं ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। परेड की कमान पुलिस उपाधीक्षक मिथिलेश कुमार ने संभाली। इस मौके पर पुलिस अधीक्षक राजीव स्वरूप, सीडीओ ललित मोहन रयाल, पूर्व विधायक गोपाल रावत आदि मौजूद थे। उधर महिडांडा स्थित आईटीबीपी के सीआईजेडब्ल्यू स्कूल में डीआईजी भवतोष सिन्हा ने परेड की सलामी ली।

सेनानी और पुलिस कर्मी हुए सम्मानित
गोपेश्वर/घाट/पीपलकोटी/चमोली/जोशीमठ। गोपेश्वर में प्रभारी डीएम सूर्यमोहन नौटियाल ने कलक्ट्रेट में ध्वजारोहण कर शहीद स्मारक पर माल्यार्पण किया। पुलिस मैदान में आयोजित परेड में बीसूका के उपाध्यक्ष राजेंद्र भंडारी ने सलामी ली तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भीम सिंह व वकतार सिंह को प्रतीक चिह्न व शॉल ओड़कर सम्मानित किया।
पुलिस अधीक्षक पी रेणुका देवी ने जिले में उत्कृष्ठ कार्य करने वाले पुलिस कर्मियों को सम्मानित किया। इससे पूर्व विभिन्न स्कूलों के छात्र-छात्राओं ने नगर में प्रभात फेरी निकाल सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए। चमोली, पीपलकोटी, निजमुला तथा पोखरी में भी स्कूली बच्चों द्वारा प्रभात फैरी निकाली। घाट एवं जोशीमठ क्षेत्र में भी प्रभात फेरी एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए।
कर्णप्रयाग। गणतंत्र दिवस पर जीआईसी, जीजीआईसी, हिलालयन चिल्ड्रन एकेडमी, शिशु और विद्या मंदिर सहित सरकारी और गैरससरकारी कार्यालयों में तिरंगा फहराया गया। रामलीला मैदान में विरासत संस्था ने झंडरोहण किया। दूसरी ओर गैरसैंण, आदिबदरी, नारायणबगड़, देवाल, थराली और गौचर में स्कूली छात्र-छात्राओं ने सड़कों पर मार्च पास्ट, प्रभात फेरी सहित झांकिया निकाली। जबकि लोक संस्कृति और देश प्रेम के कार्यक्रम आयोजित किए गए।

अनूठे तरीके से मनाई 26 जनवरी
रुद्रप्रयाग/अगस्त्यमुनि। जिला मुख्यालय, तिलवाड़ा, फाटा, घोलतीर, सुमाड़ी, खेड़ाखाल, अगस्त्यमुनि, गुप्तकाशी, मयाली, जखोली और चोपता सहित अन्य क्षेत्रों में स्कूली छात्र-छात्राओं ने प्रभात फेरी निकाली। गुलाबराय खेल मैदान में हुए कार्यक्रम में मुख्य अतिथि प्रभारी डीएम नवनीत पांडे ने ध्वजारोहण के बाद परेड की सलामी ली।इस मौके पर एसपी वरिंद्र जीत सिंह, सीडीओ पीसी तिवारी, एसडीएम सदर डा. ललित नारायण मिश्र और सीओ आर डिमरी आदि मौजूद थे।
राजकीय प्राथमिक विद्यालय रामपुर में बिना किसी चटक-फटक के स्कूल के मंच पर तिरंगा फहराया गया। बच्चों के साथ बडे़-बुजुर्गों ने भी राष्ट्रगान गाया। बच्चों ने श्लोक बोले, तो महिलाओं ने प्रार्थना खत्म होने तक हाथ जोड़े रखे। स्कूल की भोजनमाता बच्चों की इस प्रतिभा से इस कदर प्रभावित हुई कि उन्होंने छोटी से राशि देकर पुरस्कृत किया। भोजनमाता को देख अन्य गांववाले भी आगे आने लगे। देखते ही देखते 730 रुपये एकत्रित हो गए। अध्यापिका अनीता पंवार ने सारी धनराशि पुरस्कार के रुप में बच्चों में बांट दी। गांव की 65 वर्षीय कबोतरी देवी का कहना था कि गांवों में यदि ऐसे उत्सव होते रहे, तो हमारा बुढ़ापा खुशी से कटेगा। फोटो-27आरपीजी02


इनसेट


तिरंगे का किया अपमान
नैनबाग। 64 वें गणतंत्र दिवस पर नैनबाग उद्यान विभाग में ध्वजारोहण नहीं हुआ। टटोर के सामाजिक कार्यकर्ता जयपाल सिंह तोमर ने बताया कि गणतंत्र दिवस पर उद्यान विभाग के कार्यालय में कोई भी अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित नहीं था। नैनबाग राजस्व पुलिस चौकी में तिरंगा बीती रात 10 बजे से लटकता रहा। संतोष कुमार पांडेय ने तिरंगे के अपमान पर रोष जताते हुए कहा कि जांच कराकर तिरंगे का अपमान करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जांएगी।

वो अक्सर खाकर रह जाते हैं बाकी बची रोटी..
कवियों ने राजनीतिक व्यवस्था पर कसे तंज
रुद्रप्रयाग। सियासत की कभी रोटी, कभी रोटी सियासत की। शिकायत की कभी रोटी, कभी रोटी शिकायत की। वो अकसर खाकर रह जाते हैं बाकी बची रोटी। इस तरह की पंक्तियों के साथ कवियों ने गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर आयोजित कवि सम्मेलन में राजनीतिक व्यवस्था पर तंज कसे।
जिला मुख्यालय में आयोजित कवि सम्मेलन का शुभारंभ संगीत शिक्षक मनोज थापा ने गणेश वंदना के साथ किया। अनुपम द्विवेदी ने पथ का अंतिम लक्ष्य नहीं है सिंहासन, चढ़ते जाना कविता से लोक सेवकों से जनकल्याण के लिए सेवा करने का आह्वान किया। लोककवि जगदंबा चमोला ने फिर भी जिंदा र, पूष हो या ज्योठ, तू मुड़ि न द्यख कविता से शादी समारोह में वीडियोग्राफी के बढ़ते प्रचलन पर व्यंग्य कसा। नंदन सिंह राणा ने आया है गणतंत्र दिवस, चंद्रशेखर पुरोहित ने एक नई दामिनी जननी होगी, अनिल बेंजवाल ने प्रभु व्यथा, ललित ने यही ठहर जाने को जी करता है, ओम प्रकाश सेमवाल ने अस्मिता को सवाल आदि पर कविता सुनाई। डा. तंजीम अली ने शेरो शायरी से माहौल को खुशनुमा बना दिया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एसपी बरिंद्रजीत सिंह, विशिष्ट अतिथि नगर पालिका अध्यक्ष रेखा सेमवाल, एडीएम नवनीत पांडे, एसडीएम डा. ललित नारायण मिश्र, एसडीएम कर्णप्रयाग राहुल गोयल और सीओ आर डिमरी आदि ने विचार रखे।



सरकारी मशीनरी ने भुला दिए स्वतंत्रता संग्राम सेनानी
उत्तरकाशी। देश की आजादी के लिए लड़ने और बाद में सामाजिक सुधारों के लिए समर्पित रहे वयोवृद्ध स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नत्था सिंह कश्यप को सम्मानित करना तो दूर प्रशासन ने गणतंत्र दिवस पर बुलाना तक गवारा नहीं समझा। अब इस बात का संज्ञान होने पर प्रशासनिक अमला एक-दूसरे पर जिम्मेदारी थोप रहे हैं।
वर्ष 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन में सक्रिय प्रतिभाग कर 14 माह 13 दिन की जेल काटने वाले 95 वर्षीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नत्था सिंह कश्यप इस उपेक्षित रवैये से खासे खिन्न हैं। उन्होंने कहा कि यूं तो देश की आजादी ही मेरे लिए सबसे बड़ा सम्मान है। लेकिन बड़े बलिदानों के बाद स्वतंत्र हुए भारत में हावी होती नौकरशाही तथा बढ़ता भ्रष्टाचार परेशान करता है। उन्होंने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व.इंदिरा गांधी ने उन्हें ताम्रपत्र देकर सम्मानित किया था। उन्होंने कहा कि दो वर्षों से उन्हें राष्ट्रीय दिवसों पर आमंत्रित तक नहीं किया जाता।
कोट-

स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को बकायदा घर पर गाड़ी भेजकर बुलाया जाता है। भटवाड़ी तहसील स्टाफ से नत्था सिंह कश्यप के समारोह में आने में असमर्थ होने की सूचना पर उन्हें घर पर जाकर ही सम्मानित करने को कहा गया है।- ललित मोहन रयाल, प्रभारी डीएम उत्तरकाशी।

स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नत्था सिंह कश्यप को समारोह में लाने की जिम्मेदारी तहसीलदार चिन्यालीसौड़ को सौंपी गई थी। उन्होंने उनके अस्वस्थ होने की जानकारी दी। इस मामले की जांच की जाएगी। भविष्य में ऐसी गलती न हो इसका पूरा ध्यान रखा जाएगा।- डा.एसके.बरनवाल, डिप्टी कलेक्टर उत्तरकाशी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X