'My Result Plus
'My Result Plus

चंगुल में फंसा मासूम का हत्यारा

Pauri Updated Fri, 28 Dec 2012 05:30 AM IST
ख़बर सुनें
श्रीनगर। फरासू गांव के सात वर्षीय किसना को मौत के घाट उतारने वाला गुलदार बृहस्पतिवार शाम को चंगुल में फंस ही गया। वन विभाग ने इस गुलदार को पकड़ने के लिए तीन जगह पिंजरा लगाया था। गांव के पास लगे पिंजरे में शाम को गुलदार फंस गया, तो लोगों ने राहत की सांस ली। हालांकि बुधवार शाम को बच्चे को ले जाकर मारने वाले गुलदार के प्रति लोगों में इस कदर गुस्सा था कि जब वह पकड़ा गया, तो लोग उसे जलाने के लिए केरोसीन ले आए। हालांकि वन विभाग की टीम ने स्थिति संभाल ली।
इससे पहले, बृहस्पतिवार को सुबह किसना की हड्डियों और कुछ कपड़ों को बरामद कर लिया गया। हालांकि उसकी स्वेटर, चप्पल और शर्ट अभी नहीं मिली है। सब्जियों की खेती के लिए मशहूर फरासू गांव में इस वक्त गम और गुस्सा पसरा हुआ है। नैथाणा गांव की छह वर्षीय साक्षी की मौत के बाद गढ़वाल में गुलदार के हमले में मारे गए बच्चे का ये दूसरा मामला है। रानीहाट में आंतकी गुलदार को मार गिराने वाले शिकारी जॉय हुकिल और वन विभाग की टीम आज सुबह मौके पर पहुंची। डीएफओ राजमणि पांडे के निर्देश पर फरासू समेत तीन जगहों पर गुलदार को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाया गया। खच्चर चलाकर गुजर बसर करने वाले बृजलाल के पुत्र किसना को कल शाम फरासू गांव से गुलदार ले गया था।
आज सुबह, फरासू के गुस्साए ग्रामीणों ने बृहस्पतिवार को ऋषिकेश-बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर चक्का जाम कर दिया। एक सप्ताह पूर्व स्थानीय प्रशासन के माध्यम से वन विभाग को ग्रामीणों ने गुलदार के आंतक की जानकारी दे दी थी, मगर एहतियातन कोई कार्रवाई नहीं हुई। गुस्साए ग्रामीणों ने एक घंटे तक राष्ट्रीय राजमार्ग पर जाम लगाए रखा। हालांकि बाद में बच्चे के शव की तलाश में हो रहे विलंब को देखते हुए जाम हटा लिया गया। जाम लगाने वालों में महिला मंगल दल की अध्यक्ष अनुराधा चमोली, पूर्व जिला पंचायत सदस्य लखपत भंडारी, कमला देवी, संजय कुमार, विजय बहुगुणा, कनिष्ठ प्रमुख सुषमा नेगी, पार्वती देवी, बीना देवी, जसोदा देवी, दीपा देवी आदि मौजूद थे।



परिवार को मिलेगा तीन लाख मुआवजा
गुलदार का शिकार बने किसना के परिवार को वन विभाग तीन लाख रूपए मुआवजा देगा। डीएफओ राजमणि पांडे ने बताया कि परिवार की फौरी सहायता के लिए पांच हजार रूपए दे दिए गए हैं, जबकि दो लाख 95 हजार रूपए चेक के माध्यम से परिजनों को दे दिए जाएंगे।



मैं तें ली जांदु, मेरू किसना की जगह
किसना की मौत के सदमे में किसना की मां बीना बार-बार बेहोश हो रही है, तो उसकी दादी कमली देवी के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। ग्रामीण भी कहते हैं कि हमें सुरक्षा चाहिए, मुआवजा किसी की जिंदगी नहीं लौटा सकता। अपने जिगर के टुकड़े को याद कर किसना की दादी कहती है कि तू जब रोटी मांगेगा, मैं तुझको बनाकर दूंगी। तू आ जा किसना, आ जा.....। फिर कहती है मैं तें लि जांदु, मेरू किशना तें छोड़ी जा ऐ बाघ। लगातार बह रहे आंसुओं के समंदर में उसके जिगर के टुकड़े के हमेशा के लिए दूर हो जाने की पीड़ा का साक्षात आभास हो रहा है।


बृजलाल का परिवार ही था निशाने पर
बृजलाल के परिवार पर खूंखार गुलदार का कहर बुधवार को लगातार टूटता रहा। सबसे पहले नदी की ओर से लौट रहे बृजलाल पर ही गुलदार ने झपट्टा मारने की कोशिश की, लेकिन वह शोर मचाते हुए भाग निकला। उसके 17 वर्षीय पुत्र पर भी बुधवार दोपहर गुलदार ने हमला करने की कोशिश की। वह भी किसी तरह शोर मचाकर दूर हो निकला। इसके बाद खेलकर लौट रहे किसना पर गुलदार का वार हुआ, जिसमें वह उसका निशाना बन ही गया।

प्रत्यक्षदर्शियों की जुबानी
-हम लोग घर की पास मैदान में पत्थरों पर बॉल मारकर पिटठू खेल रहे थे। हम घर की ओर आने लगे, तो रास्ते में गुलदार दिखा। हमें देखकर वह उठ खड़ा हुआ। हम तीनों एक-दूसरे से टकराए और गिर गए। हमारी आवाज नहीं निकल पाई। उठे और पड़ोस के घर की तरफ भागे। इसी समय गुलदार किसना को उठा ले गया।
मोहित कुमार, 12 वर्ष, आयुष कुमार 10 वर्ष

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Saharanpur

12 हजार के इनामी विनय रतन ने एलान के बाद किया कोर्ट में सरेंडर 

सहारनपुर में भीम आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और 12 हजार के इनामी विनय रतन ने सोमवार को एलान कर कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया। चार घंटे पहले सोशल मीडिया पर सरेंडर का एलान करने के बाद विनय रतन भीड़ के साथ कचहरी में पहुंचा।

23 अप्रैल 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen