आर्थिकी बढ़ने को परंपरागत फसलों का मोह त्यागें काश्तकार

Pauri Updated Mon, 24 Dec 2012 05:30 AM IST
पौड़ी। शहरी संकलित क्षेत्रों में सब्जी उत्पादन योजना के तहत आयोजित गोष्ठी में किसानों से अच्छा लाभ अर्जित करने के लिए परंपरागत फसलों मोह त्यागने को कहा गया। विशेषज्ञों ने कहा कि नगदी फसलों को अपनाकर अच्छा लाभ कमाया जा सकता है।
उद्यान विभाग की पहल पर श्रीनगर रोड स्थित उद्यान विभाग के कार्यालय परिसर में आयोजित प्रशिक्षण गोष्ठी में थपलियाल गांव, ननकोट, गगवाड़ा गांव से आई महिलाओं बेमौसमी सब्जी उत्पादन, पौधशाला स्थापना और नगदी फसलों के उत्पादन के बारे में जानकारियां दी गई। उप निदेशक कृषि इंद्रपाल कुशवाह ने कहा कि कृषि व्यवसाय में बेहतर लाभ अर्जित करने लिए नगदी फसलों पर ध्यान देने की जरूरत है। परंपरागत फसलों से किसानों के लिए अपनी मजदूरी निकालना भी मुश्किल पड़ रहा है। इस मौके पर वीर चंद्र सिंह गढ़वाली औद्यानिकी महाविद्यालय भरसार के विशेषज्ञ डा. सतीश पंत ने सब्जियों की फसलों पर लगने वाली विभिन्न बीमारियों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मटर की बुआई साल में फ रवरी,अगस्त और अक्तूबर में की जा सकती है। तीनों सीजन में मटर की अच्छी पैदावार होती है। इस मौके पर ज्येष्ठ उद्यान निरीक्षक मदन प्रकाश शर्मा, जिला उद्यान निरीक्षक डीडीएस पटवाल, पौड़ी उद्यान सचल दल केंद्र के प्रभारी एमएस चौधरी आदि ने भी विचार रखे।

Spotlight

Most Read

Lucknow

1300 भर्तियों के मामले में फंसे आजम खां, एसआईटी ने जारी किया नोटिस

अखिलेश सरकार में जल निगम में हुई 1300 पदों पर हुई भर्ती को लेकर आजम खा के खिलाफ नोटिस जारी किया गया है।

16 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper