नाटक में ‘नाटक’

Pauri Updated Fri, 21 Dec 2012 05:32 AM IST
श्रीनगर। हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विवि के यूथ क्लब के स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित चक्रव्यूह नाटक का मंचन छात्र राजनीति की भेंट चढ़ गया। मंचन शुरू होने से पहले छात्र नेताओं के बीच चल रहा विवाद इतना बढ़ गया कि आयोजकों को चक्रव्यूह नाटक शुरू होते ही बंद करना पड़ा। इस पूरे घटनाक्रम में चक्रव्यूह देखने के लिए दूर-दराज से सैकड़ों की संख्या में पहुंचे महिलाओं और छात्रों को बिना चक्रव्यूह नाटक देखे निराश होकर लौटना पड़ा। दर्शकों ने छात्र नेताओं की इस करतूत की कड़े शब्दों में निंदा की।
गढ़वाल केंद्रीय विवि के यूथ क्लब की ओर से बृहस्पतिवार को विवि के चौरास परिसर स्टेडियम में चक्रव्यूह नाटक का मंचन प्रस्तावित था। मंचन की पूरी तैयारियाें के साथ ही सज-धज के मैदान में उतरे कलाकार अपनी कला को दर्शकों के बीच में रखते, इससे पहले कई छात्र वहां पहुंच गए। विवि छात्र महासंघ के अध्यक्ष शैलेश मलासी व छात्र संघमहासचिव कीर्ति सिंह नेगी, उपाध्यक्ष विकास पंवार, प्रवीन लेखवार, दीपक सजवाण के नेतृत्व में छात्र वहां विरोध करने लगे। उनका कहना था कि स्टेडियम खेल गतिविधियों के लिए उपयोग में लाया जाता है, लेकिन छात्रों को स्टेडियम में खेलने की स्वीकृति नहीं दी जाती है। इससे खिलाड़ियाें को रोज आहत होना पड़ता है। उन्होंने कहा कि यूथ क्लब के पास भी चक्रव्यूह मंचन की स्वीकृति नहीं थी, जिसके चलते उन्हें विरोध के लिए विवश होना पड़ा। छात्र नेताओं की इस राजनीति के बीच में विद्याधर श्रीकला मंच के 60 से अधिक कलाकार और कौरवों एवं पांडवों की सेना में शामिल होकर अपनी कला का प्रदर्शन कर रहे लगभग 100 अन्य छोटे-छोटे कलाकारों को भी अपमानित होना पड़ा।

आपसी राजनीति से कला व कलाकार को आघात पहुंचाना अक्षम्य है। पहाड़ की इस संस्कृति को देश-विदेश में तवज्जो मिल रही है, लेकिन यहीं के छात्र नेता यदि यहां की संस्कृति का सम्मान नहीं करेंगे तो इसके परिणाम बेहद खतरनाक होंगे। चक्रव्यूह नाटक के मंचन को विफल करने के लिए हुए पूरे घटनाक्रम की मैं कडे़ शब्दों में निंदा करता हूं।
प्रो.डीआर पुरोहित, प्रसिद्ध रंगकर्मी और चक्रव्यूह नाटक के निर्देशक

यूथ क्लब की पहल पर आयोजित पांच दिवसीय कार्यक्रमों को चौरास परिसर में कराने के लिए विवि से स्वीकृति ली गई थी, लेकिन स्टेडियम में चक्रव्यूह आयोजित कराने के लिए लिखित स्वीकृति पत्र न होने को राजनीतिक दुराग्रह से मुद्दा बनाया गया। विरोध करने वालों को मंचन न होने से भले ही शांति मिली हो, लेकिन सैकड़ों की तादात में पहुंचे दर्शकों के मन में वह अपना स्थान नहीं बना पाएंगे।
प्रदीप रौथाण, संयोजक यूथ क्लब

यूथ क्लब की पहल पर आयोजित चक्रव्यूह नाटक को देखने पहुंचे दर्शकों को निराश होने की आवश्यकता नहीं है। 23 दिसंबर को यूथ क्लब के इस कार्यक्रम को जीआईएंडटीआई मैदान में अपराह्न दो बजे से आयोजित कराया जाएगा। इसके लिए मेरी ओर से पूरा सहयोग किया जाएगा। कला एवं कलाकारों का अपमान होना चिंतनीय विषय है।
विनोद कंडारी, भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष व क्लब के संस्थापक सदस्य।

यूथ क्लब के स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रमों के लिए यूथ क्लब की ओर से विवि प्रशासन से मौखिक स्वीकृति ली गई थी। बृहस्पतिवार को चौरास स्टेडियम में कोई अन्य खेल गतिविधि न होने से चक्रव्यूह का मंचन कराने के लिए विवि की ओर से कोई आपत्ति नहीं थी। छात्र नेताओं के बीच आपसी सामंजस्य न होने के कारण इस तरह की स्थितियां पैदा होना दुखद है।
प्रो. पीएस राणा, कुलसचिव, गढ़वाल विवि।

Spotlight

Most Read

Meerut

दो सगी बहनों से साढ़े चार साल तक गैंगरेप, घर लौट आई एक बेटी ने सुनाई आपबीती

दो बहनों का अपहरण कर तीन लोगों ने साढ़े चार वर्ष तक उनके साथ गैंगरेप किया। एक पीड़िता आरोपियों की चंगुल से निकल कर घर लौट आई। उसने परिवार को आपबीती सुनाई।

21 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper