सिद्धबली बाबा को चढ़ा सवा मन का रोट

Pauri Updated Mon, 10 Dec 2012 05:30 AM IST
कोटद्वार। सिद्धबली बाबा जयंती महोत्सव के आखिरी दिन रविवार को पूजा-पाठ और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में श्रद्धालुओं का जमावड़ा लगा रहा। सिद्धबली बाबा को सवा मन का रोट चढ़ाया गया। वहीं, पवन गोदियाल और साथियों की भजन संध्या में भारी संख्या में लोग उमडे़। भजन पर शाम तक लोग झूमते रहे। समापन कार्यक्रम में पर्यटन और संस्कृति मंत्री अमृता रावत भी शरीक हुई।
तीन दिनों तक चले सिद्धबली महोत्सव के तीसरे और अंतिम दिन बाबा को उनका प्रिय भोजन गुड़ बना सवामण का रोट चढ़ाया गया। बाद में इसे भक्तों के बीच बांट दिया गया। इससे पहले बाबा के जागर में श्रद्धालुओं का जमावड़ा लगा रहा। महोत्सव की शुरूआत पहले दिन की तरह ही पिंडी महायज्ञ से हुई। इसके बाद बाबा के जागरों से पूरा मंदिर परिसर गूंज उठा। हर ओर बाबा की जय-जयकार हो रही थी। बाबा का आशीर्वाद लेने के लिए सुबह से ही भक्तों की भीड़ जमनी शुरू हो गई थी।

रविवार के दिन खूब रही भीड़
-रविवार होने के चलते मेले में भक्तों की खूब भीड़ रही। रविवार को महोत्सव से इतर भी मंदिर में भक्तों का काफी जमावड़ा लगा रहता है। इस दिन बाबा के दरबार में भंडारा रहता है। इसके चलते भी खूब भीड़ रही। बाबा के दरबार में सबसे अधिक उत्तरप्रदेश के बिजनौर, नजीबाबाद और आस-पास के लोग आते हैं। रविवार को मंदिर से पहले बने पुल पर लोगों को खड़े होने तक की भी जगह नहीं मिल पा रही थी। किसी तरह लोग आगे बढ़ रहे थे।

गोदियाल के भजनों पर झूमे श्रद्धालु
-सिद्धबली महोत्सव के अंतिम दिन प्रसिद्ध भजन गायक पवन गोदियाल के भजनों की धूम रही। कार्यक्रम की शुरूआत गणेश और सरस्वती वंदना के साथ हुई, लेकिन पूरे कार्यक्रम के दौरान राम दरबार और राम जी की निकली सवारी भजन पर दर्शक जमकर झूमे। भजन शुरू होने से पहले ही पंडाल श्रद्धालुओं से भर चुका था। गणेश और सरस्वती वंदना से शुरू हुआ सिलसिला शाम तक चलता रहा। इस बीच फूलों की होली, मयूर नृत्य और राम दरबार ने लोगों को अपने स्थानों पर जमे रहने के लिए मजबूर किया। आयोजन का मुख्य आकर्षण महारास लीला रही। श्रद्धालु महारास लीला को बिना पलक झपकाए देखते रहे। दूसरी और श्री राम जय-जय राम, हे बजरंग बली हनुमान, अंजनी लाला को दिल से मनाएंगे और सहयोगी भजन गायक विजय के- हे दु:ख भंजन, मारुति नंदन सुन लो मेरी पुकार भजन पर सारा पंडाल अपनी जगह पर झूमता रहा। प्रसिद्ध भजन गायिका कविता गोदियाल ने मेला सिद्धबली का आया गा कर लोगों को नाचने पर मजबूर कर दिया। इसके साथ ही कई अन्य भजन भी गाए। आर्गन पर महेंद्र कुमार चौहान,गिटार पर अनिल, पैड पर दिनेश और ढोल पर संगी आदि शामिल हैं।

ट्रैफिक व्यवस्था के लिए पुलिस पुरस्कृत
-सिद्धबली महोत्सव की सुरक्षा व्यवस्था में लगे पुलिस कर्मियों को पर्यटन मंत्री अमृता रावत ने सम्मानित किया। रावत ने शहर की ट्रैफिक व्यवस्था की के लिए सीओ अरुणा भारती और कोतवाल अंशु चौधरी सहित 27 पुलिस कर्मियों को स्मृति चिह्न भेंट किए। सिद्धबली महोत्सव को लेकर शहर का ट्रैफिक कई जगहों पर डायवर्ट किया गया था। इस वजह से यातायात व्यवस्था नियंत्रित रही।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी में नौकरियों का रास्ता खुला, अधीनस्‍थ सेवा चयन आयोग का हुआ गठन

सीएम योगी की मंजूरी के बाद सोमवार को मुख्यसचिव राजीव कुमार ने अधीनस्‍थ सेवा चयन बोर्ड का गठन कर दिया।

22 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper