‘स्कूली शिक्षा को मजबूत बनाना आवश्यक’

Pauri Updated Fri, 07 Dec 2012 05:30 AM IST
श्रीनगर। हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विवि और अजीम प्रेमजी विवि बंगलूरू की संयुक्त पहल पर आयोजित कार्यशाला पर स्कूली शिक्षा पर फोकस रहा। कार्यशाला में यह विचार शिद्दत से उभरकर सामने आया कि स्कूली शिक्षा को मजबूत बनाना आवश्यक है।
कार्यशाला का विषय एजूकेशन फॉर ए बेटर इंडिया रखा गया था। कार्यशाला में बतौर मुख्य वक्ता अजीम प्रेम विवि के कुलपति अनुराग बेहर ने कहा कि पूरे देश में स्कूली शिक्षा को सशक्त बनाने की आवश्यकता है। शिक्षक की सफलता छात्रों के बहुमुखी विकास पर ही निर्भर है। उन्होंने कहा कि हमें ज्ञान की खोज करने वाले लोगों की आवश्यकता है। उन्होंने छात्रों को शिक्षकों पर विश्वास रखने के लिए भी प्रेरित किया। गढ़वाल विवि के चौरास परिसर में आयोजित कार्यशाला में गढ़वाल विवि के कुलपति प्रो. एसके सिंह ने छात्र-छात्राओं से कहा कि चैलेंज स्वीकार करने से ही सफलता की राह आसान होती है। बेहतर शिक्षा से ही देश को बेहतर बनाया जा सकता है। अजीम प्रेमजी विवि के क्षेत्रीय निदेशक डा. अनंत गंगोला ने कहा कि उच्च शिक्षण संस्थानों और स्कूली शिक्षण संस्थानों के बीच आपसी तालमेल न होने के कारण स्कूली शिक्षा अपने उद्देश्यों को पूरा नहीं कर पा रही है। अजीम प्रेमजी फाउंडेशन का उद्देश्य हर बच्चे को शिक्षा उपलब्ध कराना है। शिक्षक पात्रता परीक्षा को भी किस तरह बेहतर बनाया जाए, इसके लिए भी फाउंडेशन कार्य कर रहा है। कार्यशाला का संचालन गढ़वाल विवि के प्रो.ओपी गुसाईं ने किया। इस मौके पर प्रो. एमएमएस रावत, प्रो. जेपी भट्ट, प्रो.एमएम सेमवाल मौजूद थे।


माध्यमिक शिक्षा पर हाथ मिलने में अभी देरी
एचएनबी केंद्रीय विश्वविद्यालय और अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय के माध्यमिक शिक्षा के सवाल पर हाथ मिलने में अभी देरी है। बताया जा रहा था कि आज की कार्यशाला में इस संबंध में अहम चरचा होगी और एमओयू पर विचार होगा। मगर ऐसा नहीं हुआ। कार्यशाला में कहा गया कि माध्यमिक शिक्षा को बेहतर बनाने के लिए दोनों विश्वविद्यालयों के स्तर पर कार्ययोजना तैयार की जाएगी।

टीचर्स ट्रेनिंग प्रोग्राम में बदलाव जरूरी: बेहर
श्रीनगर। अजीम प्रेमजी विवि बंगलूरू के कुलपति अनुराग बेहर क्वालिटी एजुकेशन के लिए टीचर्स ट्रेनिंग प्रोग्राम बीएड, बीटीसी आदि में बदलाव की जरूरत महसूस करते हैं। उनका कहना है कि शिक्षक बनने की योग्यता के लिए चलाए जा रहे बीएड सिस्टम को पूरी तरह से बदलना होगा। उन्होंने कहा कि इसके पाठ्यक्रम की अवधि पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। कहा शिक्षक योग्यता विकास प्रभावी होने से ही बेहतर शिक्षा की कल्पना की जा सकती है। उन्होंने उत्तरकाशी और ऊधमसिंहनगर की तर्ज पर ही पौड़ी जिले में भी प्रेमजी फाउंडेशन द्वारा चलाए जा रहे कार्यो को शुरू करने की बात कही।
पत्रकारों से बातचीत में कुलपति ने कहा कि सर्व शिक्षा अभियान के तहत शिक्षकों के विकास के लिए कराए जाने वाले प्रशिक्षण कार्यक्रमों के उद्देश्य शिक्षकों को समझने होंगे। स्कूली शिक्षा के सुधार की नीतियों को मूर्त रूप नहीं मिलने से स्कूली शिक्षा अपने उद्देश्यों पर सफल नहीं हो पा रही है। इसके लिए उन्होंने शिक्षकों से अपनी जिम्मेदारी का पालन सुनिश्चित करने की अपील की। इस मौके पर गढ़वाल विवि के कुलपति प्रो. एसके सिंह ने कहा कि अजीम प्रेमजी विवि द्वारा स्कूली शिक्षा के लिए तैयार मॉडल को किस तरह शुरू किया जा सकता है। इसके लिए कार्ययोजना तैयार की जाएगी। उन्होंने अजीम प्रेम जी विवि के इस व्यापक नजरिए पर मिलकर कार्य करने की सहमति भी जताई।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

हरियाणाः यमुनानगर में 12वीं के छात्र ने लेडी प्रिंसिपल को मारी तीन गोलियां, मौत

हरियाणा के यमुनानगर में आज स्कूल में घुसकर प्रिंसिपल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मामले में 12वीं के एक छात्र को गिरफ्तार किया गया है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper