...मैं उसके ताज की कीमत लगा लौट आया

Pauri Updated Mon, 03 Dec 2012 05:30 AM IST
श्रीनगर। बैकुंठ चतुर्दशी की छठवीं शाम हास्य व्यंग्य कवि सम्मेलन के नाम रही। देश भर के नामचीन कवियों ने ओस भरी सर्द रात में दर्शकों को डटे रहकर रचनाओं पर दाद देने के लिए मजबूर किया। इस मौके पर देशप्रेम के राग-गीत कवियों की स्वर लहरियों से गंगा-यमुना की तरह बनकर फूटे। कवि सम्मेलन में श्रृंगार रस की फुहारें भी कवियों उड़ेली, तो भ्रष्ट में आकंठ डूबे राजनेताओं पर अपने शब्दों से बमवर्षा भी की।
रात डेढ़ बजे तक कवि सम्मेलन चला। कवि सम्मेलन के केंद्र बिंदु में रहे जाने-माने गीतकार व कवि राहत इंदौरी व प्रो.अशोक चक्रधर ने कई स्तरीय कविताएं पेश की। वो चाहता था कि कासा खरीद ले मेरा, मैं उसके ताज की कीमत लगा के लौट आया तथा दिल्ली में भी हमीं बोला करें अमन की बोली, यारो तुम भी जरा लाहौर से बोलो जैसी कविताओं में राहत इंदौरी ने देश प्रेम के जज्बे को प्रदर्शित किया, तो बहरों का इलाका है, जरा जोर से बोलो कविता से व्यवस्था पर करारी चोट की। प्रो.अशोक चक्रधर ने जो सीखा चुटकी भर सीखा, धरती भर है बाकी कविता से ताउम्र सीखने की जरूरत पर जोर दिया, तो अभिनंदन करिए उसका, जिसके दिलो-दिमाग में भारत का झंडा तथा इस शून्य में मेरी नई पीढ़ी के रंग भरेंगे में देशप्रेम का संदेश दिया। सम्मेलन की अध्यक्षता करते हुए डा.धनंजय सिंह ने समर्थन दो हमें कविता से आज साम्राज्य संभाल रहे सत्तासीनों की मानसिकता को प्रदर्शित किया। इस मौके पर पॉपुलर मेरठी व महेंद्र शर्मा की कविताओं ने खूब गुदगुदाया। डा.कीर्ति माथुर ने प्रेम रस में भरी कविता का गान किया। श्यामल मजूमदार व शशांक प्रभाकर ने वीर रस में डूबी कविताओं का पाठ किया। चौरास पुल की व्यथा सुनाते हुए स्थानीय कवि नीरज नैथानी ने कहा-दोस्तो जब हमने सुना पुल टूट गया है, हमें यूं लगा हमारा खुदा हमसे रूठ गया है। इसी कविता में चौरास पुल को लेकर अधिकारियों के रवैये की पोल भी उन्होंने खोली।

....जब रूठ गए राहत
श्रीनगर। कवि सम्मेलन के दौरान एक शराबी तथा कुछ मनचलों की हरकत से राहत इंदौरी रूठ गए। वे मंच से बोले। मुझे तेरे पास आने में सिर्फ डेढ़ मिनट लगेगा, लेकिन तुझे इस मंच तक पहुंचने में 10 जनम लग जाएंगे। उन्होंने श्रोताओं को यह भी अहसास दिलाया कि उन्होंने बॉलीवुड की सैंकड़ों फिल्मों में हजारों गीत लिखे हैं। ऐसे में उनकी कविताओं को सम्मान के साथ सुना जाना चाहिए।

नीरज और शशांक ने जीती क्विज प्रतियोगिता
श्रीनगर। बैकुंठ चतुर्दशी मेला एवं विकास प्रदर्शनी में आयोजित क्विज प्रतियोगिता सीनियर वर्ग में नीरज ढौंडियाल और शशांक शेखर ममगाइंर् ने जीती। प्रतियोगिता में क्षेत्र के 12 विद्यालयों ने प्रतिभाग किया। नगरपालिका सभागार में आयोजित क्विज प्रतियोगिता के सीनियर वर्ग मेें रेनबो के शुभम सेमवाल और अंकित नेगी द्वितीय, सरस्वती विद्या मंदिर श्रीकोट के सीमा चमोली और नितिन बर्त्वाल तृतीय रहे। जबकि जूनियर वर्ग में देवभूमि पब्लिक स्कूल के मनीषा चमोली और दिव्यांक गोदियाल प्रथम, रेनबो के अखिलेश रौथाण और सिद्धार्थ उनियाल द्वितीय, भगवती मेमोरियल के अमित भट्ट और सुमित भट्ट तृतीय रहे। इस मौके पर विजय नेगी, शकुंतला सेमवाल और वीरेंद्र सिंह नेगी आदि निर्णायक रहे।
पुष्प सज्जा प्रतियोगिता में शिल्पा प्रथम
श्रीनगर। बैकुंठ चतुर्दशी मेले के उपलक्ष्य में नगर पालिका सभागार में आयोजित पुष्प सज्जा प्रतियोगिता में रेनबो स्कूल की शिल्पा गुर्साइं प्रथम, सेंट थेरेसॉस कान्वेंट स्कूल की उपासना नौटियाल द्वितीय और जीजीआईसी की सोनाली अग्रवाल तृतीय रहीं। विजयी प्रतिभागियों को पालिका के पूर्व सभासद गणेश प्रसाद डंगवाल ने पुरस्कृत किया। प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में डा. एकता बिष्ट, आशा बिष्ट और शकुन सिंह शामिल रहे। इस मौके पर पालिका के अधिशासी अधिकारी आरपी सेमवाल सहित सभी विद्यालयों के शिक्षक मौजूद रहे।
बैकुंठ चतुर्दशी मेले में उमड़ी भीड़
श्रीनगर। बैकुंठ चतुर्दशी मेला एवं विकास प्रदर्शनी में भारी भीड़ उमड़ी रही। रविवार को अवकाश होने के कारण बच्चे और बड़े सभी मेला देखने पहुंचे। बच्चों ने रेलगाड़ी, कोलंबस, मौत का कुंआ, सर्कस और अन्य खेल तमाशों का जमकर लुत्फ उठाया। बाजार और मेला स्थल के आस-पास भीड़-भाड़ होने के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग पर जाम की स्थिति बनी रही, जिसके चलते लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper