बैकुंठ चतुर्दशी मेले में नंदा राजजात के दर्शन

Pauri Updated Sun, 02 Dec 2012 05:30 AM IST
श्रीनगर। बैकुंठ चतुर्दशी मेेले की पांचवीं शाम दर्शकों को नंदा राजजात के दर्शन करा गई। प्रसिद्ध संस्कृतिकर्मी प्रो.डीआर पुरोहित के शोध प्रबंध पर वर्ष 2001 की राजजात यात्रा पर लिखे गए नंदाराज जात नाटक का शैलनट के कलाकारों ने प्रभावपूर्ण मंचन किया। पूरे समय इस नाटम में जहां दर्शक उत्साहित रहे, वहीं नंदा की विदाई उन्हें भाव विह्वल कर गई।
जीआईएंडटीआई मैदान में शुक्रवार को मंचित नंदा राजजात नाटक जात यात्रा की महत्ता तथा यात्रा की सभी जानकारियां दर्शकों के समक्ष रखने में पूरी तरह सफल रहा। वर्ष 2001 की राजजात यात्रा के प्रमुख पड़ावों के साथ ही महत्वपूर्ण विभिन्न घटनाओं को दर्शाते नंदा राजजात नाटक की कुल अवधि एक घंटे 45 मिनट रही। नाटक की प्रस्तुति दर्शकों को अपलक नाटक देखने के लिए विवश कर गई। नाट्य मंचन में नंदा के जन्म पर हर्ष का अतिरेक समावेशित था, तो नंदा की विदाई का मर्मस्पर्शी दृश्य भी। एसडीएम व पटवारी के साथ यात्रियों के संवाद से नंदा राजजात जैसी यात्राओं की तैयारी में व्यवस्था के खोट तथा प्रबंध तंत्र की मनमानी को सामने रख गए।
साइको ड्रामा पर आधारित पूरे नाटक का मुख्य आकर्षण नंदा देवी यात्रा के लिए प्रचलित पंवाड़ों तथा गीतों का समावेश रहा। इन गीतों व पंवाड़ों के माध्यम से नाटक जीवंत हो गया तथा कई दृश्यों को दर्शाने में सफल रहा। नंदा की भूमिका में मैत्रैय पैन्यूली, शिव गणेश डिमरी, नारद पंकज नैथानी, मैणावती अर्चना रावत, हेमंत बृजमोहन मेवाड़, दाई राधा रावत, सूत्रधार विमल बहुगुणा, पंडित जी सीपी बंगवाल, ग्रामीण महिला डा.आरती रावत, यात्री मोंटू, मनोज कांत उनियाल, हरीश पुरी, प्रियंका बंगारी, मनोज, जयकृष्ण पैन्यूली, नंदा सिंह की भूमिका में शैलेंद्र तिवारी, अन्य ग्रामीण विपिन शाह, बृजेंद्र शाह, सूरज कुमार, अरविंद टम्टा, स्वाति बंगवाल, प्रियंका आदि शामिल थे। नाटक के निर्देशक डा.राकेश भट्ट, गायिका अनुराधा रतूड़ी, श्वेता नौटियाल, भावना भट्ट, हुड़के में जगमोहन, बांसुरी में महेश ने नाटक के सफल मंचन में विशेष भूमिका निभाई।




नाटक में जागरों व पंवाड़ों का समावेश
- द्योखोला मां देखा तेऊं द्योखेड़ो उर्यूं च, सभी द्यों अयां बल नारैण नि आई। (नंदा राज जात के आयोजन के संदर्भ में।)
- लागी मैंडोली लागी पैलो मास तेरो। (मैणावती के गर्भ में नंदा के ठहरने पर।)
- मि मेरा स्वामी अंगपीड़ा ह्वैग्येई, ल्यावा स्वामी जी दाई ल्या बुलाई। (मैणावती को प्रसव पीड़ा के समय)
- भली करी जई गौरा अपणा मुलुक, अपणा मैत्यूं तैें देवी माथु दैई हाथ। (नंदा की विदाई के समय)

नाटक का कथानक
प्रो.डीआर पुरोहित के शोध प्रबंध पर आधारित नंदा राजजात नाटक नंदा के जन्म से लेकर विवाह तथा कैलाश के लिए विदाई तक की कारूणिक कथा है। यह एक दुखांत लोक नाट्य है। नाटक राजजात यात्रा के साथ शुरू होता है, जिसमें यात्रियों की वार्ता के साथ नाटक की शुरूआत होती है। नंदा राजजात यात्रा के बारे में नाटक का मुख्य किरदार मोंटू, नंदासिंह व विभिन्न पड़ावों के बारे में यात्रा व नंदा की विदाई यात्रा से संदर्भित प्रश्न करते हैं। इन्हीं सवालों के साथ आगे बढ़ता नाट्य मंचन नौटी व बधाण क्षेत्र के नंदा के जागरों व पंवाड़ों के समावेश से जीवंतता प्रदान करता है। नाटक में प्रो.पुरोहित द्वारा संकलित जागरों को यथावत गाया गया है, जिससे वस्तुस्थिति को समझने में बड़ी मदद मिलती है। नाटक कुमाऊं व गढ़वाल की मिश्रित संस्कृति को दर्शाता है।



गरूड़व्यूह व शकटव्यूह पुस्तक का विमोचन
श्रीनगर। जीआईएंडटीआई मैदान में आयोजित नंदा राजजात यात्रा के मंचन से पूर्व शिशुपाल रावत द्वारा लिखित गरूड़व्यूह एवं शकटव्यूह पुस्तक का विमोचन किया गया। पुस्तक का विमोचन वरिष्ठ संस्कृतिकर्मी प्रो.डीआर पुरोहित, पालिकाध्यक्ष मोहनलाल जैन, साहित्यकार बीडी कुकरेती व डा.राकेश भट्ट ने किया। लेखक शिशुपाल रावत ने बताया कि गरूड़व्यूह एवं शकटव्यूह पुस्तक में महाभारतकालीन दो नाटकों का समावेश है। गरूड़व्यूह नाटक में अर्जुन व भीष्म युद्ध पर आधारित नाटक है, जिसमें कृष्ण गरूड़ का रूप धर अर्जुन के प्राणों की रक्षा करते हैं। जबकि शकटव्यूह में चक्रव्यूह के बाद अर्जुन द्वारा जयद्रथ वध की प्रतिज्ञा पूर्ण करने की घटना पर नाटक लिखा गया है।




फोटो
एहसान के कव्वाली ने किया मंत्र मुग्ध
श्रीनगर। मशहूर कव्वाल एहसान भारती घुंघरू वाले की कव्वालियों पर श्रीनगर के दर्शक मंत्र मुग्ध हुए। मेले के पांचवें दिन दर्शकों की फरमाइश पर कव्वाली गाने के साथ ही एहसान भारती ने कई गानों पर मुंह से घुंघरूओं की आवाज निकालकर खूब वाहवाही लूटी।
जीआईएंडटीआई मैदान में आयोजित कव्वाली नाइट के स्टार एहसान भारती और एहसान नूर ने कई विषयों पर कव्वाली गाकर दर्शकाें का मन मोहा। कौमी एकता से लेकर सूफियाना कलाम पर आधारित कव्वालियों को सुनने के लिए देर रात तक दर्शक कार्यक्रम स्थल पर डटे रहे। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में मुंह से घुंघरूओं की आवाज निकालने वाले कव्वाल एहसान ने कई गानों पर घुंघरूओं की आवाज निकाली।
दर्शकों की फरमाइश पर भी कई चर्चित गानों के साथ घुंघरूओं की आवाज निकालने पर उन्होंने खूब तालियां बटोरी। इस मौके पर पालिकाध्यक्ष मोहनलाल जैन, सभासद सुधांशु नौडियाल, मोहन नैथानी, राकेश सेमवाल, भगत सिंह रावत आदि मौजूद थे।
टीचर्स इलेवन की टीम विजेता
श्रीनगर। बैकुंठ चतुर्दशी मेले के उपलक्ष्य में महिला रस्साकशी प्रतियोगिता आयोजित की गई, जिसमें टीचर्स इलेवन की टीम विजेता और बीपीएड की टीम उपविजेता रही।
जीआईएंडटीआई मैदान में गुरुरामराय पब्लिक स्कूल और बीपीएड की टीम के बीच रस्साकशी प्रतियोगिता हुई, जिसमें बीपीएड ने श्रीगुरुरामराय पब्लिक स्कूल को 2-0 से हराकर फाइनल में प्रवेश किया। दूसरा मैच सेंट थेरेसॉस कान्वेंट स्कूल एवं टीचर्स इलेवन के बीच हुआ, जिसमें टीचर्स इलेवन ने 2-0 से जीत हासिल की। फाइनल मैच बीपीएड और टीचर्स इलेवन के मध्य हुआ, इसमें टीचर्स इलेवन ने बीपीएड की टीम को 2-0 से हराया। प्रतियोगिता के मुख्य अतिथि एलआईयू इंस्पेक्टर सुनील पाठक और विशिष्ट अतिथि सते सिंह भंडारी रहे। पालिका की ओर से विजेता पुरस्कृत किए गए। इस मौके पर राकेश सेमवाल, कृपाल सिंह पटवाल, अजय जैन, विपिन नौटियाल मौजूद थे।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper