गढ़वाली और कुमाऊंनी गीतों ने झूमाया

Pauri Updated Sun, 02 Dec 2012 05:30 AM IST
यमकेश्वर। शनिवार को यमकेश्वर महोत्सव के दूसरे दिन गढ़वाली और कुमाऊंनी गीतों ने लोगों को खूब झूमाया। इस मौके पर गढ़ श्रेष्ठ लोककला सांस्कृतिक समिति द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी गई।
कार्यक्रम का शुभारंभ क्षेत्रीय विधायक विजय बड़थ्वाल ने किया। बाबा केदारनाथ की वंदना से सांस्कृतिक कार्यक्रमों की शुरुआत की गई। क्षेत्र के महिला मंगल दल की महिलाओं के चौफला तथा छमिया लोकनृत्यों ने माहौल में पहाड़ी संस्कृति का रस घोल दिया। सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बाद यमकेश्वर की दशा एवं दिशा विषय पर एक परिचर्चा भी की गई। इसमें ब्लाक प्रमुख प्रशांत बडोनी, जिला पंचायत सदस्य विजय लखेड़ा और आकाशवाणी के पूर्व निदेशक चक्रधर कंडवाल ने विचार रखे। वक्ताओं ने क्षेत्र में बढ़ रहे पलायन और रोजगार जैसे मुद्दों पर अपने विचार रखे। इस मौके पर आयोजित खेल प्रतियोगिताओं में वालीबाल का उद्घाटन मैच कोटद्वार क्लब व आवई बी के बीच हुआ। वालीबाल के फाइनल मुकाबले में आवई बी ने बडोली ए को 25-18, 25-24-25-15 से हराया। महोत्सव में क्षेत्र के सुमंगला संघ द्वारा लगाए गए गढ़वाली व्यंजनों के स्टाल पर लोगों की भीड़ जुटी रही। महोत्सव के दौरान विक्रम सिंह रौथाण, अशोक नेगी, बलदेव प्रसाद कुकरेती, गणेश खुकसाल आदि लोग मौजूद थे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017