अनसुलझी पहेली बने दो-दो हत्याकांड

Pauri Updated Sat, 24 Nov 2012 12:00 PM IST
कोटद्वार। क्षेत्र में पिछले दिनों हुए दो हत्याकांड पुलिस के लिए अनसुलझी पहेली बन गए हैं। इन दोनों मामलों का खुलासा नहीं हो पाया है, जबकि पब्लिक की तरफ से इनके खुलासे के लिए दबाव तेज होता जा रहा है। एक मामले में तो मृतक की शिनाख्त तक नहीं हो पाई है।
गत नौ नवंबर की रात को ग्रास्टनगंज में सड़क से कुछ दूरी पर महिला का शव पड़ा मिला था। उसे 72 घंटे तक शिनाख्त के लिए रखा गया था। मगर जब उसकी पहचान नहीं हो पाई, तो फिर अंतिम संस्कार कर दिया गया था। दस नवंबर की रात को मोटाढाक के पास नंदपुर गांव में प्रदीप का शव उसके ही घर के पास मिला था। इस दोनों मामलों को हत्या का माना जा रहा है। हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए लोगों ने पूर्व विधायक के साथ मिलकर गत दिवस चक्का जाम भी किया। पुलिस को इसके खुलासे के लिए तीन दिन का समय दिया गया है, मगर पुलिस के हाथ इन दोनों ही मामलों में अभी तक खाली हैं। हालांकि सीओ अरुणा भारती का कहना है कि दोनों ही हत्याओं के खुलासे के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017