बस्तियों की तरफ हाथियों का मूवमेंट, दहशत

Pauri Updated Fri, 16 Nov 2012 12:00 PM IST
कोटद्वार। हाथियों ने बस्तियों का रुख फिर से करना शुरू कर दिया है। बुधवार रात एक टस्कर ने कुंभीचौड़ क्षेत्र के रिहायशी इलाके में घुस कर जमकर आतंक मचाया। रात करीब आठ बजे टस्कर कुंभीचौड़ चौराहे से होते हुए खेतों में घुस आया। जब लोगों ने उसे भगाने की कोशिश की तो वह लोगों के पीछे ही दौड़ पड़ा। बमुश्किल टस्कर को भगाया जा सका। दूसरी तरफ, हाथियों के एक झुंड ने सिद्घबली मंदिर के पास पीडब्ल्यूडी के गोदाम में रखे सामान को तहस नहस कर दिया। वन विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर हाथियों के झुंड को भगाया।
कुंभीचौड़ के ग्रामीणों के अनुसार, टस्कर ने खेतों में लगी तारबाड़ को तोड़ कर फसलों को कुचल डाला। साथ ही घरों के आस पास बगीचों में भी जमकर नुकसान किया। कुंभीचौड़ के जिस क्षेत्र में हाथी घुसा था, वह जंगल से काफी दूर है। साथ ही वह इलाका चारों तरफ से बस्ती से भी घिरा हुआ है। लोग इस बात से घबराए हुए हैं कि कैसे हाथी घरों के बीच से होते हुए खेतों में घुसा। रात के इस वक्त लोग अपने घरों के बाहर ही घूमते रहते हैं, ऐसे में कोई भी बड़ी दुर्घटना हो सकती थी। दूसरी तरफ, हाथियों के झुंड ने वन विभाग के कर्मचारियों की खूब कसरत कराई। सिद्धबली के निकट बने पीडब्ल्यूडी के गोदाम में हाथियों नेवहां रखे सामान को तहस-नहस कर दिया। सूचना मिलने पर वन विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर हाथियों को भगाया।



ग्रामीणों की जुबानी:
- हाथी का घरों के इतने करीब आ जाना चिंता की बात है। घर के बाहर ही टस्कर मेरे पीछे दौड़ पड़ा, बचने के लिए मुझे अपनी बाइक को छोड़कर भागना पड़ा। रात के इस समय तक लोग बाहर ही रहते हैं। डर है कि कभी कोई अनहोनी न हो जाए।- दीपक पांडे, स्थानीय निवासी

- टस्कर हम लोगों के घरों के बीच से होता हुआ खेतों में घुसा था। जो सच में डराने वाली बात है। हम वन विभाग को फोन लगाते रह गए, परंतु किसी का फोन नहीं लगा। तब हम लोगों ने ही किसी तरह शोर मचाकर व पटाखे फोड़कर हाथी को भगाया।- प्रदीप गौड़, स्थानीय निवासी

कोट----
- बुधवार को वन विभाग की टीम ग्रास्टनगंज व सिद्धबली के निकट पीडब्ल्यूडी के गोदाम में घुसे हाथियों के झुंड को भगाने में व्यस्त रही। जिस वजह से टस्कर को ट्रेस नहीं किया जा सका। जंगल में होने की वजह से फोन पर संपर्क नहीं हो पाया होगा। जल्द ही टस्कर की जानकारी लेकर उसके मूवमेंट पर नजर रखी जाएगी। -कन्हैयालाल, रेंजर कोटद्वार

यहा-यहां रहता है आतंक
-कोटद्वार और आसपास के अनेक क्षेत्रों में हाथियों का आतंक छाया रहता है। इनमें कुंभीचौड़, रतनपुर, लालपानी, सनेह, ग्रास्टनगंज, सुखरो क्षेत्र, पनियाली, सत्तीचौड़, पदमपुर मोटाढाक, झंडीचौड़, कलालघाटी, मालनक्षेत्र, किशनुपरी, आमसौड़ और कौड़िया का क्षेत्र शामिल है।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

हरियाणाः यमुनानगर में 12वीं के छात्र ने लेडी प्रिंसिपल को मारी तीन गोलियां, मौत

हरियाणा के यमुनानगर में आज स्कूल में घुसकर प्रिंसिपल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मामले में 12वीं के एक छात्र को गिरफ्तार किया गया है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper