आंदोलन की आंच में तप रहा शहर

Pauri Updated Sat, 13 Oct 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
रचना हत्याकांड का खुलासा, सीवीरमन का फर्जीवाडा और महंगाई पर रोज सड़क पर उतर रहे लोग
कामन इंट्रो
आम तौर पर शांत रहने वाला कोटद्वार शहर आंदोलन की आंच में तप रहा है। पिछले कई दिनों से सरकारी सिस्टम की लापरवाही ने लोगों को सड़कों पर आने के लिए मजबूर कर दिया है। रचना हत्याकांड का खुलासा नहीं हो पाया है, तो सीवी रमन इंस्टीट्यूट में फर्जीवाडे के मामले में हो रही कार्रवाई से छात्र संतुष्ट नहीं है। महंगाई और भ्रष्टाचार जैसे मामलों पर हर रोज जुलूस प्रदर्शन, पुतले फूंकने का क्रम जारी है।
छात्रों ने फूंकी जांच रिपोर्ट की प्रतियां
कोटद्वार। सीवी रमन इंस्टीट्यूट के छात्रों ने शुक्रवार को एसडीएम की जांच रिपोर्ट की प्रतियां फूंकी। छात्र एसडीएम की ओर से दी गई जांच रिपोर्ट से असंतुष्ट चल रहे हैं। छात्रों ने जांच रिपोर्ट को प्रबंधक को बचाने वाली बताया है। छात्रों ने यह भी आरोप लगाया है कि संस्थान के लोग आंदोलित छात्रों को धमका रहे हैं।
पिछले 18 दिनों से आंदोलन कर रहे छात्रों ने जांच रिपोर्ट की प्रतियां फूंक कर विरोध प्रदर्शन किया। तहसील में सभा के दौरान छात्र नेता जीवन जोशी ने कहा कि उनके साथ के कुछ छात्रों को डराया धमकाया जा रहा है। जोशी ने आरोप लगाया कि कई छात्रों से प्रैक्टिकल के नाम पर मजदूरी कराई जाती है। आंदोलित छात्रों ने सत्तीचौड़ में स्थापित टरबाइन फैक्ट्री की भी जांच कराने की मांग की। छात्रों ने कहा कि इसी फैक्ट्री में छात्रों को नौकरी दिए जाने का झांसा दिया जाता है। छात्रों ने कहा कि मांगें नहीं माने जाने तक उनका धरना जारी रहेगा। कई अन्य संगठनों से भी शिक्षा के बाजारीकरण का विरोध करने के लिए सहयोग मांगा जा रहा है। इस दौरान छात्रों को सहयोग देने पहुंचे कांग्रेस बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ के जेपी बुड़ाकोटी ने कहा कि छात्रों के साथ धोखाधड़ी करने वालों को कड़ी सजा मिलनी चाहिए। इस मौके पर चैतन्य, लालकृष्ण, पूनम, दिनेश, धर्मेश खंतवाल, अंजली, भावना, बबीता , रजनीकांत, फैज और प्रशांत आदि कई लोग मौजूद रहे।

संस्थान खुलाने की मांग उठाई
-दूसरी ओर इसी संस्थान के कुछ छात्रों ने संस्थान खुलवाने की मांग की है। इस समय संस्थान सील है। संस्थान को खुलवाने वाले छात्रों का कहना है कि संस्थान बंद रहने से उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ हो रहा है। मालवीय उद्यान में आयोजित बैठक में छात्रों ने कहा कि एसडीएम की रिपोर्ट भी आ चुकी है। छात्रों ने नायब तहसीलदार के माध्यम से एसडीएम को ज्ञापन दिया है।

कैमिकल जांच से कुछ खास की उम्मीद नहीं
कोटद्वार। रचना हत्याकांड से जुडे़ मामले में कपड़ों की कैमिकल जांच रिपोर्ट में कुछ भी खुलकर सामने नहीं आया है। इससे पुलिस व लोगों को काफी उम्मीदें थीं, लेकिन शुरूआत में ही कपड़ों को सही तरह से नहीं रखने के चलते रिपोर्ट प्रभावित हुई है।
बृहस्पतिवार को कोटद्वार पहुंची रिपोर्ट में क्या लिखा है इसकी आधिकारिक पुष्टि तो नहीं हो पाई, लेकिन विश्वसनीय सूत्रों से यह पता चला है कि न तो रचना के कपड़ों और न ही वहां पड़े पुरुष के कपड़ों की जांच में कुछ हाथ लगा है। यह भी शंका जताई जा रही है कि कपड़ों को जब्त करने के बाद उनको ऐसे ही रख दिया गया। उनको छाया में सुखाया जाना था, लेकिन उनको वैसे ही गीला रखा गया, जिससे रिपोर्ट प्रभावित होने की आशंका है।
वहीं दूसरी ओर जन अधिकार संयुक्त संघर्ष समिति का धरना लगातार जारी है। 21 वें दिन धरने पर बैठने वालों में रामेंद्र सिंह बिष्ट, राम चंद्र जुयाल, गणेश प्रसाद जुयाल, अनिल सिंह आदि थे। इस अवसर पर एडवोकेट प्रमोद राणा ने कहा कि सीबीसीआईडी जांच के आदेश में हो रही देरी से जनता में आक्रोश बढ़ रहा है। एडवोकेट दिपेंद्र दानी ने कहा कि ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए आरोपियों को सख्त सजा मिलनी जरूरी है। इस अवसर पर माधवी रावत ने कहा कि यह घटना पूरे क्षेत्र के लिए शर्मनाक है। इस अवसर पर गोपालकृष्ण बड़थ्वाल, अनुज भट्ट, जितेंद्र चौहान, ललित पटवाल, अनूप रावत, अरविंद चौधरी, जगदीश प्रसाद बुडाकोटी, यूथ कांग्रेस के महामंत्री सूरज प्रसाद कांती और पंकज बवाड़ी आदि उपस्थित थे।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Lucknow

मछली पालन के लिए खुदे गड्ढे में एक ही परिवार के दो बच्चों की डूबकर मौत, गांव में मचा कोहराम

मछली पालन के लिए खुदा गड्ढा दो बच्चों के लिए काल बन गया। एक ही परिवार के दो बच्चों की 12 फुट गहरे गड्ढे में भरे पानी में डूबकर मौत हो गई।

22 मई 2018

Related Videos

देहरादून में हुआ शानदार कार्यक्रम, झूमते नजर आए आम लोग

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अखिल गढ़वाल सभा की ओर से परेड ग्राउड में उत्तराखंड महोत्सव ‘कौथिग’ में पांचवे दिन लोक गायकों के गीत का जादू लोगों के सर चढ़कर बोला। लोकगायक अनिल बिष्ट, संगीता ढौडियाल, कल्पना चौहान, हीरा सिंह राणा ने समा बांध दिया।

30 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen